मीडिया कवरेज

Untitled design

मीडिया बोल, एपिसोड 35: सबसे बड़ी स्वास्थ्य योजना का सच

मीडिया बोल की 35वीं कड़ी में उर्मिलेश बजट में स्वास्थ्य को लेकर किए गए वादों पर एनडीटीवी के पत्रकार हृदेश जोशी और अंबेडकर ​विश्वविद्यालय की असिस्टेंट प्रोफेसर दीपा सिन्हा से चर्चा कर रहे हैं.

Media Bol Episode 34

मीडिया बोल, एपिसोड 34: करणी सेना का उत्पात और कासगंज सांप्रदायिक हिंसा

मीडिया बोल की 34वीं कड़ी में उर्मिलेश फिल्म पद्मावत के विरोध में करणी सेना के उत्पात और कासगंज में हुई सांप्रदायिक हिंसा पर द हिंदू सेंटर फॉर पॉलीटिक्स एंड पब्लिक पॉलिसी की सीनियर फेलो​ स्मिता गुप्ता और अमर उजाला के सलाहकार संपादक विनोद अ​ग्निहोत्री से चर्चा कर रहे हैं.

Media Bol Episode 33

मीडिया बोल, एपिसोड 33: दलितों पर अत्याचार और बलात्कार

मीडिया बोल की 33वीं कड़ी में उर्मिलेश देशभर में दलितों पर हो रहे अत्याचार और बलात्कार की मीडिया कवरेज पर दिल्ली विश्वविद्यालय की सहायक प्रोफेसर कौशल पंवार और वरिष्ठ पत्रकार पूर्णिमा जोशी से चर्चा कर रहे हैं.

Episode 153.00_10_42_12.Still002

जन गण मन की बात, एपिसोड 153: राजनीति में वंशवाद और प्रदर्शनों की मीडिया कवरेज

जन गण मन की बात की 153वीं कड़ी में विनोद दुआ राजनीति में वंशवाद और मीडिया के विरोध प्रदर्शनों की कवरेज न करने पर चर्चा कर रहे हैं.

(कई दलितों ने इस तस्वीर को अपनी वॉट्सऐप प्रोफाइल पिक्चर बनाई थी)

गुजरात: मीडिया कवरेज के लिए दलित युवक ने ख़ुद को ब्लेड से किया था घायल

मूंछ रखने को लेकर दलित युवक ने ​की थी हमले की बात. पुलिस और परिवार वालों सहित युवक ने ख़ुद माना है कि उसने मीडिया कवरेज के लिए यह हरकत की.

Gurmeet Ram Rahim 1

राम रहीम के ‘कुकर्मों का खुलासा’ कर रहा मीडिया अब तक क्यों उनकी गोद में बैठा था?

राम रहीम पर लगे आरोप डेढ़ दशक पुराने हैं, लेकिन मीडिया तब जागा, जब दो बहादुर बेटियों और एक जांबाज़ पत्रकार ने जान की बाज़ी लगाकर न्याय की लड़ाई जीत ली.

TN15

‘जन की बात’: मीडिया की एकतरफा कवरेज और स्मार्ट सिटी योजना, एपिसोड 15

‘जन की बात’ की 15वीं कड़ी में वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ टीआरपी के लिए हो रहे एकतरफा और बेतुके मीडिया कवरेज और केंद्र सरकार की बहुप्रचारित ‘स्मार्ट सिटी’ योजना पर चर्चा कर रहे हैं.

LkoencounterPTI-1024x576 1

मतदान का दिन और एक कथित आईएस आतंकी का एनकाउंटर

क्या ज़्यादातर न्यूज़ चैनलों ने चुनाव के दिन जान-बूझकर ‘आईएसआईएस के कथित इंदौर-उज्जैन या लखनऊ मॉड्यूल’ का हौव्वा खड़ा किया ताकि मतदान को प्रभावित किया जा सके!