विनोद तावड़े

महाराष्ट्र के अकोला में चुनावी रैली को संबोधित करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. (फोटो:  @BJP4India)

राष्ट्र निर्माण का आधार हैं सावरकर के संस्कार, भारत रत्न से रखा गया वंचित: नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह बयान महाराष्ट्र के अकोला में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए दिया. इससे एक दिन पहले ही महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए जारी अपने घोषणा-पत्र में भाजपा ने सावरकर को भारत रत्न से सम्मानित करने का वादा किया था.

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए घोषणापत्र जारी करते भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस. (फोटो: ट्विटर)

महाराष्ट्र: भाजपा का घोषणापत्र में सावरकर को भारत रत्न देने का वादा

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा द्वारा जारी 40 पन्ने के घोषणापत्र में ज्योतिबा और सावित्रीबाई फुले को भी भारत रत्न देने की बात कही है. साथ ही युवाओं को एक करोड़ रोजगार उपलब्ध कराने सहित कई अन्य वादे किए गए हैं.

एकनाथ खड़से और विनोद तावड़े. (फोटो साभार: फेसबुक)

महाराष्ट्र: भाजपा ने खड़से की जगह बेटी को बनाया प्रत्याशी, कैबिनेट मंत्री तावड़े का भी टिकट कटा

भाजपा ने 21 अक्टूबर को होने वाले महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए सात उम्मीदवारों की चौथी सूची शुक्रवार को जारी कर दी. सूची में ऊर्जा मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले, भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रकाश मेहता और राज पुरोहित के नाम भी शामिल नहीं हैं.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णनवीस. (फोटो: पीटीआई)

महाराष्ट्रः मुख्यमंत्री फड़णवीस समेत 18 मंत्रियों ने नहीं चुकाया पानी का बिल, डिफॉल्टर घोषित

एक आरटीआई के जवाब में बीएमसी ने बताया कि मुख्यमंत्री के आधिकारिक बंगले ‘वर्षा’ पर लगभग साढ़े सात लाख रुपये का पानी का बिल बकाया है, जिसके लिए उन्हें डिफॉल्टर घोषित किया गया है. डिफॉल्टरों की सूची में मुख्यमंत्री के अलावा पंकजा मुंडे, एकनाथ शिंदे, विनोद तावड़े जैसे बड़े नेताओं के नाम भी शामिल हैं.

गोविंद पानसरे, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस और नरेंद्र दाभोलकर. (फोटो: पीटीआई)

दाभोलकर और पानसरे हत्या मामलों की धीमी जांच पर कोर्ट ने पूछा, मुख्यमंत्री क्या कर रहे हैं

बॉम्बे हाईकोर्ट ने नरेंद्र दाभोलकर और गोविंद पानसरे हत्या मामलों की धीमी जांच पर नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस के पास गृह सहित 11 विभाग हैं लेकिन इस मामले को देखने के लिए उनके पास वक़्त नहीं है.