स्टरलाइट हिंसा

तमिलनाडु के पर्यावरण कार्यकर्ता एस. मुलिगन. (फोटो साभार: यूट्यूब ग्रैब)

तमिलनाडु: लापता पर्यावरण कार्यकर्ता मुगिलन मिले, गुमशुदगी के संबंध में जांच शुरू

स्टरलाइट विरोधी आंदोलन में हुई गोलीबारी में तूतीकोरिन पुलिस के शामिल होने पर एक पत्रकार वार्ता करने के बाद 15 फरवरी से पर्यावरण कार्यकर्ता एस. मुगिलन लापता हो गए थे. लापता होने से कुछ घंटों पहले वे एक डॉक्यूमेंट्री रिलीज़ को लेकर पत्रकारों से मिले थे.

Sterlite Reuters

एनजीटी ने वेदांता के स्टरलाइट कॉपर प्लांट को बंद करने के फैसले को रद्द किया

तमिलनाडु सरकार एनजीटी के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देगी. राज्य सरकार ने प्रदूषण संबंधी चिंताओं पर हिंसक विरोध प्रदर्शनों के बाद इस साल 28 मई को वेदांता समूह के स्टरलाइट कॉपर प्लांट को बंद करने का निर्देश दिया था.

Chennai: Tamizhaga Vazhvurimai Katchi (TVK) members hold a demonstration condemning the police firing on protesters demanding the closure of Vedanta's Sterlite Copper unit in Tuticorin which lead to the death of 13 people, in Chennai, on Thursday. (PTI Photo)(PTI5_24_2018_000176B)

तूतीकोरिन से ग्राउंड रिपोर्ट: स्टरलाइट के कर्मचारियों की आपबीती सिहरन पैदा करने वाली है

वेदांता समूह के स्टरलाइट प्लांट के कर्मचारियों की व्यथा बताती है कि कंपनी का अपने कर्मचारियों के प्रति रवैया बेहद अमानवीय था.

Tuticorin: **FILE PHOTO** Vedanta's Sterlite Copper unit ,in Tuticorin on Thursday. PTI Photo(PTI5_24_2018_000232B)

तूतीकोरिन में वेदांता समूह के स्टरलाइट कॉपर संयंत्र को बंद करने का आदेश

22 मई को स्टरलाइट कॉपर के ख़िलाफ़ 100 दिनों से चल रहा प्रदर्शन हिंसक हो गया था और पुलिस गोलीबारी में 13 लोगों की मौत हो गई थी.

Tuticorin: Police personnel baton charge at protestors who were demanding the closure of Vedanta's Sterlite Copper unit, in Tuticorin, on Wednesday. In fresh violence today, one person was killed during the clash, after police's open fire killing at least ten people yesterday, and injuring many others. (PTI Photo) (PTI5_23_2018_000194B)

वेदांता द्वारा पर्यावरणीय नियमों की धज्जियां उड़ाने में मोदी सरकार का पूरा सहयोग रहा है

एनडीए सरकार द्वारा दिसंबर 2014 में पर्यावरण क़ानून में इस तरह के बदलाव किए गए, जिससे वेदांता के तूतीकोरिन प्रोजेक्ट जैसे कुछ विशेष प्लांट को इससे प्रभावित होने वाले लोगों के राय-मशविरे के बिना बनाने की मंज़ूरी मिली.

modi-vedanta

लंबे समय से वेदांता का इतिहास जनविरोधी गतिविधियों का ही रहा है

वेदांता की छवि हमेशा से ही पर्यावरण और मानवाधिकारों का उल्लंघन करने वाली कंपनी की रही है. दिलचस्प ये है कि कंपनी नरेंद्र मोदी सरकार के ‘विकास एजेंडा’ के झंडाबरदारों में से एक है.

EP 247 RAW

जन गण मन की बात, एपिसोड 247: तूतीकोरिन हिंसा और लोकसभा में भाजपा

जन गण मन की बात की 247वीं कड़ी में विनोद दुआ तूतीकोरिन में वेंदाता समूह के ख़िलाफ़ प्रदर्शन में लोगों की मौत और लोकसभा में भाजपा के संख्या बल में आई कमी पर चर्चा कर रहे हैं.