भारत

महाराष्ट्र: पुष्पक एक्सप्रेस में महिला से सामूहिक बलात्कार के सभी आठ आरोपी गिरफ़्तार

घटना लखनऊ-मुंबई पुष्पक एक्सप्रेस ट्रेन में महाराष्ट्र के इगतपुरी और कसारा रेलवे स्टेशन के बीच शुक्रवार रात को स्लीपर बोगी में हुई. रेलवे पुलिस के अधिकारी ने बताया कि आरोपियों में से चार का आपराधिक रिकॉर्ड है. जांच के दौरान यह भी पता चला कि उन्होंने कई यात्रियों से नकदी और मोबाइल फोन भी लूटे.

(फोटो साभार: इंडिया रेल इंफो)

मुंबई: महाराष्ट्र में इगतपुरी और कसारा रेलवे स्टेशनों के बीच लखनऊ-मुंबई पुष्पक एक्सप्रेस ट्रेन में 20 वर्षीय एक युवती के साथ किए गए सामूहिक बलात्कार के मामले में पुलिस ने सभी आठ आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी.

यह घटना शुक्रवार रात स्लीपर बोगी डी-2 में हुई. आरोपी मुंबई आ रही ट्रेन में इगतपुरी स्टेशन से चढ़े. यह कथित अपराध तब हुआ जब ट्रेन घाट खंड से गुजर रही थी. पुलिस ने तब इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया था.

एक पुलिस अधिकारी के अनुसार, इस मामले में अब सभी आठ आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

आरोपियों की पहचान प्रकाश उर्फ पाक्या दामू पारधी (20), अरशद शेख (19), अर्जुन उर्फ पाव्या सुभाष सिंह परदेशी (20), किशोर नंदू सोनवाने उर्फ कालिया (25), काशीनाथ रामचंद्र तेलम काश्या (23), आकाश शेनोर उर्फ आक्या (20), धनंजय भगत उर्फ गुड्डू (19) और राहुल आडोले उर्फ राहुल्या (22) के रूप में हुई है.

सरकारी रेलवे पुलिस (जीआरपी) के एक अधिकारी के अनुसार, ट्रेन में चढ़ने से पहले आरोपियों ने गांजा का सेवन किया था.

उन्होंने बताया कि आरोपियों की ट्रेन में लूटपाट की योजना नहीं थी. लेकिन, ट्रेन में चढ़ने के बाद आरोपियों में से एक ने चाकू दिखाकर एक यात्री का सामान लूटने की कोशिश की. डरे यात्री के नकदी देने से आरोपियों का हौसला बढ़ गया और उन्होंने अन्य यात्रियों को भी चाकू दिखाकर धमकाने का प्रयास किया. उन्हें लगा था कि अंधेरे में उनकी पहचान नहीं हो पाएगी.

पुलिस उपायुक्त (जीआरपी) मनोज पाटिल ने बताया कि इस मामले से जुड़े सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया. इनमें से चार का आपराधिक रिकॉर्ड है जबकि बाकी के खिलाफ पहले से कोई मामला दर्ज नहीं है. मामले की जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि आरोपियों ने 16 यात्रियों से नकदी लूटी और नौ मोबाइल फोन छीन लिए.

अधिकारी ने बताया कि आरोपियों ने 20 वर्षीय महिला से बलात्कार किया. महिला की हाल में ही शादी हुई थी और वह अपने पति के साथ मुंबई रहने जा रही थी. महिला के पति ने जब पत्नी को बचाने की कोशिश की तो आरोपियों ने उस पर हमला किया.

टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, जीआरपी के अधिकारियों ने बताया कि सर्वाइवर और अन्य यात्रियों के बयान सीआरपीसी की धारा 164 के तहत मजिस्ट्रेट के सामने दर्ज करवाए गए हैं. साथ ही उन्हें आरोपियों के ट्रेन में चढ़ने की सीसीटीवी फुटेज के साथ उनके मोबाइल नेटवर्क के टावर की लोकेशन भी मिल चुकी है.

यह भी बताया गया कि महिला को केंद्र की बलात्कार पीड़िताओं के लिए चलाई जाने वाली मनोधैर्य योजना के तहत मुआवजा देने की प्रक्रिया भी शुरू की गई है.

जीआरपी ने आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 395 (डकैती), 376 (डी)-सामूहिक बलात्कार के तहत मामला दर्ज किया है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)