फिल्म

जय प्रकाश रेड्डी. (फोटो साभार: ट्विटर)

तेलुगू रंगमंच और फिल्म अभिनेता जय प्रकाश रेड्डी का निधन

जय प्रकाश रेड्डी को तेलुगू फिल्मों में निभाए गए उनके हास्य और विलेन के किरदारों के लिए जाना जाता है. आंध्र प्रदेश के गुंटूर स्थित उनके घर पर हृदय गति रुकने की वजह से उनका निधन हुआ. वह 74 वर्ष के थे.

चाडविक बोसमैन. (फोटो: रॉयटर्स)

‘ब्लैक पैंथर’ का किरदार निभाने वाले अमेरिकी अभिनेता चाडविक बोसमैन का कैंसर से निधन

अमेरिका की फिल्म निर्माण कंपनी मार्वल सिनेमैटिक यूनिवर्स की 2018 में आई फिल्म ‘ब्लैक पैंथर’ में अभिनेता चाडविक बोसमैन ने पहले अश्वेत सुपर हीरो का किरदार निभाया था, जिसने दुनिया भर में एक अरब डॉलर से ज़्यादा का कारोबार किया था.

Namrata Pankaj Tripathi Interview 19 August.00_33_39_11.Still002

गांव का विकास हो और वहीं रोज़गार मिले तो आदमी शहर क्यों जाएगा: पंकज त्रिपाठी

वीडियो: नेटफ्लिक्स पर हाल ही में रिलीज़ हुई फिल्म गुंजन सक्सेना में गुंजन के पिता का रोल निभाने वाले अभिनेता पंकज त्रिपाठी से नम्रता जोशी की बातचीत.

निशिकांत कामत. (फोटो साभार: ट्विटर)

‘दृश्यम’ और ‘मदारी’ जैसी फिल्मों के निर्देशक निशिकांत कामत का निधन

फिल्म निर्देशक और अभिनेता निशिकांत कामत को पिछले दो साल से लिवर सिरोसिस बीमारी थी. कामत ने साल 2005 में ‘डोंबिवली फास्ट’ से फिल्म निर्देशन का सफ़र शुरू किया था. इस फिल्म को मराठी भाषा में सर्वश्रेष्ठ फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुका है.

फिल्म गर्म हवा का एक दृश्य. (फोटो साभार: ट्विटर)

भारतीय फिल्मों में कभी अल्पसंख्यकों को सही तरह से दिखाया ही नहीं गया: एमएस सथ्यू

साक्षात्कार: भारतीय उपमहाद्वीप के बंटवारे का जो असर समाज पर पड़ा, उसकी पीड़ा सिनेमा के परदे पर भी नज़र आई. एमएस सथ्यू की ‘गर्म हवा’ विभाजन पर बनी सर्वश्रेष्ठ फिल्मों में से एक है. इस फिल्म समेत सथ्यू से उनके विभिन्न अनुभवों पर द वायर के संस्थापक संपादक सिद्धार्थ भाटिया की बातचीत.

अभिनेता जगदीप. (फोटो साभार: ट्विटर)

मशहूर कलाकार और हास्य अभिनेता जगदीप का निधन

जगदीप ने अपने 50 साल के करिअर में क़रीब 400 फिल्मों में काम किया. 1975 में आई फिल्म शोले के सूरमा भोपाली के उनके किरदार को प्रशंसक आज भी याद करते हैं. उनका डायलॉग ‘हमारा नाम सूरमा भोपाली एसे ही नहीं है’ काफी मशहूर है.

Hum Bhi Bharat Manoj 25 June 2020.00_53_46_17.Still005

बॉलीवुड में मेरा होना ही नेपोटिज़्म को चुनौती देता है: मनोज बाजपेयी

वीडियो: अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के बाद से बॉलीवुड में परिवारवाद और नेपोटिज़्म या भाई-भतीजावाद को लेकर बहस तेज़ हो गई है. इस मुद्दे को लेकर अभिनेता मनोज बाजपेयी से आरफ़ा ख़ानम शेरवानी की बातचीत.

Urmilesh Sushant Video Still

सुशांत की आत्महत्या, चैनलों की संवेदना की मौत

वीडियो: 14 जून को अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की अचानक मृत्यु के बाद कुछ समाचार चैनलों ने इस बारे में स्तरहीन ख़बरें चलाईं, जिसकी काफ़ी आलोचना हुई. इस बारे में वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश का नज़रिया.

SHK.00_24_59_06.Still004

मुट्ठी भर लोग बॉलीवुड चला रहे हैं: जतिन सरना

वीडियो: अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की अचानक मौत के बाद बॉलीवुड में आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है और इंडस्ट्री में भाई-भतीजावाद की संस्कृति पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं. इस मुद्दे पर द वायर के शेखर तिवारी की अभिनेता जतिन सरना से बातचीत.

सुशांत सिंह राजपूत. (फोटो साभार: ट्विटर)

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत अपने घर में मृत पाए गए

सुशांत सिंह राजपूत ने फिल्म काय पो चे से बॉलीवुड में कदम रखा था और शुद्ध देसी रोमांस, डिटेक्टिव ब्योमकेश बक्शी, एमएस धोनी: द अनटोल्ड स्टोरी, केदारनाथ और छिछोरे जैसी फिल्मों में नज़र आ चुके थे.

बासु चटर्जी. (फोटो साभार: ट्विटर/@FilmHistoryPic)

प्रख्यात फिल्मकार बासु चटर्जी का निधन

बासु चटर्जी को सारा आकाश, रजनीगंधा, छोटी-सी बात, उस पार, चितचोर, खट्टा मीठा, बातों बातों में, शौकीन, एक रुका हुआ फैसला और चमेली की शादी जैसी फिल्मों के लिए जाना जाता है. दूरदर्शन पर प्रसारित चर्चित धारावाहिक ब्योमकेश बक्शी और रजनी का निर्देशन भी उन्होंने ही किया था.

ऋषि कपूर. (फोटो साभार: ट्विटर/@chintskap)

अभिनेता ऋषि कपूर का 67 साल की उम्र में निधन

साल 2018 में ऋषि कपूर के कैंसर से पीड़ित होने के बारे में पता चला था. इसके बाद वे इलाज के लिए अमेरिका चले गए थे और क़रीब एक साल वहां रहने के बाद पिछले साल सितंबर में मुंबई लौटे थे.

इरफ़ान ख़ान. (फोटो साभार: फेसबुक/Irrfan)

प्रख्यात अभिनेता इरफ़ान ख़ान का निधन

साल 2018 में न्यूरोएंडोक्राइन कैंसर होने के बाद इरफ़ान ख़ान के स्वास्थ्य में सुधार नहीं हो सका था. इरफ़ान की 95 वर्षीय मां का चार दिन पहले ही जयपुर में इंतकाल हो गया था. लॉकडाउन के कारण वह उनके अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो सके थे.