Ballia

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

लॉकडाउन: यूपी के बलिया और बांदा ज़िले में कथित आर्थिक तंगी के कारण दो मज़दूरों ने फांसी लगाई

उत्तर प्रदेश के बलिया ज़िले में उत्तराखंड से लौटे मज़दूर अंजनी कुमार सिंह ने पेड़ से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. वहीं, बांदा ज़िले में ईंट-भट्ठे में काम करने वाला मज़दूर सुखराज प्रजापति ने अपनी जान दे दी है.

Ballia: Police officials relocate prisoners from the flooded premises of district jail, located near River Ganga, in Ballia, Monday, Sept. 30, 2019. (PTI Photo) (PTI9_30_2019_000156B)

बारिश से बलिया जेल में भरा पानी, 800 से ज़्यादा क़ैदियों को दूसरी जेलों में भेजा जाएगा

उत्तर प्रदेश की बलिया ज़िला जेल में क़ैदियों के सोने की जगह पर एक फुट पानी भर गया है. शौचालय और सीवर ओवरफ्लो हो रहा है. उत्तर प्रदेश में पिछले कई दिनों से बारिश जारी है. बारिश के कारण बलिया के हालात ख़राब हैं.

मालेगांव धमाके के आरोपी मेजर रमेश उपाध्याय. (फोटा साभार: फेसबुक)

मालेगांव धमाके का एक अन्य आरोपी चुनावी मैदान में, कहा- करकरे का मारा जाना उनकी नालायकी का सबूत

मालेगांव धमाका मामले के आरोपी मेजर रमेश उपाध्याय ने शुक्रवार को हिंदू महासभा की ओर से उत्तर प्रदेश के बलिया से अपना नामांकन दाखिल किया.

Vinod-Tiwari-ANI

उत्तर प्रदेश: ज़िलाधिकारी और तहसीलदार से बदसलूकी करने के आरोप में भाजपा नेता गिरफ़्तार

उत्तर प्रदेश में बलिया के ज़िलाधिकारी ने बताया कि उन्हें जानकारी मिली थी कि भाजपा नेता विनोद तिवारी मतदाताओं को धमका रहे हैं. तिवारी के ख़िलाफ़ 12 मुकदमे दर्ज हैं. उनकी ग्राम प्रधान पत्नी के ख़िलाफ़ भी वित्तीय अनियमितता का मामला लंबित है.

रविंद्र कुशवाह (बाएं) और सुरेंद्र सिंह (दाएं), (फोटो साभार: Loksabha.nic.in और एएनआई)

अपनी ही सरकारों के खिलाफ धरना देंगे भाजपा सांसद और विधायक

उत्तर प्रदेश के बलिया ज़िले के सलेमपुर से भाजपा सांसद रविंद्र कुशवाहा और बैरिया से विधायक सुरेंद्र सिंह ने अपने-अपने लोकसभा और विधानसभा क्षेत्रों से संबंधित मांगों को लेकर अपनी ही सरकारों की घेराबंदी करने की तैयारी कर ली है.

Nirbhaya Parents 1

यूपी चुनाव: चार साल बाद भी निर्भया के गांव को वादों के सिवा कुछ न मिल सका

निर्भया बलात्कार कांड के चार साल बाद भी उनके गांव मेदौरा कलां की हालत जस की तस है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और दूसरे नेताओं की ओर से किए गए वादे अभी भी ज़मीन पर नहीं उतरे हैं.