भारत

पैगंबर मोहम्मद पर आपत्तिजनक टिप्पणी के आरोप में भाजपा नेता नूपुर शर्मा के ख़िलाफ़ एफ़आईआर

मुंबई पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि एक मुस्लिम संगठन रज़ा अकादमी के संयुक्त सचिव इरफ़ान शेख़ की शिकायत पर बीते 28 मई की रात दक्षिण मुंबई के पायधुनी थाने में भाजपा की प्रवक्ता नूपुर शर्मा के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया गया है. शिकायत में ज्ञानवापी मस्जिद मुद्दे पर हुई एक टीवी बहस के दौरान पैगंबर मोहम्मद और उनकी पत्नी पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने का आरोप शर्मा पर लगाया गया है.

नूपुर शर्मा. (फोटो साभार: फेसबुक)

मुंबई: मुंबई पुलिस ने एक समाचार चैनल पर चर्चा के दौरान पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ कथित रूप से आपत्तिजनक टिप्पणी करने को लेकर भारतीय जनता पार्टी की प्रवक्ता नूपुर शर्मा के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

एक अधिकारी ने रविवार को बताया कि एक मुस्लिम संगठन रजा अकादमी के संयुक्त सचिव इरफान शेख की शिकायत पर बीते 28 मई की रात दक्षिण मुंबई के पायधुनी थाने में शर्मा के खिलाफ मामला दर्ज किया गया.

शेख के बयान के अनुसार, उन्हें वॉट्सऐप पर ज्ञानवापी मस्जिद मुद्दे पर बहस से संबंधित एक लिंक मिला, जिसमें शर्मा ने भाग लिया था. उन्होंने शिकायत में ​कहा कि पैगंबर और उनकी पत्नी पर शर्मा द्वारा की गई टिप्पणियों को देखकर वह आहत हुए हैं.

उन्होंने बताया कि शर्मा के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धाराओं 295ए (विद्वेषपूर्ण कार्य जो किसी वर्ग के धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान करके उसकी धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आशय से किए गए हों), 153ए (समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना) और 505 (2) (विभिन्न समुदायों के बीच शत्रुता, घृणा या वैमनस्य की भावनाएं पैदा करने के आशय से झूठे बयान आदि फैलाना) के तहत मामला दर्ज किया गया है.

पुलिस के अनुसार, शेख ने अपनी शिकायत में कहा है कि उन्हें शर्मा की टिप्पणी का वॉट्सऐप पर एक क्लिप मिला है, जिससे उनकी धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं.

बीते 27 मई को टाइम्स नाउ समाचार चैनल पर बहस प्रसारित होने के बाद नूपुर शर्मा ने स्क्रीनशॉट ट्वीट कर कहा कि उन्हें और उनके परिवार को जान से मारने की धमकी मिल रही है. उसने दिल्ली पुलिस के ट्विटर हैंडल को भी टैग किया, जिसके बाद उन्होंने जवाब दिया कि कोई जल्द ही उससे संपर्क करेगा.

न्यूज़लॉन्ड्री की रिपोर्ट के अनुसार, ऑल्ट न्यूज़ के मोहम्मद ज़ुबैर द्वारा समाचार चैनल पर हुई बहस से संबंधित वीडियो क्लिप ट्वीट करने के बाद शर्मा ने ‘मौत और सिर काटने की धमकी’ मिलने के लिए उन्हें दोषी ठहराया.

नूपुर शर्मा ने बीते 27 मई को इस संबंध ने ट्वीट कर कहा था, ‘दिल्ली पुलिस कमिश्नर कृपया ध्यान दें कि इसके लिए पूरी तरह से मुहम्मद ज़ुबैर जिम्मेदार हैं, जिन्होंने ‘तथ्य-जांच’ करने के बजाय माहौल को खराब करने, सांप्रदायिक वैमनस्य पैदा करने और मेरे और मेरे परिवार के खिलाफ सांप्रदायिक और लक्षित घृणा फैलाने के लिए एक नकली-कहानी को आगे बढ़ाया है.’

उन्होंने दिल्ली पुलिस और इसके कमिश्नर को संबोधित करते हुए कहा था, ‘मुझे बलात्कार की धमकी दी जा रही है. मेरी बहन, मां, पिता को भी मौत और सिर काटने की धमकियां की मिल रही हैं. मैंने इसकी जानकारी दिल्ली पुलिस को भी दे दी है. अगर मुझे या मेरे परिवार के किसी सदस्य के साथ कुछ भी अनहोनी हो जाए.’

राष्ट्रीय महिला आयोग ने ट्वीट कर कहा कि उसने शर्मा और उनके परिवार के खिलाफ धमकियों का संज्ञान लिया है.

इस बीच, टाइम्स नाउ ने बहस से खुद को अलग करते हुए कहा कि बहस पर व्यक्त नूपुर शर्मा के विचार चैनल द्वारा ‘समर्थित’ नहीं थे. चैनल ने एक बयान में कहा, ‘हम अपनी बहस के प्रतिभागियों से संयम बनाए रखने और साथी पैनलिस्टों के खिलाफ असंसदीय भाषा में शामिल नहीं होने का आग्रह करते हैं.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)