भारत

कुणाल कामरा के बेंगलुरु में होने वाले शो रद्द, बोले- सत्ता कम से कम उत्पीड़न में तो समानता रख रही है

कॉमेडियन कुणाल कामरा ने एक ट्वीट में कहा, ‘जिस जगह शो होना था, उसे लेकर धमकियां दी जाने लगीं. लगता है कि यह भी कोविड-19 प्रोटोकॉल का हिस्सा है. मुझे लगता है कि मुझे अब कोरोना के एक वेरिएंट के तौर पर देखा जा रहा है.’ इससे पहले स्टैंडअप कॉमेडियन मुनव्वर फ़ारूक़ी के भी बेंगलुरु में होने वाले शो को पुलिस द्वारा रद्द करवाया गया था.

कुणाल कामरा. (फोटो साभार: फेसबुक/@kunalkamra88)

नई दिल्लीः दक्षिणपंथी समूहों के दबाव में स्टैंडअप कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी के लगातार रद्द हो रहे शो के कुछ दिनों बाद अब कॉमेडियन कुणाल कामरा के भी बेंगलुरू में होने जा रहे शो को रद्द कर दिया गया है.

रिपोर्ट के मुताबिक, कामरा ने ट्वीट कर अपने नए शो रद्द किए जाने की जानकारी दी.

केंद्र सरकार की नीतियों और उनकी असहिष्णुता के मुखर आलोचक रहे कामरा लंबे समय से भाजपा और उनके समर्थकों के निशाने पर रहे हैं.

इससे पहले मुनव्वर फारूकी के भी बेंगलुरू शो को रद्द किया गया था और तब उनका शो रद्द करवाने के लिए दबाव डालने पर बेंगुलरू पुलिस की खासी आलोचना हुई थी.

बेंगलुरू पुलिस पर यह आरोप लगा था कि उन्होंने शो के आयोजकों को सुरक्षा मुहैया कराने के बजाय दक्षिणपंथी समूहों की धमकियों से डर गई और शो के आयोजकों से ही आयोजन न करने को कहा.

बता दें कि कामरा के कई शो अगले बीस दिनों में होने थे. ट्विटर पर कमरा ने इन्हें रद्द किए जाने की वजहें बताई हैं.

कामरा ने लिखा, ‘पहला ये कि हमें कार्यक्रम स्थल पर 45 लोगों को बैठाने की अनुमति नहीं मिली, जबकि इससे अधिक लोगों को बैठाया जा सकता था. दूसरा, जिस कार्यक्रम स्थल पर शो का आयोजन होना था, उसे लेकर धमकियां दी जाने लगी कि अगर मैं वहां परफॉर्म करूंगा तो उसे बंद कर दिया जाएगा. मुझे लगता है कि यह भी कोविड-19 प्रोटोकॉल और नए दिशानिर्देशों का हिस्सा है. मुझे लगता है कि मुझे अब कोरोना के एक वेरिएंट के तौर पर देखा जा रहा है.’

 

बेंगलुरू पुलिस ने अभी तक इन आरोपों पर कोई टिप्पणी नहीं की है.

कामरा ने व्यंग्यात्मक तरीके से कहा, ‘जिन लोगों ने यह सोचा था कि कैसे कुणाल कामरा हर जगह शो कर रहा है, जबकि मुस्लिम कॉमेडियन मुनव्वर को कॉमेडी छोड़ने का फैसला करना पड़ा, अब हम यह जानकर सांत्वना पा सकते हैं कि सत्ताधारी वर्ग कम से कम लोगों के उत्पीड़न की कोशिश में समानता बरत रहा है.’

कामरा ने ट्वीट कर कहा, ‘हो सकता है कि अगर हम ऐसे ही समान उत्पीड़न की राह पर चलें, तो जलवायु परिवर्तन के बाद आने वाले युग में कभी समान आजादी के मुकाम तक पहुंच सके.’

कामरा के इस चार पेज के ट्वीट नोट में एक फॉर्मूला भी दिया गया है कि किसी शो को रद्द कैसे करना है और कैसे समर्थकों को इसका पालन करना है. इसमें व्यंग्यात्मक ढंग से पांच चरण बताए गए हैं कि कैसे दक्षिणपंथी समूहों ने फारूकी और कामरा के शो रद्द करवाने के लिए इनका पालन किया. उदाहरण के लिए, फारूकी के शो गोवा, मुंबई, रायपुर बेंगलुरू में रद्द किए गए. इन शो को रद्द किए जाने से पहले फारूकी भाजपा नेता के बेटे की शिकायत पर एक महीने तक जेल में भी रहे थे.

दरअसल भाजपा नेता के बेटे ने यह दावा किया था कि उन्होंने फारूकी को उनके शो के रिहर्सल के दौरान कथित तौर पर आपत्तिजनक व्यंग्य की रिहर्सल करते सुना है. हालांकि, बाद में सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें जमानत दे दी थी.

फारूकी के जेल जाने को लेकर न्याय से भटकना, उनके बुनियादी अधिकारों का हनन और उनकी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को रौंदने के तौर पर व्यापक निंदा की गई थी. यहां तक कि अन्य देशों में भी इसे लेकर रोष देखने को मिला था.

कामरा ने कहा, ‘आप इस फॉर्मूला को किसी ऐसे कलाकार पर भी लागू कर सकते हैं जिससे आप सहमत नहीं हैं, जो आपको मजाकिया नहीं लगता और जिसकी कला आपको पसंद नहीं है.’

कामरा ने एक अन्य ट्वीट में बेंगलुरू से सांसद तेजस्वी सूर्या को भी टैग किया.

तेजस्वी सूर्या अपनी सांप्रदायिक राजनीति के लिए जाने जाते हैं और उनके मुस्लिम विरोधी ट्वीट को लेकर एक बार केंद्र सरकार ने ट्विटर से उनके ट्वीट ब्लॉक करने को कहा था.

बता दें कि कामरा के व्यंग्यपूर्ण ट्वीट की वजह से उन्हें सुप्रीम कोर्ट की अवमाना के आरोपों का भी सामना करना पड़ा है.

इससे पहले इंडिगो, स्पाइजेट, गोएयर, एयर इंडिया और विस्तारा ने कारमा द्वारा एक वीडियो शेयर कने के बाद उन पर छह महीने का यात्रा प्रतिबंध लगा दिया था.

दरअसल इस वीडियो में कामरा को पत्रकार अर्णब गोस्वामी के साथ एकतरफा बातचीत करते दिखाया गया है. तब केंद्रीय उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने अन्य एयरलाइनों को भी उन पर प्रतिबंध लगाने के लिए विवादासप्द सलाह जारी की थी.