वसुंधरा सरकार

कोटा की भामाशाह कृषि उपज मंडी में बिकने आया उड़द. (फोटो: अवधेश आकोदिया/द वायर)

राजस्थान में हाड़ौती के किसान उड़द को औने-पौने दाम पर बेचने को क्यों मजबूर हैं?

ग्राउंड रिपोर्ट: उड़द का न्यूनतम समर्थन मूल्य 5,600 रुपये प्रति क्विंटल है, लेकिन सरकारी केंद्रों पर ख़रीद शुरू नहीं होने की वजह से किसानों को 500 से 2,000 रुपये प्रति क्विंटल की दर से अपनी उपज बेचनी पड़ रही है.

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (फोटो: फेसबुक)

राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार मंत्रों से करेगी कैंसर, ब्लड प्रेशर व डिप्रेशन का इलाज

विशेष रिपोर्ट: सरकार ने इसके लिए जयपुर के जगद्गुरु रामानंदाचार्य राजस्थान संस्कृत विश्वविद्यालय में 22 करोड़ रुपये की लागत से मंत्र प्रतिष्ठान की स्थापना की है.

जयपुर स्थित जगद्गुरु रामानंदाचार्य राजस्थान संस्कृत विश्वविद्यालय. (फोटो: अवधेश आकोदिया/द वायर)

क्या राजस्थान का इकलौता संस्कृत विश्वविद्यालय बंद होने के कगार पर पहुंच गया है?

वसुंधरा सरकार की बेरुख़ी, कुलपति-शिक्षक विवाद और भर्तियों में धांधली की वजह से जयपुर स्थित जगद्गुरु रामानंदाचार्य राजस्थान संस्कृत विश्वविद्यालय में इस बार 200 से भी कम एडमिशन हुए हैं.

Rajasthan Farmer (1)

राजस्थान: आत्महत्या के बाद वसुंधरा सरकार ने किया किसान का क़र्ज़ माफ़

नागौर जिले के मंगल चंद ने पंजाब नेशनल बैंक से 2.98 लाख रुपये का क़र्ज़ लिया था. 1.75 लाख रुपये जमा करवाने के बावजूद बैंक 4.59 लाख रुपये मांग रहा था. ज़मीन की नीलामी का आदेश निकलने से तनाव में आए मंगल ने फांसी लगाकर जान दे दी.

642654-modi-raje-pti

वसुंधरा सरकार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभा में हंगामा होने का डर क्यों सता रहा है?

आगामी 7 जुलाई को जयपुर में होने वाली प्रधानमंत्री की सभा में हंगामे की आशंका के चलते सरकार इसके लिए भाजपा की विचारधारा से जुड़े लोगों को ही बुलावा भेज रही है.

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (फोटो: फेसबुक)

राजस्थान में कांग्रेस पर ज़मीनों की बंदरबांट का आरोप लगाने वाली भाजपा अब ख़ुद ऐसा क्यों कर रही है?

भाजपा सरकार सामाजिक संगठनों को ज़मीन आवंटित करने के लिए इतनी उतावली है कि स्वायत्त शासन व नगरीय विकास मंत्री श्रीचंद कृपलानी कह रहे हैं कि चाहे मुझे जेल ही क्यों न जाना पड़े, लेकिन सामाजिक संस्थाओं को रियायती दर पर ज़मीनें आवंटित की जाएंगी.

राजस्थान के छीपाबड़ौद की लहसुन मंडी का सरकारी ख़रीद केंद्र. (फोटो: अवधेश आकोदिया/द वायर)

वसुंधरा सरकार की बेरुख़ी के बीच दो और लहसुन उत्पादक किसानों ने आत्महत्या की

कृषि मंत्री का कहना है कि राजस्थान के किसानों में आत्महत्या की प्रवृत्ति नहीं है. जब तक जांच पूरी न हो जाए तब तक उसे आत्महत्या कहना ग़लत है.

छीपाबड़ौद की लहसुन मंडी का सरकारी खरीद केंद्र  (फोटो: अवधेश आकोदिया)

हमारे खाने का स्वाद बढ़ाने वाला लहसुन किसानों की सेहत क्यों बिगाड़ रहा है?

राजस्थान के हाड़ौती संभाग के किसानों ने पिछले साल लहसुन का अच्छा भाव मिलने की वजह से इस बार ज़्यादा लहसुन बोया, लेकिन कम भाव मिलने की वजह से अब तक तीन किसान आत्महत्या कर चुके हैं जबकि दो की सदमे से मौत हो गई है.

(फाइल फोटो: पीटीआई)

स्वामीनाथन आयोग की सिफ़ारिशें लागू करने की मांग पर ​विधानसभा घेरने आ रहे किसानों को रोका

राजस्थान की राजधानी जयपुर में किसानों की आवाजाही रोकने के लिए अतिरिक्त पुलिस बल तैनात. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मंगलवार को 84 किसान नेताओं की गिरफ़्तारी से किसानों में आक्रोश है.

vasundhara Deendayal Upadhyay

राजस्थान सरकार का आदेश, सरकारी लेटर पैड पर होगा दीनदयाल उपाध्याय का लोगो

कांग्रेस ने कहा कि भाजपा पार्टी के अंदर जिस तरह चाहे अपने नेता को याद करे, लेकिन सरकार को इससे जोड़ना नियमों के विरुद्ध. आदेश के ख़िलाफ़ जाएगी कोर्ट.