भारत

यूपी: शख़्स का दावा- जातिसूचक टिप्पणी के बाद शरारती तत्वों ने माथे पर एसिड से त्रिशूल बनाया

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर का मामला. पीड़ित व्यक्ति का आरोप है कि कुछ लोगों ने 18 मार्च को होली के दिन शराब का गिलास गिरने पर उसके माथे पर जबरन एसिड से त्रिशूल बनाया और उसके लिए जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल किया. पुलिस ने इसे झूठा मामला बताया है.

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर के आदेश (फोटोः वीडियोग्रैब)

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में एक शख्स ने आरोप लगाया है कि 18 मार्च को होली के दिन कुछ लोगों ने शराब का गिलास गिरने पर उसके माथे पर एसिड से त्रिशूल बना दिया.

पीड़ित शख्स का आरोप है कि आरोपियों ने उसके खिलाफ जातिसूचक शब्दों का भी इस्तेमाल किया.

पत्रकार पीयूष राय ने पीड़ित शख्स की एक वीडियो क्लिप ट्वीट की है, जिसमें पीड़ित व्यक्ति आदेश को सुना जा सकता है.

पत्रकार राय ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कर आदेश के हवाले से बताया कि शराब का गिलास गिरने की वजह से शरारती तत्वों ने कथित तौर पर उसके माथे पर त्रिशूल बना दिया.

इस वीडियो में आदेश बताते हैं, ‘मैं काशीराम कॉलोनी का रहने वाला है. यह घटना 18 मार्च को सुबह 10.30 बजे हुई. मुझे फोन कर 10 मिनट के लिए बुलाया गया. जब मैं बुलाई गई जगह पर पहुंचा तो मुझसे वहां रखे तीन-चार गिलास धोने को कहा गया. गिलास धोने के बाद जब मैं पानी लेने गया तो वहां शराब से भरे एक गिलास से टकरा गया, जिसके बाद टिंकू नाम के एक शख्स ने मेरी आंख पर मुक्का मारा.’

वीडियो में आदेश कह रहे हैं, ‘जब मैंने यह पूछा कि मुझे क्यों पीट रहे हो? इस पर मुझसे कहा गया कि तुम जान जाओगे. उनमें से तीन या चार लोगों ने मुझे पकड़ लिया, मेरे गला दबाते हुए कहा कि यह चमार है. इसे सबक सिखाओ और ऐसी निशानी दो कि यह अपनी पूरी जिंदगी में नहीं भूल सके.’

आदेश बताते हैं, ‘उन्होंने तेजाब से मेरे माथे पर त्रिशूल बना दिया. हालांकि, मुझे दर्द हो रहा था, लेकिन फिर भी उन्होंने मुझे नहीं छोड़ा. वे मेरी आंखों में भी तेजाब डालने की बातें कर रहे थे ताकि मैं देखकर किसी को कुछ बता नहीं सकूं. मैं उनमें से सिर्फ विशाल राणा और टिंकू के नाम जानता हूं लेकिन वहां चार से पांच आदमी थे. मैं उन सभी के नाम नहीं जानता.’

आरोपियों को हुलिया पूछने के सवाल पर आदेश कहते हैं कि वे सभी गैंगस्टर की तरह दिखते थे और जुआ, सट्टा खेलते हैं.

आदेश का कहना है कि उन्होंने प्रशासन के समक्ष शिकायत दर्ज कराई लेकिन किसी ने मेरी सुध नहीं ली.

आदेश ने यह भी कहा कि उनकी मां, बहनों और पत्नी को धमकाया जा रहा है.

जब पत्रकारों ने आदेश की स्थिति के बारे में सहारनपुर पुलिस से पूछा तो एसएसपी आकाश तोमर ने कहा कि जांच से पता चला है कि कथित पीड़ित होली के दिन अपने दोस्तों के साथ शराब पी रहा था.

उन्होंने बताया, ‘इसके बाद तीनों ने एक-दूसरे पर रंग लगाया और इस रंग से वजह से इनके चेहरे पर रिएक्शन हो गया, जो तीनों के चेहरों पर देखा जा सकता है. हमन सभी तीनों के मेडिकल टेस्ट किए हैं और जांच में तेजाब नहीं पाया गया.’

तोमर ने कहा, ‘हमें बाद में पता चला कि आदेश ने अपने दोस्तों से 10,000 रुपये उधार लिए थे. अब वह उन पर गलत आरोप लगा रहा है ताकि उसे पैसे लौटाने नहीं पड़े.’