भारत

अनिल अंबानी ने रिलायंस पावर और आर-इंफ्रा के निदेशक पद से इस्तीफ़ा दिया

रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर और रिलायंस पावर ने बताया कि अनिल अंबानी ने ‘सेबी के अंतरिम आदेश के अनुपालन’ में कंपनी के निदेशक मंडल से इस्तीफ़ा दिया है. सेबी ने फरवरी में रिलायंस होम फाइनेंस लिमिटेड, अनिल अंबानी और तीन अन्य को कथित रूप से धन निकालने के आरोप में प्रतिभूति बाज़ार से प्रतिबंधित कर दिया था.

अनिल अंबानी. (फाइल फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्ली: अनिल धीरूभाई अंबानी ग्रुप (एडीएजी) के चेयरमैन अनिल अंबानी ने शुक्रवार को रिलायंस पावर और रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर के निदेशक पद से इस्तीफा दे दिया.

इससे पहले भारतीय प्रतिभूति एवं विनियम बोर्ड (सेबी) ने अनिल अंबानी के शेयर बाजारों में किसी सूचीबद्ध कंपनी से जुड़ने पर रोक लगा दी थी.

रिलायंस पावर ने शेयर बाजार को दी गई सूचना में कहा, ‘गैर-कार्यकारी निदेशक अनिल डी. अंबानी सेबी के अंतरिम आदेश के बाद कंपनी के निदेशक पद से हट गए हैं.’

रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर ने भी शेयर बाजार को बताया कि अनिल अंबानी ने ‘सेबी के अंतरिम आदेश के अनुपालन’ में कंपनी के निदेशक मंडल से इस्तीफा दे दिया है.

सेबी ने फरवरी में रिलायंस होम फाइनेंस लिमिटेड, उद्योगपति अनिल अंबानी और तीन अन्य व्यक्तियों को कथित रूप से धन निकालने के आरोप में प्रतिभूति बाजार से प्रतिबंधित कर दिया था.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, नियामक ने अगले आदेश तक अंबानी और तीन अन्य को सेबी के साथ पंजीकृत किसी भी मध्यस्थ, किसी भी सूचीबद्ध सार्वजनिक कंपनी या किसी भी सार्वजनिक कंपनी के कार्यवाहक निदेशकों/प्रमोटरों के साथ खुद को जोड़ने से रोक दिया, जो जनता से धन जुटाने का इरादा रखता है.

एडीएजी समूह की दोनों कंपनियों ने कहा कि आर-पावर और आर-इंफ्रा के निदेशक मंडल ने शुक्रवार को राहुल सरीन को पांच साल के कार्यकाल के लिए स्वतंत्र निदेशक के रूप में अतिरिक्त निदेशक नियुक्त किया है.

हालांकि यह नियुक्ति अभी आम बैठक में सदस्यों की मंजूरी के अधीन है.

फर्मों ने कहा कि कंपनी के निदेशक मंडल ने सर्वसम्मति से अंबानी के नेतृत्व और कंपनी को बड़ी वित्तीय चुनौतियों के माध्यम से आगे बढ़ाने और आने वाले वित्तीय वर्ष के दौरान संभावित रूप से ऋण मुक्त होने में योगदान को लेकर पूरा भरोसा जताया.

उन्होंने यह भी कहा कि बोर्ड मामले को जल्द से जल्द बंद करने और सभी हितधारकों के हित में कंपनी को अपना दृष्टिकोण और नेतृत्व प्रदान करने के लिए अंबानी को वापस आमंत्रित करने के लिए तत्पर हैं.

बोर्ड ने नोट किया कि पिछले एक साल के दौरान कंपनी ने अपने लगभग 8 लाख शेयरधारकों के लिए अत्यधिक मूल्य बनाया है, जिसमें शेयर की कीमत 32 रुपये के निचले स्तर से बढ़कर 150 रुपये (469 प्रतिशत) हो गई है.

72 वर्षीय राहुल सरीन एक सिविल सेवक रहे हैं, जिनका 35 से अधिक वर्षों से लोक सेवा का विशिष्ट रिकॉर्ड है. वे भारत सरकार के सचिव के रूप में सेवानिवृत्त हुए थे. वर्तमान में सरीन अफथोनिया प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)