भारत

तमिलनाडु: अंतरजातीय विवाह करने वाले युवक-युवती की हत्या, दो लोग गिरफ़्तार

तमिलनाडु के तंजावुर में कुंभकोणम के पास अंतरजातीय विवाह करने युगल को सुलह करने के बहाने युवती के भाई और उसके साले ने घर बुलाया था, जहां उनकी हत्या कर दी गई. चेन्नई के एक निजी अस्पताल में नर्स के रूप में कार्यरत सरण्या अनुसूचित जाति से ताल्लुक रखती थीं और पिछले हफ्ते उन्होंने पिछड़ा वर्ग से आने वाले पी. मोहन से परिवार की मर्ज़ी के बिना शादी कर ली थी.

तंजावुर: तमिलनाडु के तंजावुर में कुंभकोणम के पास दूसरी जाति में शादी करने वाले एक नवविवाहित जोड़े की कुछ लोगों ने हत्या कर दी. पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी.

पुलिस के मुताबिक नवविवाहित जोड़े की हत्या के मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है. दोनों ही व्यक्ति दुल्हन के रिश्तेदार बताए जा रहे हैं.

पुलिस ने कहा कि इस मामले की गहन जांच जारी है और यह निष्पक्ष होगी. तंजावुर की पुलिस अधीक्षक जी. रावली प्रिया के अनुसार परिवार में विवाद के कारण यह दोहरी हत्या हुई.

दोहरे हत्याकांड में शामिल दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है और जांच जारी है. पुलिस अधीक्षक ने कहा, ‘हत्याकांड के कुछ चश्मदीदों का पता चला है और हम उनके बयान दर्ज करेंगे.’

पुलिस ने कहा कि प्रारंभिक जांच से पता चला है कि चेन्नई के एक निजी अस्पताल में नर्स के रूप में कार्यरत सरण्या (24 वर्ष) को पोन्नूर के वी. मोहन (31 वर्ष) से प्यार हो गया था. दोनों अलग-अलग जाति के थे और कुछ दिन पहले ही उन्होंने शादी की थी.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, अनुसूचित जाति समुदाय से ताल्लुक रखने वाली सरण्या को कथित तौर पर अपने परिवार के कड़े विरोध का सामना करना पड़ा था, जब उन्होंने मोहन के साथ अपने संबंधों का खुलासा किया था, जो एक पिछड़ा वर्ग समुदाय से थे.

परिवार ने सरण्या को मोहन से शादी करने से मना कर दिया था और उन्हें बताया था कि उन्होंने उसकी शादी एक करीबी रिश्तेदार रंजीत (22 वर्ष) के साथ तय की है.

इन परिस्थितियों में सरण्या और मोहन ने एक सप्ताह पहले अपने परिवारों की इच्छा के विरुद्ध शादी कर ली थी.

शादी के बारे में जानने के बाद सरण्या के भाई एस. शक्तिवेल (31 वर्ष) ने सुलह बहाने नवविवाहित युगल को बीते 13 जून को एक पारिवारिक भोज के लिए कुंबाकोणम के पास थुलुक्कावेली गांव में आमंत्रित किया था.

दंपति 13 जून की दोपहर कुंभकोणम पहुंचे और दोपहर का भोजन किया. दोपहर करीब 3 बजे जब दंपति चेन्नई वापस जाने के लिए घर से बाहर निकले, तो शक्तिवेल और रंजीत ने कथित तौर पर उन पर कुल्हाड़ियों से हमला किया और उन्हें खून से लथपथ छोड़ दिया.

शक्तिवेल चाहता था कि सरण्या तंजावुर जिले के देवनांचरी में रहने वाले उसके साले रंजीत से शादी करे.

स्थानीय लोगों की सूचना पर मौके पर पहुंची चौझापुरम पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है. बाद में उन्होंने कुंभकोणम बस स्टैंड से शक्तिवेल और रंजीत को गिरफ्तार कर लिया.

उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या) के तहत मामला दर्ज किया गया है. पुलिस ने बताया कि आरोपियों को गिरफ्तार कर बाद में रिमांड पर लिया गया था.

द हिंदू के मुताबिक, इस बीच, विभिन्न राजनीतिक दलों और संगठनों के सदस्यों ने कुंभकोणम में सरकारी जिला मुख्यालय अस्पताल के सामने प्रदर्शन किया, जहां पीड़ितों के शवों का पोस्टमॉर्टम किया गया, जिसमें जाति-प्रेरित हत्याओं को रोकने के लिए कानून बनाने की मांग की गई.

जाति के नाम पर लोगों की हत्या को अमानवीय कृत्य करार देते हुए प्रदर्शनकारियों ने मोहन के परिवार को राहत देने की मांग की.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)