Jharkhand

Supporters of the Vishva Hindu Parishad (VHP), a Hindu nationalist organisation, arrive to attend "Dharma Sabha" or a religious congregation organised by the VHP in New Delhi, India, December 9, 2018. REUTERS/Adnan Abidi

राजनीतिक समाज का नया हथियार बनता जय श्री राम

क़ानून का राज होने के बाद भी भीड़ का राज क़ायम है. इस भीड़ को धर्म, जाति और परंपरा के नाम पर छूट मिली है. किसी औरत को डायन बताकर मार देती है, जाति तोड़कर शादी करने वालों की हत्या कर देती है. इसी कड़ी में अब यह शामिल हो गया है कि अपराध करने वाला या झगड़े की ज़द में आ जाने वाले मुसलमान को जय श्री राम के नाम पर मार दिया जाएगा.

तबरेज़ अंसारी. (फोटो साभार: फेसबुक)

झारखंड: भीड़ ने मुस्लिम युवक को पीटा और जय श्री राम के नारे लगवाए, अस्पताल में मौत

यह घटना झारखंड के सरायकेला खरसावां जिले की हैं. आरोप है कि 18 जून को एक मुस्लिम युवक को बेरहमी से कई घंटों तक एक खंभे से बांधकर पीटा गया. उससे जबरन ‘जय श्रीराम’ और ‘जय हनुमान’ के नारे लगवाए गए. पुलिस ने जांच के लिए एसआईटी का गठन किया.

(फोटो: रॉयटर्स)

झारखंड: क्या लोकसभा चुनाव में भाजपा को मिली क़ामयाबी से विपक्ष सबक ले पाएगा?

झारखंड में महागठबंधन और जन विरोध के बावजूद भाजपा बड़ी जीत हासिल करने में कामयाब रही. राज्य गठन के बाद हुए लोकसभा चुनावों के वोट शेयर का आकलन किया जाए, तो यह स्पष्ट होता है कि झारखंड लंबे समय से इस परिणाम की ओर बढ़ रहा था. अब सवाल ये है कि क्या वे लोकसभा चुनाव में मिली हार के अनुभव से सीखते हुए चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार हैं.

रामचरण मुंडा का परिवार. (फोटो साभार: एएनआई)

झारखंड: कथित तौर पर भूख से एक बुज़ुर्ग की मौत

परिवारवालों का कहना है कि पिछले तीन दिनों से घर में अन्न का एक दाना भी नहीं था, इसलिए भूख से बुजुर्ग की मौत हो गई. वहीं, प्रशासन ने भूख से मौत होने की बात से इनकार किया है.

आदिवासी महिला का शव. (फोटो: आनंद दत्ता)

झारखंड की ये ‘निर्भया’ बलात्कार और हिंसा के चलते चार महीने कोमा में रही, फिर चल बसी

ग्राउंड रिपोर्ट: झारखंड के लातेहार ज़िले में बीते जनवरी में दो बच्चों की मां के साथ सामूहिक बलात्कार और मारपीट की गई, जिसके बाद वह कोमा में चली गईं. तकरीबन चार महीने कोमा की हालत में एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल भटकने के बाद इस आदिवासी महिला की मौत हो गई.

चिलिया देवी अपने बच्चों के साथ ​बेटी की शादी का वो कार्ड दिखाती हुईं, जिसके कवर पेज पर लिखा हुआ है कि सुगनू गांव जाने वाले दोपहिया वालों के लिए पहचान पत्र के साथ-साथ हेलमेट आवश्यक है. (फोटो: असग़र ख़ान)

झारखंड का एक गांव, जहां कहीं आने-जाने के लिए सेना की लेनी होती है अनुमति

ग्राउं​ड रिपोर्ट: झारखंड की राजधानी रांची के नज़दीक स्थित सुगनू गांव के लोगों को आर्मी कैंप की वजह से कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है.

जीतराई हांसदा. (फोटो साभार: ट्विटर/@JharkhandJanad1)

झारखंड: बीफ़ खाने के अधिकार पर कथित पोस्ट लिखने वाले आदिवासी प्रोफेसर गिरफ़्तार

आदिवासी प्रोफेसर जीतराई हांसदा के वकील ने कहा कि उनके ख़िलाफ़ जून, 2017 में मामला दर्ज किया गया था. वकील ने आशंका जताई कि यह गिरफ़्तारी जानबूझकर चुनावों के बाद की गई है. चुनाव से पहले गिरफ़्तारी करके भाजपा आदिवासियों को नाराज़ करके चुनावों में उनका वोट गंवाना नहीं चाहती थी.

Jamshedpur: Chief Minister of Jharkhand Raghubar Das addresses the gathering during reopening ceremony of Chapri Rakha Mines at Jadugora area near Jamshedpur, Saturday, Feb 2, 2019. (PTI Photo) (PTI2_2_2019_000196B)

झारखंड: एनडीए ने 12 सीटों पर जीत दर्ज की, शिबू सोरेन, बाबूलाल, सुबोधकांत जैसे दिग्गज हारे

चुनाव आयोग से मिली जानकारी के मुताबिक, राज्य की 14 सीटों में से भाजपा 11, आजसू एक, कांग्रेस एक और झारखंड मुक्ति मोर्चा एक सीट जीती है.

Chennai: Workers carry boxes containing Electronic Voting Machines (EVM) and Voter Verified Paper Audit Trail machines (VVPATs) at a distribution centre, ahead of the second phase of the 2019 Lok Sabha elections, at Nandhanam Arts College in Chennai, Wednesday, April 17, 2019. (PTI Photo/R Senthil Kumar)(PTI4_17_2019_000108B)

यूपी-बिहार में कई जगहों पर ईवीएम की संदिग्ध आवाजाही पर उठे सवाल, चुनाव आयोग ने ख़ारिज किया आरोप

उत्तर प्रदेश के ग़ाज़ीपुर, चंदौली, डुमरियागंज, मऊ के साथ बिहार के सारण और महाराजगंज में ईवीएम की संदिग्ध आवाजाही का आरोप लगाया गया है. चुनाव आयोग ने आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए कहा है कि सभी मामलों को सुलझा लिया गया है.

झारखंड के डुमका लोकसभा क्षेत्र में एक मतदान केंद्र के बाहर वोटिंग के लिए कतार में खड़े मतदाता. (फोटो साभार: एएनआई)

लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में आठ राज्यों की 59 सीटों पर मतदान शुरू

लोकसभा चुनाव के सातवें और आखिरी चरण के मतदान में मतदाता उत्तर प्रदेश की वाराणसी सीट से चुनाव लड़ रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत 918 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे.

झारखंड के खूंटी ज़िले के कोचांग गांव में स्थित मिशन स्कूल जहां युवतियां नुक्कड़ नाटक करने गई थीं.

खूंटी सामूहिक बलात्कार मामले में फादर अल्फोंसो सहित सभी छह दोषियों को उम्रक़ैद की सज़ा

पिछले साल विस्थापन एवं मानव तस्करी के विरूद्ध जागरूकता फैलाने के अभियान के तहत पांच महिलाएं झारखंड के खूंटी ज़िले के कोचांग गांव गई थीं. आरसी मिशन स्कूल से उनका अपहरण कर उनके सामूहिक बलात्कार किया गया था.

हरियाणा के करनाल संसदीय क्षेत्र में एक मतदान केंद्र के बाहर मतदान के लिए लाइन में खड़े मतदाता. (फोटो साभार: एएनआई)

लोकसभा चुनाव के छठे चरण में सात राज्यों की 59 सीटों पर मतदान शुरू

छठे चरण में दिल्ली की सात सीटों के साथ उत्तर प्रदेश की 14, हरियाणा की 10, बिहार, मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल की आठ-आठ तथा झारखंड की चार सीटों पर भी मतदान हो रहा है.

8th bulletin thumbnail (1)

द वायर बुलेटिन: राजीव गांधी को ‘भ्रष्टाचारी नंबर वन’ कहने वाले बयान पर भी चुनाव आयोग ने मोदी को क्लीनचिट दी

चुनाव आयोग को भाजपा नेताओं के ख़िलाफ़ सबसे अधिक आचार संहिता उल्लंघन की शिकायतें मिलने समेत दिनभर की महत्वपूर्ण ख़बरों का अपडेट.

झारखंड के खूंटी ज़िले के कोचांग गांव में स्थित मिशन स्कूल जहां युवतियां नुक्कड़ नाटक करने गई थीं.

झारखंड: सामाजिक कार्यकर्ताओं से गैंगरेप मामले में मिशनरी स्कूल के प्रमुख सहित छह दोषी क़रार

पिछले साल जून में विस्थापन एवं मानव तस्करी के विरुद्ध जागरूकता फैलाने के अभियान के तहत पांच महिलाएं खूंटी ज़िले के कोचांग गांव गई थीं. उनका आरसी मिशन स्कूल से कथित तौर पर अपहरण कर सामूहिक बलात्कार किया गया था. मामले में 15 मई को सज़ा सुनाई जाएगी.

भीड़ के हमले में घायल पीटर केरकेट्टा. (फोटो साभार: ट्विटर)

झारखंड आदिवासी लिंचिंग के पीड़ितों ने कहा, हमें पीटने वाली भीड़ जय श्रीराम के नारे लगा रही थी

झारखंड के गुमला ज़िले में बीते 10 अप्रैल को गोहत्या के शक में भीड़ ने कुछ आदिवासियों पर हमला कर दिया था. इसमें एक आदिवासी की मौत हो गई थी, जबकि तीन अन्य घायल हो गए थे.

India Violence Reuters

देश की आज़ादी से भी पुरानी हैं चुनावी हिंसा की जड़ें

चुनावी बातें: चुनाव में होने वाली हिंसा की नींव आज़ादी से पहले ही पड़ चुकी थी. झारखंड (तत्कालीन बिहार) में मार्च 1946 में हिंसक तत्वों ने संविधान सभा के प्रतिनिधि के चुनाव को भी स्वतंत्र व निष्पक्ष नहीं रहने दिया था.

31st March 2019: From (Left to Right) Rashtriya Janta Dal (RJD) State President,Gautam Sagar Rana,Congress State President,Ajoy Kumar, Jharkhand Vikas Morcha (JVM) Chief,Babulal Marandi,Jharkhand Mukti Morcha (JMM) Working President,Hemant Soren,and Congress MLA-Alamgir Alam,during Mahagathbandhan meeting for manifesto and joint campaigning  (Lok Sabha Election-2019),in Ranchi on Sunday, March 31,2019.Photo by Mukesh Kumar Bhatt

Mukesh Kumar Bhatt
c/o-Lakshman Rai
Kailashpuri,Manitola
Pathar Road,Hinoo,
Doranda,Ranchi 
Jharkhand-834002
Phone No-
09304878585

झारखंड में महागठबंधन ने किसी अल्पसंख्यक को टिकट क्यों नहीं दिया?

झारखंड की सभी 14 लोकसभा सीटों के लिए महागठबंधन में शामिल कांग्रेस, झारखंड मुक्ति मोर्चा, झारखंड विकास मोर्चा और राजद ने किसी भी अल्पसंख्यक चेहरे को चुनाव मैदान में नहीं उतारा है.

भीड़ के हमले में घायल पीटर केरकेट्टा. (फोटो साभार: ट्विटर)

झारखंडः गोहत्या के शक़ में भीड़ के हमले में घायल तीनों आदिवासियों के ख़िलाफ़ केस दर्ज

झारखंड के गुमला ज़िले में गोहत्या के संदेह में भीड़ ने आदिवासियों पर हमला कर दिया था. इससे एक व्यक्ति की मौत हो गयी थी और तीन लोग घायल हो गए थे.

(फोटो: पीटीआई)

झारखंड: रामगढ़ ज़िले में रामनवमी जुलूस में झड़प, सीओ समेत 12 घायल

पुलिस के अनुसार, शनिवार शाम जब रामनवमी का जुलूस सिलनी गांव से होकर गुजर रहा था उसी समय दूसरे संप्रदाय के लोगों ने यह सोचकर कि जुलूस में शामिल लोग अपना रास्ता बदल रहे हैं उन पर पथराव शुरू कर दिया जबकि जुलूस अपने निर्धारित मार्ग पर ही था.

Gumla Map

झारखंड: गोहत्या के शक़ में भीड़ ने की आदिवासियों की पिटाई, एक की मौत

घटना गुमला ज़िले के जुरमू गांव में हुई, जहां आदिवासी समुदाय के कुछ लोग एक मृत बैल का मांस निकाल रहे थे, जब पड़ोस के गांव के कुछ लोगों ने उन्हें देखा और गोहत्या के संदेह में उन पर हमला कर दिया. इसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई और तीन घायल अस्पताल में भर्ती हैं.

अर्थशास्त्री और कार्यकर्ता ज्यां द्रेज. (फोटो: द वायर)

झारखंड: अर्थशास्त्री और सामाजिक कार्यकर्ता ज्यां द्रेज़ को हिरासत में लिया गया, रिहा

द्रेज़ को गुरुवार सुबह आचार संहिता के दौरान बिना प्रशासनिक अनुमति के सार्वजनिक बैठक करने के चलते हिरासत में लिया गया था.

गौतम अडानी (फोटो: रॉयटर्स)

झारखंड में अडाणी पावर की 14,000 करोड़ रुपये की सेज़ परियोजना को मंज़ूरी

अडाणी पावर को झारखंड के गोड्डा ज़िले में 222.68 हेक्टेयर भूमि क़ब्ज़े की औपचारिक मंज़ूरी मिली है. शेष 202.32 हेक्टेयर भूमि के लिए मंजूरी मिलनी बाकी है. विशेष आर्थिक क्षेत्र में स्थापित इकाइयों को सरकार कर लाभ सहित कई सुविधाएं देती है.

Jamshedpur: Chief Minister of Jharkhand Raghubar Das addresses the gathering during reopening ceremony of Chapri Rakha Mines at Jadugora area near Jamshedpur, Saturday, Feb 2, 2019. (PTI Photo) (PTI2_2_2019_000196B)

क्यों झारखंड में आदिवासियों के लिए सरकारी राशन लेना दिनोंदिन मुश्किल होता जा रहा है

झारखंड में रघुबर दास के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत राशन लेने के लिए राशन कार्ड में दर्ज सभी सदस्यों का आधार लिंक करवाना अनिवार्य कर दिया है. इस निर्णय से आने वाले दिनों में बड़े पैमाने पर लोग राशन से वंचित हो सकते हैं.

(फाइल फोटो)

क्यों सरकारी योजनाओं के बावजूद झारखंड की जनजातियों को खाने की किल्लत से दो-चार होना पड़ता है

झारखंड के लातेहार ज़िले के आदिम जनजाति परिवारों को अन्त्योदय अन्न योजना और सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना का लाभ लेने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.

गोमांस ले जाने के शक में भीड़ ने अलीमुद्दीन अंसारी की पीट-पीटकर हत्या करने के बाद उनकी में आग लगा दी थी. (फाइल फोटो: ट्विटर)

गोमांस के शक़ में ज़ब्त किया गया 93 प्रतिशत मीट भैंस और बैल का था: रिपोर्ट

हैदराबाद के ‘मांस पर राष्ट्रीय अनुसंधान केंद्र’ की रिसर्च में पता चला है कि 2014 से 2017 के बीच पुलिस और पशुपालन विभाग के अधिकारियों द्वारा पकड़े गए मांस में से सिर्फ सात प्रतिशत ही गोमांस था.

Tokyo: Prime Minister Narendra Modi addresses the Indian diaspora at an event, in Tokyo, Monday, Oct 29, 2018. (PIB Photo via PTI)(PTI10_29_2018_000024)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की झारखंड में होने वाली सभा में काले रंग की सभी वस्तुओं पर प्रतिबंध

झारखंड के मेदिनीपुर में आगामी पांच जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक सभा को संबोधित करेंगे. राज्यभर के संविदा शिक्षकों के प्रदर्शन की आशंका के चलते प्रशासन ने उठाया क़दम.

Latehar

लातेहार मॉब लिंचिंग: परिजनों ने कहा, दोषियों को सज़ा होने के बाद भी मिल रहीं धमकियां

झारखंड के लातेहार ज़िले के बालूमाथ में साल 2016 में दो पशु व्यापारियों की भीड़ ने पीट-पीट कर हत्या कर दी थी. मृतकों के परिवारों ने झारखंड सरकार से उचित सुरक्षा मुहैया कराने के साथ ही मुआवज़े की मांग की है.

प्रतीकात्मक फोटो रॉयटर्स

कई सारे रिपोर्ट्स के बावजूद केंद्र सरकार ने कहा, भूख से मौतों के बारे में कोई जानकारी नहीं

बीते मंगलवार को लोकसभा में सरकार ने कहा कि किसी भी राज्य ने भूख से मौत की जानकारी नहीं दी है. कई मीडिया रिपोर्टों में भूख से मौत का दावा किया गया है लेकिन जांच में ये सही नहीं पाया गया.

Latehar

झारखंड: लातेहार में दो पशु व्यापारियों को पीट-पीटकर मारने के मामले में आठ लोग दोषी क़रार

बीते 17 मार्च 2016 को 32 वर्षीय मजलूम अंसारी और 13 वर्षीय इम्तियाज़ को गोहत्या के शक में भीड़ द्वारा हत्या कर शवों को पेड़ पर लटका दिया गया था.

झारखंड में प्रदर्शनरत शिक्षक. (फाइल फोटो साभार: ​फेसबुक/Indian City News)

झारखंड: रघुबर दास के मंत्री के घर के बाहर धरना दे रहे शिक्षक की मौत

रांची में प्रदर्शन के दौरान लाठीचार्ज में घायल हुए एक अन्य शिक्षक की भी मौत. झारखंड में अनुबंधित शिक्षक अपनी सेवा को नियमित करने एवं अन्य मांगों को लेकर पिछले तीन महीने से प्रदर्शन कर रहे हैं.

झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास. (फोटो साभार: फेसबुक)

झारखंड: क्या भूख से होने वाली मौतें 2019 के चुनावों में मुद्दा बनेंगी?

झारखंड सरकार ने तो भुखमरी के मुद्दे से अपना मुंह ही फेर लिया है. उल्टा, जो लोग भुखमरी की स्थिति को उजागर कर रहे हैं, सरकार उनकी मंशा पर लगातार सवाल कर रही है.

आंगनबाड़ी सेविका पिंकी देवी (बीच में). (फोटो: नीरज सिन्हा/द वायर)

झारखंड सरकार पोषण महीना मनाने में व्यस्त, आंगनबाड़ियों में चार महीने से नहीं पहुंचा पोषाहार

झारखंड की रघुबर दास सरकार पोषण पर ज़ोर दे रही है. पूरा सितंबर पोषण महीने के तौर पर मनाया गया. कार्यक्रमों की होड़ रही, मंत्री और अधिकारी जुटे रहे, लेकिन चार महीने से आंगनबाड़ी केंद्रों में गर्भवती महिलाओं और बच्चों को पोषाहार नहीं मिल पा रहा है.

Usha Martin

झारखंड: उषा मार्टिन के कर्मचारी संगठन ने वेतन अनियमितता को लेकर सरकार से दख़ल की मांग की

कर्मचारी संगठन ने झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास का लिखा पत्र. कर्मचारियों का आरोप है कि पिछल दो या तीन साल से कंपनी समय से वेतन नहीं दे रही है.

aadhaar-1-1200x563

क्या पिछले दो साल में आधार के कारण 25 लोगों की मौत भूख से हो गई?

झारखंड में पिछले साल हुई 11 साल की संतोषी कुमारी की मौत के एक साल बाद सामाजिक कार्यकर्ताओं ने 2015 के बाद से कथित भूख से हुई मौतों की एक सूची जारी की है.

Dumka Jharkhand

झारखंड में ट्रक ने बच्चे को कुचला, चालक की पीट-पीटकर हत्या

झारखंड के दुमका ज़िले की घटना. बीते पांच सितंबर को राज्य के पलामू ज़िले में लड़की देखने बिहार से गए एक व्यक्ति की भीड़ ने चोर होने के संदेह में पीट पीट कर हत्या कर दी थी.

(फोटो साभार: फेसबुक)

झारखंड: अदालत ने राज्य सरकार द्वारा पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर लगाया प्रतिबंध हटाया

झारखंड हाईकोर्ट ने राज्य सरकार के 21 फरवरी, 2018 के उस फैसले को ख़ारिज कर दिया जिसमें पीएफआई पर यह तर्क देते हुए प्रतिबंध लगाया गया था कि संगठन आईएसआईएस की विचारधारा से प्रेरित है.

jharkhand

झारखंडः क्या ईसाई संगठनों पर दमनकारी रवैया अपना रही सरकार?

झारखंड में ईसाई संगठन और चर्च राज्य सरकार के रवैये पर लगातार सवाल खड़े कर रहे हैं. जबकि कुछ घटनाओं को केंद्र में रखकर भाजपा तथा आरएसएस-विहिप भी मिशनरी संस्थाओं पर निशाना साधने का कोई मौका नहीं छोड़ रही है.