Poet

Vidrohi

‘ये विद्रोही भी क्या तगड़ा कवि था!’

पुण्यतिथि विशेष: विद्रोही अभी ज़िंदा हैं. सारे बड़े-बड़े लोग पहले मर लेंगे, सारे तानाशाह और ज़ुल्मी मर जाएंगे, उसके बाद विद्रोही मरेंगे आराम से, वसंत ऋतु में.

perumal murugan (1)

ख़ुद की मौत की घोषणा करने वाले साहित्यकार पेरुमल मुरुगन की वापसी

कट्टरपंथियों के विरोध से आजिज़ आकर अपनी मौत की घोषणा करने वाले मुरुगन का नया कविता संग्रह ‘कायर के गीत’ नाम से प्रकाशित हुआ है.

rashtrakavi-dinkar

दिनकर: उजले को लाल से गुणा करने से बनने वाले रंग की कविता

जन्मदिन विशेष: रामधारी सिंह दिनकर ने कहा था, ‘मैं जीवन भर गांधी और मार्क्स के बीच झटके खाता रहा हूं. इसलिए उजले को लाल से गुणा करने पर जो रंग बनता है, वही रंग मेरी कविता का है. मेरा विश्वास है कि अंततोगत्वा यही रंग भारत के भविष्य का रंग होगा.’

Epsiode 13

मीडिया बोल, एपिसोड 13: ज़ी न्यूज़ पर जुर्माना और झूठी ख़बरों का कारोबार

मीडिया बोल की 13वीं कड़ी में वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश शायर गौहर रज़ा और पत्रकार अनुराधा रमण के साथ ज़ी न्यूज़ पर लगे जुर्माने और झूठी ख़बरों के कारोबार पर चर्चा कर रहे हैं.

zee

‘धरम में लिपटी वतनपरस्ती क्या-क्या स्वांग रचाएगी’

वीडियो: वैज्ञानिक और शायर गौहर रज़ा को ‘देशद्रोही’ और 2016 में हुए एक मुशायरे को ‘अफ़ज़ल प्रेमी गैंग का मुशायरा’ बताने के मामले में ज़ी न्यूज़ को माफ़ी मांगने व एक लाख का ज़ुर्माना भरने का आदेश. इस विषय पर गौहर रज़ा और अपूर्वानंद के साथ चर्चा.

zeee

वैज्ञानिक और शायर गौहर रज़ा को ‘देशद्रोही’ बताने के लिए ज़ी न्यूज़ पर एक लाख का जुर्माना

मुशायरे को बताया था ‘अफ़ज़ल प्रेमी गैंग का मुशायरा’, न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड अथॉरिटी ने दिया चैनल पर माफ़ीनामा प्रसारित करने का आदेश.

Waseem Barelvi Chandigarh Sahitya Akademi

‘हिंदुस्तान की सरज़मीं बहुत देर तक नफ़रत बर्दाश्त नहीं कर सकती’

मशहूर शायर और यूपी विधान परिषद सदस्य वसीम बरेलवी ने कहा, हमारी विचारधारा एक है. इतनी भाषाओं, मज़हब, अलग-अलग संस्कृति के बावजूद हम एक थे, एक हैं और हमेशा एक रहेंगे.

अविनाश दास के फेसबुक पेज से

अजी समझ लो उनका अपना नेता था जयचंद, हिटलर के तंबू में अब वे लगा रहे पैबंद

नागार्जुन की कविता राजनीति के चरित्र का पर्दाफ़ाश करती है. जो लोग लोकतंत्र को बचाने और उसे मज़बूत बनाने की लड़ाई लड़ना चाहते हैं, उनके लिए नागार्जुन कभी अप्रासंगिक नहीं होंगे.

फोटो: एएनआई

‘तुम्हारा यह (साबुन-शैम्पू) दान एक गाली है मेरे आत्मसम्मान के लिए’

यूपी में योगी के दौरे से पहले मुसहर समुदाय के लोगों को साबुन व शैम्पू बांटे गए ताकि सीएम से मिलने के लिए वे नहाकर आएं. कवि असंग वानखेड़े ने इसके जवाब में एक ​कविता लिखी.