व्यवस्था विरोधी प्रकाशन

लेखक और इतिहासकार रामचंद्र गुहा. (फोटो साभार: द हिंदू)

गौरी लंकेश की हत्या को संघ परिवार से जोड़ने के आरोप में रामचंद्र गुहा के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज

इतिहासकार गुहा ने ट्वीट किया था, ‘आज के भारत में स्वतंत्र लेखकों और पत्रकारों को प्रताड़ित किया जा रहा, यहां तक कि हत्या कर दी जा रही, लेकिन हमें चुप नहीं किया नहीं जा सकता.’

modi 1 copy

#BlockNarendraModi: क्यों ​ट्विटर पर नरेंद्र मोदी को ब्लॉक करने का अभियान चल रहा है?

गुरुवार सुबह से ही हैशटैग ‘ब्लॉकनरेंद्रमोदी’ ट्रेंड कर रहा है. कई लोगों ने ट्विटर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ब्लॉक करके प्रतिक्रियाएं लिखी हैं.

Gauri Lankesh Protest PTI

सत्ता उन लोगों से ख़तरा महसूस करती है जो जनता से जनता की भाषा में बात कर लेते हैं

जनता को नहीं पता होता कि उसके साथ सत्ता क्या कर रही है. ऐसे मेें ख़तरा उनसे होता है जो जनता से उनकी भाषा में सत्ता का सच बताते हैं. इसलिए उन्हें ख़ामोश करने की कोशिश की जाती है.

Episode 113.00_05_05_21.Still016

जन गण मन की बात, एपिसोड 113: पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या और रोहिंग्या मुसलमान

जन गण मन की बात की 113वीं कड़ी में विनोद दुआ बेंगलुरु में पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या और भारत के रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस भेजने के मामले पर चर्चा कर रहे हैं.

Bengaluru: Citizens with posters and placards during a protest against the killing of journalist Gauri Lankesh, who was shot dead by motorcycle-borne assailants outside her residence last night, during a protest in Bengaluru on Wednesday. PTI Photo by Shailendra Bhojak (PTI9_6_2017_000034A)

पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के विरोध में देशभर में प्रदर्शन और सभाएं

देश के विभिन्न राज्यों के पत्रकार संगठनों समेत आम नागरिकों ने इस जघन्य हत्या की निंदा की. अमेरिकी दूतावास और एमनेस्टी इंटरनेशनल ने भी चिंता जताई.

Gauri-Lankesh-2

ट्विटर पर मोदी जिन्हें फॉलो करते हैं वो लोग गौरी लंकेश की हत्या का ‘जश्न’ मना रहे हैं

हिंदुत्ववादी सांप्रदायिक राजनीति की कट्टर विरोधी गौरी लंकेश कर्नाटक से निकलने वाली साप्ताहिक पत्रिका ‘गौरी लंकेश पत्रिके’ की संपादक थीं.

Gauri Lankesh Facebook

वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की बेंगलुरु स्थित घर में गोली मारकर हत्या

हिंदुत्ववादी सांप्रदायिक राजनीति की कट्टर विरोधी गौरी लंकेश कर्नाटक से निकलने वाली साप्ताहिक पत्रिका ‘गौरी लंकेश पत्रिके’ की संपादक थीं.