दुनिया

कोविड-19: भारत में 2293 लोगों की मौत, संक्रमण के केंद्र चीन के वुहान में नए मामले सामने आए

कोरोना वायरस से दुनिया भर में 2.86 लाख से अधिक लोगों की मौत और संक्रमण के मामले बढ़कर 41 लाख से अधिक हुए. सर्वाधिक प्रभावित देश अमेरिका में कार्यस्थलों पर बढ़ रहे मामले. न्यूयॉर्क सिटी को जून तक बंद किया जाएगा.

Guwahati: An artist draws a mural on a wall to spread awareness, during the ongoing COVID-19 lockdown, in Guwahati, Wednesday, May 06, 2020. (PTI Photo)(PTI06-05-2020 000085B)

असम की राजधानी गुवाहाटी में एक कलाकार द्वारा दीवार पर कोरोना वायरस से संबंधित चित्र पेंट किया गया. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली/न्यूयॉर्क/लंदन: देश में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की संख्या 2,293 तक पहुंच गई है, जबकि संक्रमितों की संख्या 70,756 हो गई है. सोमवार सुबह आठ बजे से 24 घंटे के भीतर 3,604 नए मामले सामने आए हैं और 87 लोगों की मौत हुई है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में कोविड-19 के 46,008 मरीजों का उपचार हो रहा है, जबकि 22,454 लोग अब तक ठीक हो चुके हैं. वहीं एक मरीज देश से बाहर जा चुका है. मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अब तक 31.73 फीसदी मरीज स्वस्थ हो चुके हैं.

सोमवार सुबह से मंगलवार सुबह तक कुल 87 मौतों में से सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में 36 लोगों की मौत हुई. इसके बाद गुजरात में 20, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में छह-छह लोगों की मौत हुई. पश्चिम बंगाल में पांच और हरियाणा तथा जम्मू कश्मीर में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई.

देश में अब तक इस वायरस से कुल 2,293 लोगों की मौत हो चुकी है. महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 863 लोगों की मौत हुई, इसके बाद गुजरात में 513, मध्य प्रदेश में 221, पश्चिम बंगाल में 190, राजस्थान में 113, उत्तर प्रदेश में 80, दिल्ली में 73, तमिलनाडु में 53 और आंध्र प्रदेश में 45 लोगों की मौत हो चुकी है.

कर्नाटक और पंजाब में 31-31 लोगों की मौत हो चुकी है.

तेलंगाना में 30 लोगों की मौत हो गई और हरियाणा में 11, जम्मू कश्मीर में 10, बिहार में छह और केरल में चार लोगों की मौत हो गई.

झारखंड और ओडिशा में कोविड-19 से तीन-तीन लोगों की मौत हुई जबकि हिमाचल प्रदेश, असम और चंडीगढ़ में दो-दो लोगों की मौत हुई. मेघालय और उत्तराखंड में एक-एक मरीज की मौत हुई.

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार मृतकों में से 70 फीसदी पहले से ही अन्य बीमारियों के शिकार थे.

देश में कुल संक्रमित 70,756 मामलों में कई विदेशी नागरिक भी हैं.

मंत्रालय की ओर से मंगलवार की सुबह में जारी आंकड़ों के अनुसार, संक्रमण के सबसे ज्यादा 23,401 मामले महाराष्ट्र से हैं.

इसके अलावा गुजरात में 8,541, तमिलनाडु में 8,002, दिल्ली में 7,233, राजस्थान में 3,988, मध्य प्रदेश में 3,785 और उत्तर प्रदेश में 3,573 मामले हैं. पश्चिम बंगाल में 2,063, आंध्र प्रदेश में 2,018 और पंजाब में 1,877 मामले हैं.

तेलंगाना में संक्रमण के 1,275 मामले, जम्मू कश्मीर में 879, कर्नाटक में 862, बिहार में 747 और हरियाणा में 730 मामले हैं.

केरल में संक्रमण के 519 मामले सामने आए हैं. ओडिशा में 414, चंडीगढ़ में 174 और झारखंड में 160 मामले हैं. वहीं त्रिपुरा में 152, उत्तराखंड में 68, असम में 65, छत्तीसगढ़ और हिमाचल प्रदेश में 55-55 तथा लद्दाख में 42 मामले सामने आए हैं.

अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में कोरोना वायरस संक्रमण के 33 मामले सामने आए हैं. वहीं मेघालय में 13, पुडुचेरी में 12 और गोवा में सात मामले हैं. मणिपुर में दो मामले, मिजोरम, अरुणाचल और दादर-नगर हवेली में क्रमश: संक्रमण के एक-एक मामले हैं.

मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर कहा कि आंकड़ों का मिलान आईसीएमआर से किया जा रहा है और राज्यवार आंकड़ें मिलान और पुष्टि का विषय है.

दुनिया भर में 2.86 लाख से अधिक की मौत

दुनियाभर में कोरोना वायरस की चपेट में आकर अब तक 286,669 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं और संक्रमण के मामले 4,197,142 हो गए हैं.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

इस महामारी से सबसे प्रभावित देश अमेरिका में मंगलवार तक 80,684 लोगों की मौत हो चुकी थी और संक्रमण के मामले 1,347,936 हो चुके हैं.

अमेरिका के जॉन्स हॉप्किन्स विश्वविद्यालय के अनुसार, अमेरिका के बाद दूसरे सर्वाधिक प्रभावित देश ब्रिटेन में मौत का आंकड़ा 32,141 हो गया है, जबकि संक्रमण के कुल मामले 224,332 पहुंच चुके हैं.

ब्रिटेन के बाद इटली में अब तक 30,739 लोग इस महामारी से दम तोड़ चुके हैं और संक्रमण के मामले बढ़कर 219,814 हो गए हैं.

इसी तरह स्पेन में संक्रमण का आंकड़ा 227,436 पहुंच गया है और इस देश में अब तक 26,744 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.

फ्रांस में मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर 26,646 हो गई है, जबकि यहां संक्रमण के मामले 177,547 तक पहुंच चुके हैं.

अमेरिका: कार्यस्थल पर बढ़ रहे मामले, न्यूयॉर्क सिटी को जून तक बंद किया जाएगा

अमेरिका में लॉकडाउन में ढील दिए जाने के बाद कार्यस्थलों में संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी दर्ज की गई है. दूसरी ओर कोविड-19 महामारी के केंद्र न्यूयॉर्क सिटी को जून तक बंद रखा जाएगा, जबकि न्यूयॉर्क प्रांत के तीन अन्य क्षेत्रों को 15 मई को फिर से खोलने की तैयारी है. न्यूयॉर्क सिटी के महापौर बिल डे ब्लासियो ने यह जानकारी दी.

न्यूयॉर्क में रोजाना अस्पताल में भर्ती होने वालों, आईसीयू में रखे जाने वालों और मरने वालों की संख्या में गिरावट हो रही है लेकिन महापौर ने कहा कि अधिकारी शहर को फिर से खोलने पर विचार करें उससे पहले ऐसी प्रगति जारी रहनी चाहिए.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

महापौर ब्लासियो ने सोमवार को अपनी नियमित प्रेस वार्ता में कहा, ‘दोबारा खोलने की बात करें तो स्पष्ट रूप से अभी हम इसके लिये तैयार नहीं हैं. इसलिए मेरा मानना है कि यह कहना ठीक होगा कि जून में हम संभवत: कुछ वास्तविक बदलाव कर पाएंगे वो भी तब अगर हम अपनी प्रगति जारी रख पाएं.’

इस बीच गवर्नर एड्र्यू कुओमो ने घोषणा की कि तीन क्षेत्र- फिंगर लेक्स, सदर्न टीयर और मोहाक वैली रीजन्स- उन सात पैमानों को पूरा करते हैं जो राज्य की क्षेत्रीय चरणबद्ध छूट के पहले चरण को पूरा करते हैं. न्यूयॉर्क प्रांत का बंदी का मौजूदा आदेश 15 मई को खत्म हो रहा है.

कुओमो ने कहा कि अगर यही रुख बरकरार रहा तो 15 मई से इन तीन क्षेत्रों में पहले चरण के लिए कारोबारों को खोला जा सकता है, जिनमें निर्माण, उत्पादन, थोक आपूर्ति श्रृंखला, खुदरा करोबार और कृषि, वनिकी तथा मछली मारने की इजाजत मिल सकती है.

उन्होंने कहा कि नॉर्थ कंट्री और सेंट्रल न्यूयॉर्क क्षेत्र अभी सात में से छह पैमानों को पूरा करते हैं और वे इस हफ्ते के अंत तक तैयार हो सकते हैं.

कुछ कम जोखिम वाले कारोबार और मनोरंजक गतिविधियों को 15 मई से फिर से खोले जाने की इजाजत होंगी.

गवर्नर ने कहा कि हर क्षेत्र में नियंत्रण कक्ष होंगे जहां क्षेत्र के शीर्ष सरकारी अधिकारी, शिक्षाविद् और स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े पेशेवर हर क्षेत्र की स्थिति पर नजर रखेंगे और पैमानों व दिशानिर्देशों के आधार पर कारोबारों व अन्य सुविधाओं को खोलने की गति का निर्धारण किया जाएगा.

न्यूयॉर्क प्रांत में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल 3,37,055 मामले हैं, जबकि 26 हजार लोगों की इस महामारी से मौत हो चुकी है. अकेले न्यूयॉर्क सिटी में 1,83,662 मामले सामने आए जबकि 14,928 लोगों की यहां जान जा चुकी है.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जहां एक ओर लोगों से कार्यस्थल पर लौटने और अर्थव्यवस्था को बहाल करने की अपील कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर कार्य से जुड़े कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों ने चिंता बढ़ा दी है.

आंकड़ों के अनुसार मांस पैक करने और पोल्ट्री-प्रसंस्करण संयंत्र में कोविड-19 के मामले हाल ही में बहुत बढ़े हैं.

टेक्सास के शहर ऑस्टिन में भवन निर्माण का कार्य करने वाले मजदूरों में वायरस के मामले बढ़ रहे हैं, जहां हाल ही में काम दोबारा शुरू किया गया है.

यहां तक कि व्हाइट हाउस भी इससे बच नहीं पाया है. ट्रंप के लिए काम करने वाले एक व्यक्ति और उप राष्ट्रपति माइक पेंस की प्रेस सचिव के भी कोविड-19 से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है.

व्यावसायिक प्रतिष्ठानों पर लगे प्रतिबंधों में धीरे-धीरे दी जा रही ढील और इन बढ़ते मामलों ने देशभर में कर्मचारियों के लिए खतरा बढ़ा दिया है.

क्षेत्रीय स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मार्क एस्कॉट ने ऑस्टिन शहर परिषद से कहा, ‘इस समय जो लोग बीमार पड़ रहे हैं, उनमें अधिकतर काम करने वाले लोग हैं.’

उन्होंने कहा, ‘जैस-जैसे अधिक लोग काम करना शुरू करेंगे यह खतरा और बढ़ता जाएगा.’

इंडियाना के लोगन्सपोर्ट में ‘टायसन प्लांट’ को भी करीब 900 कर्मचारियों के संक्रमित पाए जाने के बाद 25 अप्रैल को बंद कर दिया गया था. वहां परिसर को पूरी तरह संक्रमण मुक्त करने के बाद बृहस्पतिवार को काम शुरू हुआ.

कम्पनी की प्रवक्ता ही यांग ने कहा कि 2,200 में से किसी भी कर्मचारी को जांच किए बिना काम पर लौटने नहीं दिया जाएगा.

इस बीच जेलों में भी कोरोना वायरस के मामले बढ़े हैं. 25 अप्रैल तक जहां 730 कैदी संक्रमित थे, वहीं पांच मई को यह संख्या 2,066 हो गई.

ब्रिटेन में सार्वजनिक परिवहन में लोगों को मास्क लगाने की सलाह

कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिये लगाए गए लॉकडाउन को लेकर एक नए दस्तावेज में ब्रिटिश सरकार द्वारा जारी नए दिशानिर्देश में पाबंदियों में सोमवार से मामूली रियायत का जिक्र है और लोगों को यह सलाह भी दी गई है कि सार्वजनिक परिवहन में यात्रा के दौरान अपना चेहरा मास्क से ढकें.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

स्कॉटलैंड प्रशासन ने जहां पहले ही चेहरे पर मास्क लगाने की अनुशंसा की है यह पहला मौका है जब ब्रिटिश सरकार ने इसे अपने तय दिशानिर्देशों का हिस्सा बनाया है जो प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन द्वारा रविवार रात को इस खतरनाक वायरस से निपटने के लिए घोषित सशर्त योजना का हिस्सा है.

करीब 50 पन्नों के इस दिशानिर्देश में कहा गया है, ‘क्योंकि अब और लोग काम पर लौट रहे हैं ऐसे में घर के बाहर लोगों की आवाजाही ज्यादा होगी. सरकार अब लोगों को यह सलाह दे रही है कि अपने चेहरों को ढककर रखें क्योंकि हर बार सामाजिक दूरी के दायरे का पालन करना संभव नहीं होता और वे उन लोगों के संपर्क में आते हैं जिनसे वे अक्सर नहीं मिलते, उदाहरण के लिये सार्वजनिक परिवहन या कोई दुकान.’

चीन में वायरस के दूसरे दौर की आशंका के बीच 16 नए मामले

बीजिंग: चीन के वुहान में कोविड-19 के नए समूह उभरने के एक दिन बाद देश में कोरोना वायरस के 16 नए मामले सामने आए हैं. इनमें 15 मामले ऐसे हैं जिनमें मरीजों में लक्षण नजर नहीं आए.

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) ने मंगलवार को बताया कि आंतरिक मंगोलिया स्वायत्त क्षेत्र में विदेश से संक्रमण लेकर आने वाला एक मामला सामने आया था जबकि स्थानीय स्तर पर संक्रमण का कोई मामला नहीं था.

सरकारी समाचार-पत्र ‘ग्लोबल टाइम्स’ ने मंगलवार को खबर दी कि दो प्रांतों में कोविड-19 के संक्रमण समूहों के फिर से उभरने के बाद चीनी विशेषज्ञ महामारी के दूसरे दौर की आशंका को लेकर चिंतित लोगों को आश्वस्त करने में जुटे हुए हैं.

विशेषज्ञों ने ऐसे छिटपुट मामलों को बड़े संक्रामक रोग के लिए सामान्य बताया है. संक्रमण के नए मामले बढ़ने के बावजूद चीनी चिकित्सा विशेषज्ञों ने कहा कि हुबेई प्रांत के वुहान, जिलिन प्रांत में शुलान में संक्रमणों का नया समूह छिट-पुट है और इसका यह मतलब नहीं है कि दूसरे दौर का खतरा मंडरा रहा है.

खबर में बताया गया कि संक्रमणों के इन समूहों के उभरने के बाद, जिलिन और हुबेई प्रांत के अधिकारी संक्रमण को बड़े क्षेत्रों में फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए करीबी संपर्कों का पता लगाने के प्रयास तेज कर रहे हैं.

रविवार से वुहान में कोविड-19 के छह नये मामले सामने आए हैं और ये सभी एक ही स्थानीय समुदाय से हैं. सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना ने लापरवाही के लिए सोमवार को एक स्थानीय अधिकारी को बर्खास्त कर दिया.

सरकारी समाचार समिति शिन्हुआ ने अपनी एक खबर में बताया कि सत्तारूढ़ चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के चांगक्विंग स्ट्रीट कार्यसमिति के सचिव झांग यूजिन को वुहान के सनमिन आवासीय समुदाय में संक्रमण के मामले सामने आने के बाद पद से हटा दिया गया है.

संक्रमण के ये सभी मामले हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान के सनमिन आवासीय समुदाय में पाए गए हैं. यह इलाका चांगक्विंग के अधिकार क्षेत्र में आता है. खबर में कहा गया है कि झांग को आवासीय परिसर का सही प्रकार से प्रबंधन नहीं कर पाने की वजह से पद से हटाया गया है.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

डोंगशिहू जिला स्वास्थ्य ब्यूरो के निदेशक ली पिंग ने कहा कि नए मामलों के सामने आने के बाद करीब 20 हजार लोगों का न्यूक्लिक एसिड परीक्षण अलग-अलग बैच में कराया जाएगा. जिन लोगों की जांच कराई जाएगी उनमें से 5000 लोग सनमिन आवासीय समुदाय के आसपास रहने वाले हैं और अन्य 14 हजार लोग पास के बाजार दुओलुओकोउ से हैं.

वुहान में 650 ऐसे मामले भी सामने आए हैं जिनमें लक्षण नहीं दिख रहे हैं. हुबेई प्रांत की आबादी पांच करोड़ 60 लाख से ज्यादा है और उसे वायरस का प्रसार रोकने के लिए 23 जनवरी से ही बंद कर दिया गया था. यह बंद 24 मार्च को वापस लिया गया.

वुहान शहर में बंद आठ अप्रैल को हटाया गया. शहर में करीब एक करोड़ 10 लाख लोग रहते हैं.

इस बीच चीन ने सभी क्षेत्रों में कोविड-19 के जोखिम के स्तर को और कम कर दिया तथा उसकी पूरी तरह रोकथाम के संकेत दिये. चीन में कारोबार और कारखानों के खुलने के साथ ही स्थिति लगभग पूरी तरह सामान्य हो रही है.

चीन ने सोमवार को अपने सबसे प्रमुख थीम पार्क शंघाई डिज्नीलैंड को विषाणु संक्रमण रोधी उपायों के साथ खोल दिया.

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के अनुसार, रविवार को देश में संक्रमण के 17 नए मामले सामने आए हैं जिनमें से सात मामले विदेश से आए लोगों से जुड़े हैं. इसी के साथ देश में संक्रमण के मामले बढ़ कर 82,918 हो गए हैं.

जिलिन प्रांत के शुलान शहर में कोरोना वायरस के मामले अचानक बढ़ जाने के बाद रविवार को वहां मार्शल लॉ लगा दिया गया. शहर में शनिवार को 11 मामले और रविवार को तीन और मामले सामने आए थे.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने बताया कि सोमवार को ही देश में बिना लक्षण वाले 15 मामले सामने आए जिससे ऐसे मामलों की कुल संख्या 760 हो गई.

ऑस्ट्रेलिया के राज्यों में लॉकडाउन से राहत की घोषणा

मेलबर्न: ऑस्ट्रेलिया में लॉकडाउन से थम गई अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के लिए कई राज्यों ने कोरोना वायरस संबंधित कुछ प्रतिबंधों को हटाने की घोषणा की है.

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने शुक्रवार को कहा था कि बदलाव अगले तीन महीनों में धीरे-धीरे आएगा, लेकिन स्वास्थ्य अधिकारी संक्रमण के नए मामलों की निगरानी करना जारी रखेंगे. बदलावों के बारे में राज्य अंतिम निर्णय लेंगे.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

विक्टोरिया के प्रधानमंत्री डेनियल एंड्र्यूज ने सोमवार को एक साथ परिवार के सदस्यों और दोस्तों के इकठ्ठा होने पर लगे प्रतिबंध को हटा दिया.

रविवार को पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मार्क मैकगोवन ने कैफे, बार, रेस्तरां और पब को हर चार वर्ग मीटर में अधिकतम 20 लोगों के साथ फिर से खोलने की अनुमति देने की योजना की घोषणा की, जो 18 मई से प्रभावी होगी.

मॉरिसन ने कोविड-19 महामारी प्रतिबंध को हटाकर व्यवसायिक काम फिर से शुरू कर तीन चरणों में अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की रविवार को घोषणा की जिसके बाद राज्यों ने ये नवीनतम घोषणाएं की.

ऑस्ट्रेलिया में संक्रमण के कुल मामले 6,966 सामने आए हैं जिनमें से 97 लोगों की मौत हो चुकी है.

सिंगापुर में कुछ पाबंदियों में रियायत दी गई

सिंगापुर: सिंगापुर में कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर लगायी गई कुछ पाबंदियों में मंगलवार को रियायत देते हुए कुछ व्यवसायों को फिर से खोलने की अनुमति दी गई.

सिंगापुर ने आर्थिक गतिविधियों को फिर से शुरू करने की दिशा में यह पहला कदम उठाया है.

डॉरमेट्री में रहने वाले विदेशी नागरिकों में हालांकि संक्रमण के मामले बढ़े हैं. डॉरमेट्री एक ऐसे बड़े कमरे को कहते हैं, जिनमें ज्यादा संख्या में बिस्तर लगे होते हैं और उसमें रहने वाले लोगों के लिये एक साझा शौचालय होता है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देश में मंगलवार को कोरोना वायरस के 884 और नए मामले सामने आये हैं जिससे संक्रमण के कुल मामलों की बढ़कर 24,671 हो गई है.

यहां जनवरी में इस महामारी का पहला मामला सामने आया था.

कोविड-19 से निपटने के लिए लगाई गई विभिन्न पाबंदियों के तहत 22 अप्रैल से कई व्यवसाय बंद थे.

देश में कोरोना वायरस से संक्रमित 53 वर्षीय एक भारतीय व्यक्ति की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि व्यक्ति की मौत नौ मई को हुई थी और बाद में 10 मई को उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई. मौत के पीछे की वजह हृदय से जुड़ी बीमारी को बताया गया है.

इसी बीच सिंगापुर के 68 वर्षीय एक व्यक्ति की मौत कोविड-19 से पैदा हुई समस्याओं की वजह से हो गई. देश में अब तक 21 लोगों की मौत कोरोना वायरस से संक्रमित होने की वजह से हो चुकी है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)