Modi Govt

उत्तर प्रदेश के बरेली में घर वापस लौटे मजदूरों को सैनिटाइजर से नहलाया जा रहा है. (फोटो: ट्विटर/वीडियो ग्रैब)

कोरोना: वापस उत्तर प्रदेश लौटे मजदूरों को सैनिटाइजर से नहलाया गया, विपक्ष ने बताया ‘अमानवीय’

मामला उत्तर प्रदेश बरेली शहर का है. जिलाधिकारी नीतीश कुमार ने कहा कि बरेली नगर निगम एवं फायर ब्रिगेड की टीम को बसों को सैनेटाइज करने के निर्देश थे, पर अतिसक्रियता के चलते उन्होंने ऐसा कर दिया. संबंधित लोगों के विरुद्ध कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं.

**EDS: VIDEO GRAB** New Delhi: Prime Minister Narendra Modi gestures during his address to the nation on coronavirus pandemic in New Delhi, Thursday, March 19, 2020. (PTI Photo)(PTI19-03-2020_000207B)

10 सालों में प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से तक़रीबन 50 फ़ीसदी राशि ही ख़र्च की गई

कोरोना वायरस से निपटने में आर्थिक मदद देने के लिए केंद्र ने ‘पीएम केयर्स फंड’ की घोषणा की है. हालांकि इसके जैसा ही पहले से मौजूद प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष में प्राप्त राशि का काफ़ी कम हिस्सा ख़र्च किया जा रहा है और 2019 के आख़िर तक में इसमें 3800 करोड़ रुपये का फंड बचा था.

Kolkata: A migrant labourer carries his daughter on a trolley bag after he could not find any transport to return to his native place during the nationwide lockdown imposed in the wake of coronavirus pandemic, in Kolkata, Friday, March 27, 2020. (PTI Photo/Swapan Mahapatra)(PTI27-03-2020 000111B)

लॉकडाउन: वेतन में कटौती न करने, मज़दूरों और छात्रों से किराया न लेने का आदेश

गृह मंत्रालय की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि सभी नियोक्ता, चाहे वह उद्योग में हों या दुकानों और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में, लॉकडाउन की अवधि में अपने श्रमिकों के वेतन का भुगतान बिना किसी कटौती के करेंगे.

A migrant worker carries her daughter as she walks on a highway with others looking out for a transport to return to their villages, after India ordered a 21-day nationwide lockdown to limit the spreading of coronavirus disease (COVID-19), in Ghaziabad, on the outskirts of New Delhi, March 26, 2020. REUTERS/Adnan Abidi

कोरोना से निपटने के सरकार के कदम ग़रीब-विरोधी हैं

सरकार द्वारा ग़रीबों की मदद के नाम पर स्वास्थ्य संबंधी मामूली घोषणाएं की गई हैं. हमें नहीं पता अगर कोई ग़रीब कोरोना से संक्रमित हुआ तो उसे उचित स्वास्थ्य सुविधा मिल सकेगी. अगर अस्पताल में भर्ती होने की नौबत आई तो बेड और वेंटिलिटर जैसी सुविधाएं मिलेंगी?

Hyderabad: A medic looks on at a patient who has shown positive symptoms for coronavirus (COVID -19) at an isolation ward in Hyderabad, Tuesday, March 10, 2020. (Credit: PTI)

कोरोना: देश में अब तक 29 लोगों की मौत, संक्रमित लोगों की संख्या 1,000 के पार

कोरोना वायरस से दुनियाभर में संक्रमित लोगों की संख्या सात लाख का आंकड़ा पार कर गई है और 33,000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है.

(फोटो साभार: ईपीएफओ)

कोरोना लॉकडाउन: कर्मचारी भविष्य निधि से पैसा निकालने की अनुमति

कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिए देशव्यापी ‘लॉकडाउन’ की वजह से लोगों को राहत देने के लिए श्रम मंत्रालय ने यह कदम उठाया है.

(फोटो: पीटीआई)

कोरोना संकट: आपदा प्रबंधन एक्ट के तहत गृह मंत्रालय ने 11 उच्चस्तरीय समितियों का गठन किया

इन समितियों को जिम्मेदारी दी गई है कि वे कोरोना महामारी से विभिन्न क्षेत्रों में खड़ी हुई समस्याओं की पहचान कर उसका प्रभावी समाधान निकालेंगे.

प्रतीकात्मक तस्वीर. (फोटो: पीटीआई)

कोरोना लॉकडाउन: पैदल हरियाणा से यूपी जा रहे युवक की बस से कुचलकर मौत

21 दिनों के देशव्यापी लॉकडाउन के कारण फैक्ट्री बंद होने के बाद अपने भाई के साथ हरियाणा के सोनीपत से उत्तर प्रदेश के रामपुर जा रहे 26 वर्षीय नितिन कुमार 177 किलोमीटर की पैदल यात्रा कर चुके थे और यह दुर्घटना उनके घर से मात्र 39 किलोमीटर की दूरी पर हुई.

डोनाल्ड ट्रंप. (फोटो: रॉयटर्स)

अमेरिका में अगले दो सप्ताह में कोरोना से मरने वालों की संख्या सर्वाधिक हो सकती हैः ट्रंप

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप का कहना है कि देश में कोरोना से मृत्यु दर में भारी इजाफे की संभावनाओं की वजह से सोशल डिस्टेंसिंग दिशानिर्देशों को आगे बढ़ा दिया है. यह अब 30 अप्रैल तक जारी रहेगी.

(फोटो: रॉयटर्स)

लॉकडाउन में मज़दूरों का पलायन: न तो काम है और न ही पैसा

वीडियो: कोरोना वायरस फैलने के ख़तरे को देखते हुए 21 दिन के देशव्यापी लॉकडाउन के बीच दिल्ली समेत देश के अलग-अलग हिस्सों में काम करने वाले दिहाड़ी मजदूर सैकड़ों-हज़ारों किलोमीटर की दूरी तय करते हुए अपने घरों के लिए निकल पड़े हैं.

Thomas Schäfer. Photo Twitter

कोरोना वायरस संबंधी चिंताओं के चलते जर्मन राज्य के वित्त मंत्री ने आत्महत्या की

जर्मनी के हेस्से राज्य के वित्त मंत्री थॉमस शेफर (54) बीते शनिवार को रेल पटरी पर मृत मिले थे.

Migrants wait to board a bus to their native villages, during a nationwide lockdown imposed in the wake of coronavirus pandemic, at Kaushambi in Ghaziabad, Saturday, March 28, 2020.
(Photo: PTI)

पलायन कर रहे मज़दूरों ने कहा, बीमारी से भी मरना है और भूख से भी

वीडियो: कोरोना वायरस के कारण हुए देशव्यापी लॉकडाउन के बाद दिल्ली-एनसीआर में रहने वाले दिहाड़ी मज़दूर अपने-अपने घर जाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गईं बसों में जगह पाने के लिए देर रात भटकते रहे. गाजियाबाद के कौशाम्बी बस अड्डे पर मज़दूरों से विशाल जायसवाल की बातचीत.

शुक्रवार 22 दिसंबर को गुवाहाटी में मीडिया को संबोधित करते केंद्रीय गृह सचिन राजीव गाबा (फोटो: पीटीआई)

लॉकडाउन की समयसीमा बढ़ाने की कोई योजना नहीं: कैबिनेट सचिव

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लागू किए गए देशव्यापी लॉकडाउन को 21 दिन के बाद भी बढ़ाए जाने की खबरों पर कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने यह टिप्पणी की.

गाजियाबाद के एक बस अड्डे पर घर जाने के लिए जुटी प्रवासी मजदूरों की भीड़. (फोटो: पीटीआई)

कोरोना लॉकडाउन: केंद्र ने कहा- प्रवासी मजदूरों का पलायन रोकने के लिए सीमाएं सील करें राज्य

राज्यों के मुख्य सचिवों और पुलिस महानिदेशकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान कैबिनेट सचिव राजीव गौबा और केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने उनसे सुनिश्चित करने को कहा कि शहरों में या राजमार्गों पर आवाजाही नहीं हो क्योंकि लॉकडाउन जारी है.

Ghaziabad: Migrant workers walk to their villages amid the nationwide complete lockdown, during a 21-day nationwide lockdown to limit the spread of coronavirus, in Ghaziabad, Thursday, March 26, 2020. (PTI Photo/Arun Sharma)

कोरोना वायरस लॉकडाउन: पैदल यात्रा को मजबूर दिहाड़ी मज़दूर

वीडियो: कोरोना वायरस की वजह से लागू लॉकडाउन के चलते निर्माण कार्य में लगे मज़दूर, रेहड़ी-पटरी पर दुकान लगाने वाले, खोमचे वाले, रिक्शा चलाने वाले समेत श्रमिकों एक बड़ा वर्ग बेरोज़गार हो गया है. ​ये पैदल ही विभिन्न राज्यों में स्थित अपने घरों को लौटने के लिए मजबूर हैं.

Ghaziabad: A group of migrant workers walk to their villages amid the nationwide complete lockdown, on the NH24 near Delhi-UP Border in Ghaziabad, Thursday, March 26, 2020. The migrants, reportedly, started their journey to their villages in Uttar Pradesh on foot after they were left with no other option following the announcement of a 21-day lockdown across the country to contain the Covid-19, caused by the novel coronavirus. (PTI Photo/Ravi Choudhary)(PTI26-03-2020 000135B)

कोरोना लॉकडाउन के चलते मज़दूरों का पलायन: सरकार नाकाम, सहारा बने आमजन

वीडियो: देश में 21 दिनों के लॉकडाउन के वजह मज़दूरों के सामने रोज़ीरोटी का संकट पैदा होने के बाद ये पैदल ही अपने घरों की ओर पलायन कर रहे हैं. यमुना एक्सप्रेस वे पर इनसे अविचल दुबे ने बातचीत की.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ. (फोटो: पीटीआई)

योगी आदित्यनाथ के खिलाफ ट्वीट करने पर आप विधायक राघव चड्ढा पर केस दर्ज

एक ट्वीट करके आम आदमी पार्टी विधायक राघव चड्ढा ने आरोप लगाया था कि दिल्ली से उत्तर प्रदेश जाने वाले प्रवासियों की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश पर पिटाई की गई. हालांकि, चड्ढा ने बाद अपना यह ट्वीट डिलीट कर दिया.

Thousands of migrant workers from Delhi, Haryana and even Punjab reached Anand Vihar Bus Terminus in national capital during CoronaVirus Lockdown on March 28, 2020. (Photo: PTI)

दिल्ली के आनंद विहार बस अड्डे का हाल, जहां लॉकडाउन में भी मज़दूरों की भीड़ लग गई

वीडियो: कोरोना वायरस की वजह से देश में लागू लॉकडाउन की वजह से उत्तर प्रदेश और बिहार से दिल्ली आए दिहाड़ी मज़दूरों के सामने आजीविका का संकट खड़ा हो गया है. बीते शनिवार को लॉकडाउन के दौरान हज़ारों की संख्या में मज़दूर घर जाने के लिए दिल्ली के आनंद विहार बस अड्डे पर जमा हो गए थे.

(फोटो: रॉयटर्स)

आईसीएमआर की कोरोना टेस्टिंग रणनीति त्रुटिपूर्ण, एयरपोर्ट स्क्रीनिंग अपर्याप्त: रिपोर्ट

रिपोर्ट में बताया गया है कि इस महामारी के रोकने का एक ही समाधान ये है कि अगर भारत बड़ी संख्या में ऐसे लोगों की टेस्टिंग करता है जिन्होंने विदेश में यात्रा नहीं की है और उनमें लक्षण दिख रहे हैं.

(फोटो: रॉयटर्स)

कोरोनाः देश में मृतकों की संख्या बढ़कर 25 हुई, 979 लोग संक्रमित

स्पेन की राजुकमारी मारिया टेरेसा की कोरोना वायरस से मौत हो गई है. वह 81 साल की थीं. कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिस ट्रूडो की पत्नी कोरोना से जूझने के बाद अब ठीक हो गई हैं.

In locked down India, poor migrants are on a long march back home March 27, 2020. (Photo: REUTERS/DANISH SIDDIQUI)

लॉकडाउन के दौरान दिल्ली से पैदल पलायन कर रहे दिहाड़ी मज़दूरों की कहानियां

वीडियो: कोरोना वायरस से सुरक्षा को लेकर देश में लागू लॉकडाउन के दौरान राजधानी दिल्ली से विभिन्न राज्यों में स्थित अपने घरों को पैदल लौट रहे दिहाड़ी मज़दूरों से इस्मत आरा और शेखर तिवारी की बातचीत.

प्रतीकात्मक तस्वीर. (फोटो: पीटीआई)

कोरोना लॉकडाउन: घर लौट रहे कर्नाटक के सात मजदूरों की तेलंगाना में सड़क दुर्घटना में मौत

दिल्ली में एक निजी रेस्टोरेंट के लिए काम करने वाले तीन बच्चों के पिता और 39 वर्षीय फूड डिलीवरी बॉय रणवीर सिंह की पैदल दिल्ली से मध्य प्रदेश जाते हुए रास्ते में मौत हो गई. सिंह की मौत 200 किलोमीटर पैदल चलने के बाद आगरा में हुई.

Justice Ranjan-gogoi PTI

‘जस्टिस गोगोई के राज्यसभा पहुंचने के बाद हर जज और उनके दिए फ़ैसले पर सवाल उठेंगे’

पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई को राज्यसभा सदस्य के तौर पर मनोनीत करने की पूर्व न्यायाधीशों और विपक्षी दलों ने आलोचना की है. ऐसा भी कहा गया कि उन्हें सरकार को फायदा पहुंचाने के एवज में यह पद मिला है. इस बारे में पटना हाईकोर्ट की पूर्व जज अंजना प्रकाश से आरफ़ा ख़ानम शेरवानी की बातचीत.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन और स्वास्थ्य मंत्री मैट हैकॉक (फोटो साभारः गेटी)

ब्रिटेनः प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन, स्वास्थ्य मंत्री मैट हैंकॉक कोरोना वायरस से संक्रमित

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि कोरोना की पुष्टि के बाद उन्होंने डॉक्टरों की सलाह पर 10 डाउनिंग स्ट्रीट में खुद को आइसोलेट कर लिया है. इससे पहले ब्रिटेन के प्रिंस चार्ल्स भी कोरोना से संक्रमित पाए गए थे.

New Delhi: Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal addresses a press conference, in New Delhi, Friday, Sept. 6, 2019. (PTI Photo/Ravi Choudhary) (PTI9_6_2019_000042B)

दिल्ली सरकार कोरोना वायरस के मामले बढ़ने पर हालात से निपटने को तैयार: केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि राजधानी में प्रतिदिन 20,000 लोगों को भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है. इस संख्या को शनिवार से बढ़ाकर प्रतिदिन दो लाख किया जा रहा है.

(फोटो: रॉयटर्स)

सरकार ने ज़रूरी दवाओं की घर पर आपूर्ति की अनुमति दी

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि ऐसी दवाएं जिन्हें लोगों के घरों तक पहुंचाया जाएगा, उन्हें किसी योग्य डॉक्टर के पर्चे के बिना नहीं ख़रीदा जा सकेगा.

नरेंद्र मोदी. (फोटो: पीटीआई)

कोरोना: मोदी सरकार के 1.75 लाख करोड़ के राहत पैकेज का सच वही है जो दिखाया जा रहा है?

25 मार्च को केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने बताया कि खाद्य सुरक्षा कानून के तहत अब पीडीएस धारकों को 2 किलो अतिरिक्त अनाज मिलेगा, जिससे देश के 81 करोड़ लाभार्थी अगले तीन महीने तक लाभांवित होंगे. 26 मार्च के वित्त मंत्री के ऐलान में लाभार्थियों की संख्या 80 करोड़ है. एक करोड़ का हिसाब क्या सरकार के बोलने-लिखने में गायब हो गया?

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

एडिटर्स गिल्ड ने मीडिया को कामकाज से रोकने की पुलिस की सख़्ती और मनमानी पर चिंता जताई

एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने कहा है कि पुलिस का काम पत्रकार के काम में बाधा डालना नहीं है, खासतौर पर मौजूदा परिस्थितियों में, बल्कि उनके कामकाज में सहायक बनना है.

(फोटोः पीटीआई)

कोरोना वायरसः देश में मृतकों की संख्या 17 हुई, संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 726

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने लॉकडाउन के बीच लोगों से मस्जिदों में इकट्ठा नहीं होने और घरों में ही रहकर जुमे की नमाज़ अदा करने की अपील की है.

(फोटो: रॉयटर्स)

महाराष्ट्र: औरंगाबाद के सरकारी अस्पताल की नर्सों ने सुरक्षा उपकरणों की मांग की

औरंगाबाद के चिकलथाना क्षेत्र के सरकार अस्पतालों की नर्सों ने बताया है कि अस्पताल में पर्याप्त व्यक्तिगत सुरक्षा किट, आवश्यक दवाएं, सैनिटाइजर और हैंडवाश सुविधाएं नहीं हैं. पूरे देश में महाराष्ट्र ही ऐसा राज्य है, जहां कोरोना वायरस के संक्रमण के सबसे ज़्यादा मामले दर्ज किए गए हैं.

शिवराज सिंह चौहान के साथ कमलनाथ. (फोटो: पीटीआई)

मध्य प्रदेश: क्या उपचुनावों में जीत कांग्रेस को फिर सत्ता में ला सकती है?

आगर-मालवा और जौरा के विधायकों के निधन के कारण विधानसभा की दो सीटें पहले से ही खाली थीं. अब कांग्रेस के बागी 22 विधायकों के इस्तीफ़े के बाद राज्य में 24 सीटों पर उपचुनाव होने हैं.

प्रवासी मजदूर (फोटो: रॉयटर्स)

लॉकडाउन के चलते कई राज्यों से सैकड़ों किलोमीटर की यात्रा कर पैदल लौट रहे प्रवासी मज़दूर

निर्माण कार्यों में लगे मज़दूर, रेहड़ी-पटरी और खोमचे वाले और रिक्शा चलाने वाले श्रमिकों का एक बड़ा वर्ग है जो रोज़ कमाता है और रोज़ परिवार का पेट भरता है, लेकिन कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन के बाद ऐसे लाखों दिहाड़ी मज़दूरों के समक्ष रोज़ीरोटी का संकट खड़ा हो गया है.

Tube tests are pictured pictured as media visit the Microbiology Laboratory of the University Hospital (CHUV) during the coronavirus disease (COVID-19) outbreak in Lausanne, Switzerland, March 23, 2020. REUTERS/Denis Balibouse

कोरोना जांच किट बनाने की मंज़ूरी पाने वाली पहली भारतीय कंपनी ने पहला लॉट सप्लाई के लिए भेजा

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद ने कोरोना वायरस की जांच के लिए प्राइवेट लैब और नॉन-यूएसएफडीए/यूरोपियन सीई किट को मंज़ूरी देने का काम तेज़ कर दिया है. परिषद ने अब तक इस तरह के कुल तीन किट को मंज़ूरी दी है, जिसमें ‘माईलैब’ नाम की एक भारतीय कंपनी शामिल है.

A mouse's memory is recorded by sensors connected to its head in a laboratory in East China Normal University in Shanghai April 25, 2005. Scientists at East China Normal University are researching the formation of memory in the brain as part of efforts to learn more about the nature of human intelligence.

क्या है हंटा वायरस, जिसने चीन में एक व्यक्ति की जान ले ली?

अमेरिका के सेंटर फॉर डिसीज़ कंट्रोल के अनुसार, हंटा वायरस नया नहीं है और इसका पहला मामला 1993 में आया था. यह चीज़ों को कुतरने वाले जीवों जैसे कि चूहे, गिलहरी इत्यादि से फैलता है.

HBB 23 March.00_34_07_00.Still005

‘कोरोना वायरस से रोज़गार पर मार, देश में अभी जंग से भी बदतर हालात’

वीडियो: कोरोना वायरस के अर्थव्यवस्था पर पड़ रहे प्रभाव पर अर्थशास्त्री प्रो. अरुण कुमार से द वायर की सीनियर एडिटर आरफ़ा ख़ानम शेरवानी.

(फोटो: रॉयटर्स)

कोरोना वायरसः 21 दिनों के लॉकडाउन में कौन-सी सेवाएं चलती रहेंगी और क्या बंद रहेगा

कोरोना वायरस के बढ़ते ख़तरे को देखते हुए बीते मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश में 21 दिनों के लॉकडाउन की ​घोषणा की थी. इस दौरान आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई जारी रहेगी.

(फोटो: पीटीआई)

डॉक्टरों, मेडिकल स्टाफ को घर से निकालने वाले मकान मालिकों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश

सरकारी अधिसूचना के मुताबिक, कोरोना वायरस के डर से डॉक्टरों और अन्य अर्द्धचिकित्साकर्मियों पर किराये के घर खाली करने का दबाव बनाना इस वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई की जड़ पर वार करता है और यह आवश्यक सेवाओं में बाधा उत्पन्न करने के बराबर है.

(फोटो: रॉयटर्स)

कोरोना वायरस: डॉक्टरों-नर्सों को किराये के मकानों से निकाला जा रहा, गृहमंत्री से की शिकायत

राजधानी दिल्ली समेत देश के कुछ हिस्सों से कोरोना वायरस संक्रमितों के इलाज में लगे डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ को उनके किराये के मकानों से निकाले जाने की ख़बरें आ रही हैं. लोगों का कहना है कि इनसे वायरस फैलने का ख़तरा है. एम्स के रेजिडेंट्स डॉक्टर्स एसोसिएशन ने गृह मंत्री को पत्र लिख इसकी शिकायत की है.

(फोटो: रॉयटर्स)

केवल ताली बजाने से काम नहीं होगा, मेडिकल पेशेवरों के लिए सुरक्षित माहौल हो: आईएमए प्रमुख

भारतीय चिकित्सा परिषद (आईएमए) से जुड़े सदस्यों ने मूलभूत रक्षा सूट और एन-95 मास्क जमोखोरी के कारण स्वास्थ्यकर्मियों को इसकी उपलब्धता में कमी का मुद्दा उठाया.

A security guard stands outside a closed Yes Bank branch in New Delhi, India, November 9, 2016. (Photo by Cathal McNaughton/Reuters)

गृह मंत्रालय ने निजी एजेंसियों से सुरक्षाकर्मियों की छंटनी या वेतन कटौती न करने के लिए कहा

गृह मंत्रालय ने इस संबंध में सेंट्रल एसोसिएशन ऑफ प्राइवेट सिक्योरिटी इंडस्ट्री, सीआईआई, फिक्की, एसोचैम तथा अन्य संगठनों को पत्र लिखा है.