भारत

बिहारः नाबालिग से गैंगरेप कर हत्या, पुलिसकर्मी पर आरोपियों से शव जलवाने का आरोप

घटना पूर्वी चंपारण के कुंडवा चैनपुर की है, जहां 21 जनवरी को चार लोगों ने घर में अकेली 12 साल की बच्ची से बलात्कार कर उसकी हत्या कर दी. वायरल हुए एक ऑडियो के आधार पर स्थानीय थाना प्रभारी द्वारा  आरोपियों से सबूत मिटाने के लिए पीड़िता के शव को जलाने की बात कहने का दावा किया गया है.

Motihari east Champaran

मोतिहारीः बिहार के पूर्वी चंपारण जिले में 12 साल की एक किशोरी से सामूहिक बलात्कार कर हत्या करने का मामला सामने आया है.

टाइम्स नाउ की रिपोर्ट के अनुसार, आरोप है कि साक्ष्यों को मिटाने के लिए बच्ची की हत्या के बाद उसके शव को जला दिया गया.

इस घटना का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें आरोपियों को पीड़िता का शव जलाते देखा जा सकता है. इस वीडियो में पीड़िता की मां को अपनी बेटी के लिए रोते भी देखा जा सकता है.

मामले में लापरवाही के आरोप में एसएचओ को निलंबित कर दिया गया है. बता दें कि 21 जनवरी को 12 साल की बच्ची का उस समय चार लोगों ने कथित बलात्कार किया, जब वह घर पर अकेली थी.

पीड़िता नेपाल के बरबर्डिया की रहने वाली थी और अपने पिता के साथ यहां रहती थी. उनके पिता एक स्थानीय बाजार में चौकीदार के तौर पर काम करते हैं.

पीड़िता के पिता को कथित तौर पर आरोपियों ने धमकी भी दी कि अगर उन्होंने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई तो उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा.

इस संबंध में एक ऑडियो क्लिप भी वायरल हुई है, जिसमें कुंडवा चैनपुर थाने के एसएचओ संजीव रंजन को आरोपियों से यह कहते हुए सुना जा सकता है कि वे सबूत मिटाने के लिए पीड़िता के शव को नष्ट कर दें.

एसएचओ रंजन एक स्थानीय नेता रमेश शाह से कहते सुनाई दे रहे हैं कि वे पीड़िता के परिवार के पुलिस तक पहुंचने से पहले ही पीड़िता के शव को नष्ट कर दें.

हालांकि, तीन फरवरी को पीड़िता के पिता ने मोतिहारी के सब डिविजनल पुलिस अधिकारी के पास एफआईआर दर्ज कराई.

इस बीच पूर्वी चंपारण के एसपी नवीन चंद्रा झा ने कहा, ‘बलात्कार और हत्या के मामले में चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है जबकि सात लोगों के खिलाफ सबूतों को नष्ट करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है. इन सात में से दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है.’

पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने में देरी और अपराध का पता चलने के बाद भी शव का पोस्टमार्टम नहीं कराने के लिए एसएचओ को सस्पेंड कर दिया है.

इस बीच आरोपियों का परिवार एसपी से मिला और जमीनी विवाद में उनके घर के लोगों को मामले में फंसाने का आरोप लगाया.

वहीं, घटना की जांच के लिए विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है. एसपी ने मामले की गंभीरता को देखते हुए एफएसएल की टीम को तलब किया है.

एसपी ने बताया कि एफएसएल की टीम वैज्ञानिक तरीके से मामले की जांच करेगी और साक्ष्य जुटाएगी.

बिहार में विपक्ष के नेता और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेता तेजस्वी यादव ने राज्य की नीतीश कुमार सरकार पर निशाना साधा.


उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘बिहार में हाथरस कांड की तरह 12 साल की बच्ची की निर्मम हत्या कर उसकी लाश रातों-रात जला दी गई. पिता का कहना है बच्ची के साथ गैंगरेप हुआ. ऑडियो में सुनिए पुलिस अधिकारी कैसे अपराधियों को लाश जलाने की तरकीबें सुझा रहे हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी नाकामयाबियों के सिकंदर बन गए हैं.’