Sports News

महेंद्र सिंह धोनी. (फोटो साभार: फेसबुक/@MSDhoni)

महेंद्र सिंह धोनी: पल दो पल का क़िस्सा नहीं, मक़बूल दास्तान

जनवरी 2017 में जबसे महेंद्र सिंह धोनी ने भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी छोड़ी, तबसे करिअर के अंतिम ढाई सालों में उन्हें तारीफ़ से ज़्यादा आलोचना मिली. टीम के हर कमज़ोर प्रदर्शन के बाद उनके संन्यास के कयास लगने शुरू हो जाते, लेकिन आंकड़े बताते हैं कि इन सालों में भी उनकी चमक फ़ीकी नहीं पड़ी थी.

**EDS: RPT, ADDS MASTERCARD WORD** New Delhi: Indian cricketer Mahendra Singh Dhoni during the launch of 'Mastercard Team Cashless India', a nationwide initiative to accelerate and adoption of digital payment, in New Delhi, Wednesday, Oct. 16, 2019. (PTI Photo/Manvender Vashist) (PTI10_16_2019_000034B)

धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 90 टेस्ट, 350 वनडे और 98 टी20 मैच खेलकर करीब 17,000 रन बनाए और विकेट के पीछे 829 खिलाड़ियों को पवेलियन भेजा है. 2007 में टी20 विश्व कप, 2011 वनडे विश्व कप और 2013 में उन्होंने चैंपियंस ट्राफी जीता है. वह एकमात्र क्रिकेट कप्तान हैं, जिसने आईसीसी के इन तीन ख़िताबों पर क़ब्ज़ा किया है. सुरेश रैना ने भी संन्यास की घोषणा की.

चुन्नी गोस्वामी. (फोटो साभार: ट्विटर/@theafcdotcom)

महान फुटबॉलर और प्रथम श्रेणी क्रिकेटर चुन्नी गोस्वामी का निधन

चुन्नी गोस्वामी 1962 के एशियाई खेल की स्वर्ण पदक विजेता भारतीय टीम के कप्तान रहे थे. एक क्रिकेटर के तौर पर उन्होंने 1962 और 1973 के बीच 46 प्रथम श्रेणी मैचों में बंगाल का प्रतिनिधित्व किया था.

(प्रतिकात्मक तस्वीर: रॉयटर्स)

डीडीसीए ने 1.6 करोड़ से ज़्यादा की क़ानूनी फीस दी, लेकिन कोचों और स्टाफ को वेतन का इंतज़ार

16 नवंबर 2019 से 11 वकीलों को 1.63 करोड़ रुपये का भुगतान दिल्ली एवं ज़िला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) की ओर से किया गया है. इन वकीलों में दो सक्रिय राजनीतिज्ञ भी शामिल हैं. इनमें सबसे ज़्यादा 37.62 लाख रुपये का भुगतान रिटायर जस्टिस दीपक वर्मा को किया गया है.

पीके बनर्जी. (फोटो साभार: ट्विटर/@praful_patel)

महान फुटबॉलर पीके बनर्जी का 83 वर्ष की उम्र में निधन

1962 के एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक विजेता रहे पीके बनर्जी भारतीय फुटबॉल के स्वर्णिम दौर के साक्षी रहे थे. उन्होंने भारत के लिए 84 मैच खेलकर 65 गोल किए. पीके बनर्जी अर्जुन पुरस्कार पाने वाले शुरुआती लोगों में से एक थे. साल 1990 में उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया था.

शेफाली वर्मा. (फोटो साभार: ट्विटर/T20WorldCup)

शेफाली वर्मा: भारतीय महिला क्रिकेट की नई पहचान

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के इतिहास में पहली बार भारतीय महिला क्रिकेट टीम आईसीसी टी-ट्वेंटी विश्वकप के फाइनल में है और इसका श्रेय 16 वर्षीय शेफाली वर्मा की बल्लेबाज़ी को जाता है. महज़ छह महीने पहले अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में आई शेफाली अपने शानदार प्रदर्शन के चलते दुनिया के उत्कृष्ट बल्लेबाज़ों की आईसीसी रैंकिंग में पहले स्थान पर पहुंच गई हैं.

21 फरवरी  के पहले मैच से पहले भारत और ऑस्ट्रेलिया की कप्तान और कोच. (फोटो साभार: ट्विटर/@T20WorldCup)

क्रिकेट प्रेमी भारत में महिला टी20 क्रिकेट विश्वकप की चर्चा क्यों नहीं हो रही है?

आईसीसी की एकदिवसीय और ट्वेंटी-20 क्रिकेट की विभिन्न श्रेणियों को जोड़कर देखें तो 11 भारतीय महिला क्रिकेटर टॉप 10 रैंकिंग वाली हैं जबकि पुरुष क्रिकेटरों की संख्या महज 6 है. वर्तमान पुरुष क्रिकेटरों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन के बावजूद देश में महिला क्रिकेट को न दर्शकों से समुचित तवज्जो मिलती है न ही मीडिया से.

महेंद्र सिंह धोनी. (फोटो: रॉयटर्स)

धोनी के साथ बीसीसीआई ने क़रार तोड़ा, पूर्व क्रिकेट कप्तान केंद्रीय अनुबंध सूची से बाहर

बीसीसीआई ने धोनी के अलावा दिनेश कार्तिक, ख़लील अहमद और अंबाती रायडु से भी क़रार ख़त्म कर लिया है. वहीं कप्तान विराट कोहली, उप-कप्तान रोहित शर्मा और तेज गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह ‘ए प्लस’ ग्रेड में बने हुए हैं, जिन्हें अनुबंध के तहत प्रति वर्ष सात करोड़ रुपये मिलते हैं.

(फोटो साभार: आईसीसी)

विश्व कप फाइनल में हुए विवाद के कारण आईसीसी ने सुपर ओवर नियम को बदला

विश्व कप क्रिकेट के फाइनल के सुपर ओवर में मैच टाई रहने पर न्यूजीलैंड के खिलाफ इंग्लैंड को विजेता घोषित कर दिया गया था. हालांकि, दुनियाभर के मौजूदा और पूर्व क्रिकेटरों ने चौके छक्के गिनकर विश्व कप विजेता का निर्धारण करने वाले आईसीसी के ‘हास्यास्पद’ नियम की जमकर आलोचना की थी.

New Delhi: President Ram Nath Kovind confers Rajiv Gandhi Khel Ratna award upon Paralympic silver-medallist Deepa Malik, at Rashtrapati Bhawan in New Delhi, Thursday, Aug 29, 2019. Malik is the first Indian woman para-athlete and the oldest to be conferred the award even as training commitments kept co-awardee Bajrang Punia away from the ceremony. (PTI Photo/Kamal Singh) (PTI8_29_2019_000077B)

‘खेल रत्न’ सम्मान पाने वाली पहली भारतीय महिला पैरा-एथलीट बनीं दीपा मलिक

दीपा मलिक 49 साल की उम्र में इस पुरस्कार को प्राप्त करने वाली सबसे उम्रदराज़ एथलीट भी बन गई हैं. दीपा को यह पुरस्कार चौथी बार में मिला क्योंकि पिछले तीन साल उनके नाम की अनदेखी की गई थी.

मानसी जोशी. (फोटो साभार: ट्विटर)

मानसी जोशी ने विश्व पैरा बैडमिंटन में जीता स्वर्ण

24 अगस्त को भारतीय पैरा बैडमिंटन खिलाड़ी मानसी जोशी ने स्विटजरलैंड के बासेल शहर में विश्व पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप के महिला एकल के फाइनल मुकाबले में हमवतन पारुल परमार को हराया था. अलग-अलग प्रतियोगिताओं में भारतीय खिलाड़ियों ने जीते 12 पदक.

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु. (फोटो साभार: ट्विटर)

पीवी सिंधु विश्व बैडमिंटन चैम्पियनशिप में स्वर्ण जीतने वाली पहली भारतीय बनीं

विश्व बैडमिंटन चैम्पियनशिप में सिंधु का यह पांचवां पदक है. सिंधु ने दो कांस्य पदक के साथ टूर्नामेंट के पिछले दो सत्र में दो रजत पदक भी हासिल किया है.

क्रिकेट विश्वकप फाइनल के अंपायर कुमार धर्मसेना. (फोटो साभार: ट्विटर)

विश्वकप क्रिकेट फाइनल में ओवरथ्रो पर छह रन देने वाले अंपायर ने मानी गलती, कहा- पछतावा नहीं

विश्वकप क्रिकेट फाइनल के आखिरी ओवर में फेंके गए ओवरथ्रो पर अंपायर कुमार धर्मसेना ने छह रन दिया था. इस फैसले को पूर्व अंपायर साइमन टफेल समेत कई विशेषज्ञों ने गलत बताया था.

Tampere: Hima Das, of India, celebrates her victory in women's 400 meter race at the 2018 IAAF World U20 Championships in Tampere, Finland, Thursday, July 12, 2018. AP/PTI(AP7_13_2018_000006B)

भारतीय धावक हिमा दास ने एक महीने में जीता पांचवां स्वर्ण पदक

भारतीय महिला धावक हिमा दास ने 400 मीटर दौड़ में ये स्वर्ण पदक जीता है. उन्होंने पिछले 19 दिनों में अलग-अलग अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक मीट में शामिल होकर अब तक पांच गोल्ड मेडल अपने नाम किए हैं.

(फोटो साभार: आईसीसी)

क्या आईसीसी के अस्पष्ट नियम खेल के ख़िलाफ़ जा रहे हैं?

2019 में क्रिकेट के इतिहास में पहली बार बाउंड्री की गणना के आधार पर विश्वकप विजेता की घोषणा की गई, जिसके बाद से आईसीसी के नियमों की आलोचना हो रही है.