World News

ICJ source twitter

अंतरराष्ट्रीय अदालत ने म्यांमार को रोहिंग्या का जनसंहार रोकने का आदेश दिया

अदालत ने कहा कि उनका ये आदेश म्यांमार पर बाध्यकारी है और वे चार महीने में आईसीजे को रिपोर्ट देकर बताएं कि उन्होंने आदेश के अनुपालन के लिए क्या किया.

Rohingya refugees walk on a muddy path as others travel on a boat after crossing the Bangladesh-Myanmar border, in Teknaf, Bangladesh, September 6, 2017. REUTERS/Danish Siddiqui

म्यांमार: सरकार के पैनल ने रोहिंग्या जनसंहार से किया इनकार, मानवाधिकार समूहों ने की निंदा

अगस्त 2017 से शुरू हुए सैन्य अभियानों के चलते करीब 7,40,000 रोहिंग्या लोगों को सीमापार बांग्लादेश भागना पड़ा था. पिछले साल सितंबर महीने में संयुक्त राष्ट्र की एक टीम ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि म्यांमार में करीब छह लाख रोहिंग्या मुसलमान नरसंहार के गंभीर ख़तरे का सामना कर रहे हैं.

Ahmed, a Rohingya refugee man cries as he holds his 40-day-old son, who died as a boat capsized in the shore of Shah Porir Dwip while crossing Bangladesh-Myanmar border, in Teknaf, Bangladesh. Reuters

म्यांमार में छह लाख रोहिंग्या ‘नरसंहार के गंभीर खतरे’ का सामना कर रहे हैं: संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र की फैक्ट फाइंडिंग मिशन ने एक रिपोर्ट में कहा कि म्यांमार लगातार नरसंहार की सोच को पनाह दे रहा है.

Yangon: Reuters journalists Wa Lone, left, and Kyaw She Oo wave as they walk out from Insein Prison after being released in Yangon, Myanmar Tuesday, May 7, 2019. The chief of the prison said two Reuters journalists who were imprisoned for breaking the country's Officials Secrets Act have been released. AP/PTI(AP5_7_2019_000022B)

म्यांमार: रोहिंग्या मुस्लिमों पर रिपोर्टिंग के कारण सज़ा काट रहे रॉयटर्स के दो पत्रकार रिहा

म्यांमार के रखाइन में सैन्य कार्रवाई के दौरान रोहिंग्या मुसलमानों पर हुए अत्याचारों की रिपोर्टिंग करते हुए 32 वर्षीय वा लोन और 28 वर्षीय क्याव सोए ओ को सरकारी गोपनीयता क़ानून तोड़ने के लिए पिछले साल सितंबर में सात-सात साल की जेल की सज़ा सुनाई गई थी.

(फोटोल: रॉयटर्स)

इंडोनेशिया में सुनामी से 168 लोगों की मौत, 745 घायल

इंडोनेशिया की राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एजेंसी ने कहा कि क्राकातोआ ज्वालामुखी के फटने के बाद समुद्र के नीचे हुआ भूस्खलन सुनामी का संभावित कारण हो सकता है.

सूडान में महंगाई बढ़ने के बाद कई शहर में लोग सरकार के ख़िलाफ़ सड़कों पर उतर आए हैं. (फोटो साभार: ट्विटर/@MAbubakrs)

सूडान में रोटी की कीमत बढ़ने के विरोध में प्रदर्शन, आठ लोगों की मौत

आर्थिक तंगी से गुज़र रहे अफ्रीकी देश सूडान में सरकार ने पिछले हफ्ते रोटी की कीमत एक पाउंड से बढ़ाकर तीन पाउंड कर दिया, जिसका विरोध प्रदर्शन हो रहा है.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप. ​​(फोटो: रॉयटर्स)

मैं चाहता हूं कि अमेरिका में जन्मे बच्चों का नागरिकता पर जन्मजात अधिकार ख़त्म हो: ट्रंप

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, ‘अमेरिका दुनिया में एकमात्र ऐसा देश है जहां एक व्यक्ति आता है, बच्चे पैदा करता है और बच्चा अनिवार्य रूप से अमेरिका का नागरिक बन जाता है.’

म्यांमार नेता आंग सान सू ची. (फोटो: रॉयटर्स)

रोहिंग्या संकट पर चुप्पी के चलते कनाडा ने आंग सान सू ची की मानद नागरिकता वापस ली

​नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित म्यांमार की नेता आंग सान सू ची को कनाडा की संसद ने 2007 में मानद नागरिकता दी थी.

Maldivian joint opposition presidential candidate Ibrahim Mohamed Solih speaks to the media at the end of the presidential election day in Male, Maldives September 23, 2018. REUTERS/Ashwa Faheem

मालदीव राष्ट्रपति चुनाव में संयुक्त विपक्ष के उम्मीदवार इब्राहिम सोलिह की जीत

चुनाव से पहले निवर्तमान राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन पर अपनी जीत पक्की करने के लिए गड़बड़ियां करने का आरोप लगा था. यामीन ने देश में आपातकाल की घोषणा करते हुए अपने विरोधियों को जेल में डाल दिया था.

क्याव सो ऊ और वा लोन (फोटो: रायटर्स)

म्यांमार में रॉयटर्स के दो पत्रकारों को 7 साल की सज़ा

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के इन पत्रकारों को पिछले साल 12 दिसंबर को हिरासत में लिया गया था. उस समय वे म्यांमार के रखाइन प्रांत के एक गांव में रोहिंग्या मुसलमानों की हत्या और सेना व पुलिस द्वारा किए गए अपराधों की जांच कर रहे थे.

श्रीलंका में हुए सांप्रदायिक हिंसा के बाद जलाया गया घर. (फोटो: रॉयटर्स)

सांप्रदायिक हिंसा के बाद श्रीलंका में लगाया गया आपातकाल हटा

बीते छह मार्च को कैंडी और अम्पारा जिलों में हुए बौधों और मुस्लिमों के बीच हुई हिंसा के बाद 10 दिनों के लिए श्रीलंका में आपातकाल घोषित कर दिया था.

Rohingya refugees wait to receive aid in Cox's Bazar, Bangladesh | Reuters

रोहिंग्या संकट जातिसंहार जैसा: संयुक्त राष्ट्र अधिकारी

संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत यांगी ली ने कहा कि जब तक कोई भरोसेमंद अंतरराष्ट्रीय न्यायाधिकरण सबूतों को परख नहीं लेता, तब तक हम निश्चित तौर पर नरसंहार की घोषणा नहीं कर सकते, लेकिन हमें संकेत नज़र आ रहा है.