रिसर्च एंड एनालिसिस विंग

अरविंद कुमार (बाएं) और सामंत कुमार गोयल. (फोटो साभार: फेसबुक/आईपीएस एसोसिएशन)

वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी अरविंद कुमार आईबी के निदेशक और सामंत गोयल रॉ के सचिव नियुक्त

अरविंद कुमार और सामंत गोयल दोनों 1984 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने इन दोनों वरिष्ठ अधिकारियों के नियुक्ति की है.

AS Dulat THE WIRE

लोकसभा चुनाव से पहले पुलवामा हमला भाजपा के लिए तोहफाः पूर्व रॉ प्रमुख

रॉ के पूर्व प्रमुख एएस दुलत का कहना है कि राष्ट्रवाद युद्ध की ओर ले जाता है. हमें कश्मीरी नागरिकों से बात करनी चाहिए क्योंकि आगे बढ़ने का यही एक रास्ता है.

Lathepora: Security personnel carry out the rescue and relief works at the site of suicide bomb attack at Lathepora Awantipora in Pulwama district of south Kashmir, Thursday, February 14, 2019. At least 30 CRPF jawans were killed and dozens other injured when a CRPF convoy was attacked. (PTI Photo/S Irfan)  (PTI2_14_2019_000167B)

पुलवामा जैसी आतंकी घटना बिना सुरक्षा चूक के संभव नहींः पूर्व रॉ प्रमुख

खुफिया एजेंसी रॉ के पूर्व प्रमुख विक्रम सूद ने कहा कि इस हमले को किसी एक शख्स ने अंजाम नहीं दिया होगा. इसमें एक पूरी टीम शामिल होगी.

भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के पूर्व प्रमुख एएस दुलत, द स्पाई क्रॉनिकल किताब का कवर और पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के पूर्व प्रमुख असद दुर्रानी. (फोटो साभार: यूट्यूब/ट्विटर.)

रॉ के पूर्व प्रमुख के साथ पुस्तक लेखन पर आईएसआई के पूर्व प्रमुख तलब

भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के पूर्व प्रमुख एएस दुलत और पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के पूर्व प्रमुख असद दुर्रानी ने मिलकर ‘द स्पाई क्रॉनिकल्स: रॉ, आईएसआई एंड द इल्यूज़न ऑफ पीस’ नाम की किताब लिखी है.

Vinod Dua Episode 33

जन गण मन की बात: कुलभूषण जाधव और तमिलनाडु के किसान, एपिसोड 33

जन गण मन की बात की 33वीं कड़ी में विनोद दु​आ पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान द्वारा मौत की सज़ा सुनाए जाने और तमिलनाडु के किसानों के प्रदर्शन पर चर्चा कर रहे हैं.

FB Live

वीडियो: पाकिस्तान द्वारा कुलभूषण जाधव को सुनाई गई मौत की सज़ा पर चर्चा

पाकिस्तान द्वारा कुलभूषण जाधव को सुनाई गई मौत की सजा पर ​द वायर के संस्थापक संपादक सिद्धार्थ वरदराजन से द वायर कार्यकारी संपादक बृजेश सिंह की बातचीत.