Jay Amit Shah

Epsiode 19

मीडिया बोल, एपिसोड 19: जय अमित शाह के मानहानि का दावा

मीडिया बोल की 19वीं कड़ी में वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह द्वारा द वायर के ख़िलाफ़ मानहानि के दावे को लेकर रवीश कुमार और द वायर के संस्थापक संपादक एमके वेणु से चर्चा कर रहे हैं.

amit-jay-khandvala

जय शाह और खंडवाला के कारोबारी रिश्ते पर कुछ सवाल

सरकार न सिर्फ़ शाह का गवाह बनकर कूद पड़ी, बल्कि न्यायिक मदद का पूर्वानुमान लगाते हुए स्टोरी छपने के पहले ही इसके लिए एडिशनल साॅलिसिटर जनरल को इजाज़त भी दे दी.

Amit Shah Aaj Tak

बेटे के लोन के सवाल पर अमित शाह का ग़लत जवाब

इंडिया टुडे समूह के कार्यक्रम में अमित शाह ने उनके बेटे की कंपनी को लोन मिलने की बात अस्वीकार की, लेकिन जय शाह द्वारा दाख़िल किए गए दस्तावेज़ इसके उलट हैं.

amit shah pti

जय की कंपनी में भ्रष्टाचार का सवाल ही नहीं है: अमित शाह

अमित शाह ने कहा,‘कांग्रेस पर भ्रष्टाचार के कई आरोप लगे. क्या उन्होंने कभी कोई आपराधिक मानहानि या 100 करोड़ रुपये का दीवानी मानहानि का मुकदमा दायर किया.’

MODI hosabole pti

कोई सबूत हो, तो जय शाह के कारोबार की जांच होनी चाहिए: संघ नेता दत्तात्रेय होसबोले

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह पर लग रहे आरोपों पर पहली बार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की ओर से आया बयान.

amit shah-jay-shah-PTI

‘द वायर’ के ख़िलाफ़ आपराधिक मानहानि केस में कोर्ट नहीं पहुंचे जय शाह के वकील

16 अक्टूबर तक टली सुनवाई, जय शाह ने सोमवार को अहमदाबाद मेट्रोपॉलिटन अदालत में आपराधिक मानहानि का मामला दायर किया था.

yashwant-sinha

पीयूष गोयल केंद्रीय मंत्री हैं, वे जय अमित शाह की कंपनी के सीए नहीं हैं: सिन्हा

वरिष्ठ भाजपा नेता यशवंत सिन्हा ने कहा, ‘पार्टी ने इस प्रकरण के बाद अपना नैतिक आधार खो दिया है.’

Jay Amit Shah3

गरीबी के पीछे टेक्निकल रीज़न हो या न हो पर कुछ की अमीरी के पीछे टेक्निकल रीज़न ज़रूर है

आपके हाथ की लकीरों में ही भारत की क़िस्मत की लकीर है. और जिस दिन भारत की क़िस्मत चमक गई, उस दिन हम सब भारतीयों की क़िस्मत एक साथ चमक जाएगी.

Episode 4 plain

हम भी भारत, एपिसोड 04: जय अमित शाह का जादुई ‘विकास’

हम भी भारत की चौथी कड़ी में आरफ़ा ख़ानम शेरवानी द वायर में जय अमित शाह​ की कंपनी से जुड़ी रिपोर्ट लिखने वाली पत्रकार रोहिणी सिंह, कॉमन कॉज़ संस्था के विपुल मुद्गल और द वायर के संस्थापक संपादक एमके वेणु के साथ चर्चा कर रही हैं.