News Broadcasting Standards Authority

जस्टिस एके सीकरी. (फोटो: पीटीआई)

जस्टिस एके सीकरी न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड अथॉरिटी के अध्यक्ष नियुक्त

जस्टिस सीकरी 26 मई 2019 से पद संभालेंगे. वो 25 मई 2019 को अपना कार्यकाल पूरा करने वाले वर्तमान अध्यक्ष जस्टिस आरवी रविंद्रन की जगह लेंगे.

​​(फोटो: पीटीआई)

बलात्कार की मीडिया रिपोर्टिंग: प्रेस परिषद, एडिटर्स गिल्ड की अनुपस्थिति पर कोर्ट नाराज़

मीडिया द्वारा बलात्कार और यौन शोषण पीड़ितों की पहचान सार्वजनिक करने से जुड़े मामलों के संबंध में भारतीय प्रेस परिषद, एडिटर्स गिल्ड आॅफ इंडिया और इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फेडरेशन और न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी को सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी किया था.

Arnab-Goswami

ग़लत रिपोर्टिंग के लिए माफ़ी मांगे रिपब्लिक टीवी: मीडिया नियामक संस्था

जनवरी में हुई वडगाम विधायक जिग्नेश मेवाणी की युवा हुंकार रैली में रिपब्लिक चैनल की रिपोर्टर के साथ दुर्व्यवहार होने की बात कहते हुए चैनल के एडिटर-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी ने ए. सिंह और उनकी साथी प्रतिष्ठा के बारे में टिप्पणी की थी, जिसको लेकर न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड अथॉरिटी ने चैनल को माफ़ी मांगने को कहा है.

Zee Hindustan

सांप्रदायिकता फैलाने के आरोप में ज़ी हिंदुस्तान के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज

अररिया उपचुनाव के बाद वायरल हुए कथित ‘देश विरोधी’ वीडियो की प्रमाणिकता की पुष्टि के बिना उस पर सांप्रदायिकता भड़काने वाला कार्यक्रम करने के आरोप में एक पूर्व नौकरशाह ने ज़ी समूह के एक चैनल के ख़िलाफ़ न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड अथॉरिटी में शिकायत दर्ज करवाई है.

Epsiode 13

मीडिया बोल, एपिसोड 13: ज़ी न्यूज़ पर जुर्माना और झूठी ख़बरों का कारोबार

मीडिया बोल की 13वीं कड़ी में वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश शायर गौहर रज़ा और पत्रकार अनुराधा रमण के साथ ज़ी न्यूज़ पर लगे जुर्माने और झूठी ख़बरों के कारोबार पर चर्चा कर रहे हैं.

zee

‘धरम में लिपटी वतनपरस्ती क्या-क्या स्वांग रचाएगी’

वीडियो: वैज्ञानिक और शायर गौहर रज़ा को ‘देशद्रोही’ और 2016 में हुए एक मुशायरे को ‘अफ़ज़ल प्रेमी गैंग का मुशायरा’ बताने के मामले में ज़ी न्यूज़ को माफ़ी मांगने व एक लाख का ज़ुर्माना भरने का आदेश. इस विषय पर गौहर रज़ा और अपूर्वानंद के साथ चर्चा.

zeee

वैज्ञानिक और शायर गौहर रज़ा को ‘देशद्रोही’ बताने के लिए ज़ी न्यूज़ पर एक लाख का जुर्माना

मुशायरे को बताया था ‘अफ़ज़ल प्रेमी गैंग का मुशायरा’, न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड अथॉरिटी ने दिया चैनल पर माफ़ीनामा प्रसारित करने का आदेश.