कैंपस

यूपी: ग़ाज़ियाबाद में शिक्षण संस्थान के हॉस्टल की लिफ्ट गिरने से 10 छात्र घायल

मामला डासना के आईएमएस प्रबंधन संस्थान का है. बताया गया है कि लिफ्ट का केबल पांचवीं मंजिल पर टूट गया और वह नीचे आ गिरी. इसमें सवार चार छात्रों के पैरों में फ्रैक्चर हुआ जबकि अन्य को चोटें आई हैं. अधिकारियों का कहना है कि प्रथमदृष्टया दुर्घटना का कारण ओवरलोडिंग है.

आईएमएस प्रबंधन संस्थान, गाजियाबाद. (फोटो साभार: कॉलेज वेबसाइट)

गाजियाबाद: गाजियाबाद में एक प्रबंधन संस्थान के हॉस्टल में 10 छात्र बुधवार को एक लिफ्ट गिरने से घायल हो गए. पुलिस ने यह जानकारी दी और कहा कि क्षमता से अधिक लोगों के सवार (ओवरलोडिंग) होने के कारण लिफ्ट गिर गई.

उन्होंने बताया कि यह घटना डासना कस्बे के आईएमएस प्रबंधन संस्थान में सुबह हुई जब लिफ्ट का केबल (तार) पांचवीं मंजिल पर टूट गया और लिफ्ट नीचे गिर गई.

सहायक पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) इराज राजा ने बताया कि 10 में से चार छात्रों के पैरों में ‘फ्रैक्चर’ हो गया जबकि अन्य को मामूली चोटें आई हैं. घायल छात्र बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (बीबीए) और बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन (बीसीए) के प्रथम वर्ष के छात्र हैं.

अनुमंडल मजिस्ट्रेट सदर विनय सिंह ने कहा, ‘प्रथमदृष्टया, दुर्घटना का कारण ओवरलोडिंग है. लिफ्ट बनाने वाली कंपनी के इंजीनियरों को तकनीकी पहलू जानने के लिए बुलाया गया है कि लिफ्ट क्यों गिर गई.’

अमर उजाला के मुताबिक, लिफ्ट की क्षमता छह लोगों का भार संभालने की थी लेकिन लिफ्ट में दोगुना छात्र चढ़े थे. घटना पर आईएमएस यूसी कैंपस के निदेशक डॉ. अजय कुमार ने कहा कि लड़कों के हॉस्टल में लगी लिफ्ट की क्षमता कुल छह छात्रों की थी लेकिन 12 विद्यार्थी सवार हो गए. क्षमता से अधिक भार होने के कारण यह हादसा हुआ है.

उन्होंने कहा कि लिफ्ट के मेंटेनेंस का कार्य बीते सप्ताह कराया गया था. एक सप्ताह पहले लिफ्ट ओवरलोड होने व बेवजह खोलने के प्रयास के मामले में सभी दिशानिर्देश जारी किए गए थे.

डीएम के आदेश पर कॉलेज पहुंचे एसडीएम सदर विनय कुमार सिंह ने कहा कि कॉलेज छात्रावास में लिफ्ट गिरने की घटना की जांच की गई. कॉलेज प्रबंधन ने लिफ्ट ओवरलोड होने से हादसे की बात कही है. मामले में तकनीकी टीम की ओर से लिफ्ट की जांच कराई जाएगी.

दूसरी ओर मसूरी थाना प्रभारी योगेंद्र सिंह का कहना है कि लिफ्ट टूटने के मामले में अभी तक कोई शिकायत नहीं मिली है. इसके अलावा सभी पहलुओं पर जांच की जा रही है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)