जयपुर

सड़क हादसे में जान गंवाने वाली वैकुंठी जाटव. (फोटो: राहुल शर्मा)

मोदी के कार्यक्रम की भेंट चढ़ी अलवर की दलित महिला, वसुंधरा सरकार ने दबाया मामला

विशेष रिपोर्ट: प्रधानमंत्री के जनसंवाद कार्यक्रम से लौटते समय सड़क दुर्घटना में हुई वैकुंठी जाटव की मौत. किसी योजना में लाभार्थी नहीं थीं मृतक. छत बनवाने का लालच देकर बुलाया था जयपुर.

Jaipur: Prime Minister Narendra Modi waves to the beneficiaries of various welfare schemes of the BJP government, at a meeting in Jaipur on Saturday, July 7, 2018. Rajasthan Chief Minister Vasundhara Raje and Union minister Rajyavardhan Singh Rathore are also seen. (PTI Photo) (PTI7_7_2018_000092B)

जयपुर में विरोध के ख़ौफ़ से भाषण में बदला मोदी का जनसंवाद, लोगों को नहीं मिला बोलने का मौका

विशेष रिपोर्ट: भाजपा में आस्था रखने वालों की छंटनी और मन-मुताबिक बोलने के प्रशिक्षण के बावजूद 12 फ्लैगशिप योजनाओं के लाभार्थियों के मन की बात सुनने की हिम्मत नहीं जुटा पाई राजस्थान सरकार. मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने चुनिंदा लोगों के वीडियो दिखाकर निभाई रस्म.

Bikaner:Youth  take part in a candle march in protest against the rape of an eight-year-old girl in Mandsaur, at Bikaner on Saturday,June

मंदसौर बलात्कार: जेलर की आशंका, आरोपियों को क़ैदियों से ख़तरा, भेजे जाएं किसी अन्य जेल

मंदसौर जेल अधीक्षक ने ज़िला अदालत को पत्र लिख कहा, आरोपियों के ख़िलाफ़ क़ैदियों में आक्रोश. मुख्यमंत्री शिवराज ने सीजेआई से की बलात्कार मामलों की फास्ट ट्रैक सुनवाई की मांग. सतना की चार वर्षीय बलात्कार पीड़िता को इलाज के लिए एम्स ले जाया गया. जयपुर में भी तीन साल की बच्ची से दुष्कर्म हुआ.

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

राजस्थान: 500 रुपये की दिहाड़ी दिलाने का झांसा देकर ग्रामीणों पर किया ड्रग ट्रायल

जयपुर के एक अस्पताल ने चुरू और भरतपुर से लाए गए तकरीबन 28 ग्रामीणों को एक अनजान टैबलेट दी थी. दवा की वजह से कुछ लोगों के हाथ पैर में दर्द और कुछ लोगों को नशा चढ़ने लगा था.

जयपुर में नींदड गांव में आवासीय योजना के लिए जयपुर विकास प्राधिकरण ने ज़मीन का अधिग्रहण किया था. इसके विरोध में यहां के किसानों ​ने अक्टूबर महीने में ज़मीन समाधि सत्याग्रह किया था. (फोटो: पीटीआई)

राजस्थान: ज़मीन अधिग्रहण का विरोध करने वाले 15 किसानों को न्यायिक हिरासत में भेजा

जयपुर में नींदड आवासीय योजना के विरोध में किसानों ने पिछले महीने ज़मीन समाधि सत्याग्रह किया था.

Jaipur Land Protest

राजस्थान के किसान भूमि को कब्ज़ामुक्त कराने के लिए कर रहे हैं ‘ज़मीन समाधि सत्याग्रह’

जयपुर विकास प्राधिकरण के नींदड़ आवासीय योजना के विरोध में पिछले दो दिनों से चल रहा है आंदोलन.

Ashok Vajpeyi facebook

अशोक वाजपेयी भाजपा सरकारों के आगे अपने हाथ पसारें, यह उन्हें शोभा नहीं देता

जवाहर कला केंद्र, जयपुर में होने वाले मुक्तिबोध समारोह के स्थगित होने से उपजे विवाद पर मध्य प्रदेश प्रगतिशील लेखक संघ के अध्यक्ष राजेंद्र शर्मा का पक्ष.

Muktibodh 2

भागीदारी और बहिष्कार को लेकर कोई एक नियम क्यों नहीं बना देते?

बहस-मुबा​हिसा: मुक्तिबोध जन्मशती वर्ष पर आयोजित एक कार्यक्रम का प्रगतिशील लेखक संघ ने बहिष्कार किया और कार्यक्रम रद्द हो गया. इस पर सवाल उठा रहे हैं लेखक अशोक कुमार पांडेय.

Muktibodh Youtube

मुक्तिबोध जन्मशती आयोजन का बहिष्कार मार्क्सवादी क्यों करने लगे?

लेखक संघों को अब पुराने ढर्रे की अपनी उस राजनीति पर फिर से सोचना चाहिए, जो लेखकों के विवेक पर भरोसा नहीं करती.

ज़फ़र हुसैन की बेटियां अपनी मां राशिदा को सांत्वना देते हुए. (फोटो: श्रुति जैन)

ग्राउंड रिपोर्ट: एक नागरिक की हत्या और बिना शौचालय, बिना पानी चल रहे स्वच्छता अभियान की कहानी

खुले में शौच कर रहीं महिलाओं की फोटो लेने का विरोध करने पर पीट पीटकर मार दिए गए ज़फ़र हुसैन के गांव का हाल.

(फोटो: पीटीआई)

केंद्र की राजस्थान सरकार को नसीहत, गोरक्षकों के ख़िलाफ़ करें कार्रवाई

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राजस्थान सरकार को निर्देश दिया है कि वो गोरक्षकों को लेकर उसकी ओर से जारी एडवाजरी को सही ढंग से लागू करे.

Indresh Kumar PTI

संघ के वरिष्ठ नेता ने कहा, जो लोग गोमांस खाते हैं उनका कोई मानवाधिकार नहीं होता

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ नेता इंद्रेश कुमार ने जयपुर में आयोजित संघ के एक प्रशिक्षण कार्यक्रम में गाय, गोमांस और अन्य मुद्दों पर बयान दिए.

Hingoniya Gaushala

गो-कल्याण मंत्रालय वाले राजस्थान में गाय सुरक्षित, गो-सेवक असुरक्षित

राजस्थान एकमात्र राज्य है जहां गो कल्याण मंत्रालय है, लेकिन जयपुर के हिंगोनिया गाय पुनर्वास केंद्र में काम कर रहे गो-सेवक न सिर्फ असुरक्षित हैं, बल्कि बेहद कम मेहनताने पर काम करने को मजबूर हैं.

Pehlu-Khan-family

पहलू ख़ान के गांव से ग्राउंड रिपोर्ट: मेरा क़सूर बस ये था कि मैं, मैं था!

हम सब मौत से वाक़िफ़ हैं. अपने अजीज़ लोगों को खोने की तकलीफ हम सबने सही है. हमने न भरे जा सकने वाले खालीपन को महसूस किया है. लेकिन इस मौत का एहसास अलग है. यह एक बेक़सूर की मौत है. यह नफ़रत से हुई मौत है. आप इसे जयसिंहपुर में देख सकते हैं.

hansal mehta

‘भंसाली के साथ वही हुआ जो सत्रह साल पहले मेरे साथ हुआ था’

मैं इस सिस्टम से नाराज हूं. मुझे इस पर गुस्सा है क्योंकि ये सिर्फ दिखावा करता है कि इसे हमारी फिक्र है पर असलियत इसके उलट है.