दुनिया

गाजा पट्टी पर इज़रायल के हमले में हमास के कमांडर समेत 12 लोगों की मौत, तनाव बढ़ा

इज़रायल ने इस सप्ताह की शुरुआत में एक वरिष्ठ फिलिस्तीनी विद्रोही की गिरफ़्तारी के कारण बढ़े तनाव के बीच गाजा पर हमला किया. स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि हमले में एक पांच साल के बच्चे सहित कम से कम बारह लोग मारे गए और 44 लोग घायल हो गए.

इज़रायल ने शुक्रवार को गाजा पर कई हवाई हमले किए. (फोटो: रॉयटर्स)

गाजा सिटी: इजरायल ने शुक्रवार को गाजा पर कई हवाई हमले किए जिससे हमास के एक वरिष्ठ कमांडर समेत कम से कम 12 लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए. फिलिस्तीन के अधिकारियों ने यह जानकारी दी.

दक्षिणी इजरायल पर रॉकेट दागे जाने के बाद इजरायल के जेट विमानों ने शनिवार तड़के गाजा में विद्रोहियों के ठिकानों को निशाना बनाया, जिसमें पांच-वर्षीय एक लड़की और एक विद्रोही सहित कम से कम 12 लोग मारे गए.

फिलिस्तीनी इस्लामिक जिहाद के एक शीर्ष कमांडर की लक्षित हत्या के बाद शुक्रवार को शुरू हुई लड़ाई पूरी रात जारी रही. इजरायल और फिलिस्तीन के हमास के बीच 15 वर्षों में चार युद्ध और कई छोटे संघर्ष हुए हैं.

इजरायल ने कहा है कि कब्जे वाले पश्चिमी तट में इस सप्ताह के प्रारंभ में एक वरिष्ठ फिलिस्तीनी विद्रोही की गिरफ्तारी के कारण बढ़े तनाव के बीच उसने शुक्रवार को गाजा पर हमला किया.

इजरायल ने देश में भी ‘विशेष स्थिति’ की घोषणा की है जहां सीमा से 80 किलोमीटर के दायरे में सभी स्कूल बंद कर दिए गए हैं और लोगों की अन्य गतिविधियां रोक दी गई हैं.

सोमवार को कब्जे वाले पश्चिमी तट में हमास के एक वरिष्ठ सदस्य की गिरफ्तारी के बाद हमले की आशंका में इजरायल ने इस सप्ताह की शुरुआत में गाजा के आसपास की सड़कों को बंद कर दिया था और सीमा पर अतिरिक्त जवानों को भेजा था.

बीबीसी के अनुसार, स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि एक पांच साल के बच्चे सहित कम से कम बारह लोग मारे गए और 44 लोग घायल हो गए.  इजरायल का कहना है कि हवाई हमले करने के बाद उसने कब्जे वाले वेस्ट बैंक में छापे में फिलिस्तीनी समूह इस्लामिक जिहाद के 19 सदस्यों को गिरफ्तार किया है.

रिपोर्ट के मुताबिक, इजरायल के एक प्रवक्ता ने कहा कि सेना का अनुमान है कि उसने लगभग 15 आतंकवादियों को मार गिराया है, लेकिन कहा कि इसमें कोई हताहत नहीं हुआ है.

सेना ने एक बयान में कहा, ‘आईडीएफ (इज़रायल रक्षा बल) वर्तमान में गाजा पट्टी में हड़ताल कर रहा है. इजरायल के घरेलू मोर्चे पर एक विशेष स्थिति की घोषणा की गई है.’

इज़रायल के आर्मी रेडियो ने बताया कि इज़रायल गाजा के पास के क्षेत्र के लिए सैन्य बलों को बुला रहा है, जिस पर 2007 से आतंकवादी हमास का शासन है.

इस्लामिक जिहाद के एक अधिकारी ने पुष्टि की कि तासीर अल-जाबारी, जिसे इजरायली सेना ने इस्लामिक जिहाद और हमास के बीच मुख्य समन्वयक बताया गया था, उन हमलों में मारा गया, जो घनी आबादी वाली पट्टी के आसपास कई लक्ष्यों को निशाना बनाकर किए गए थे. जिस इमारत में कथित तौर पर अल-जाबारी मारा गया, वहां से धुआं निकलता देखा गया.

इस बीच हमले में मारे गए लोगों के अंतिम संस्कार की तैयारियों के दौरान सैकड़ों लोग, जिनमें से कुछ फिलिस्तीनी झंडे लिए हुए थे, गाजा की सड़कों पर मार्च कर रहे थे.

इस सप्ताह की शुरुआत में वेस्ट बैंक के कब्जे वाले शहर जेनिन में छापेमारी के दौरान इस्लामिक जिहाद समूह के एक वरिष्ठ नेता बासम अल-सादी को इजरायल द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद ये हमले हुए.

प्रधानमंत्री यायर लैपिड ने एक बयान में कहा, ‘इस ऑपरेशन का लक्ष्य इजरायल के नागरिकों और गाजा पट्टी के आसपास रहने वाले नागरिकों के खिलाफ एक ठोस खतरे को खत्म करना है.’

हमास ने कहा- फिलिस्तीनी प्रतिरोध को एकजुट होना होगा

इजरायल और फिलिस्तीन के हमास के बीच 15 वर्षों में चार युद्ध और कई छोटी झड़पें हुई हैं. हालिया समय में सबसे भीषण लड़ाई मई 2021 में हुई थी और इस साल की शुरुआत में भी इसकी आशंका बढ़ गई थी.

हमास के प्रवक्ता फावजी बरहोम ने कहा, ‘गाजा के खिलाफ भड़कावे की कार्रवाई शुरू करने वाले इजरायली दुश्मनों ने नया अपराध किया है, जिसकी कीमत उन्हें चुकानी होगी.’

हमास के नेता जाइल अल नाखला ने ईरान से अल मायदीन टीवी नेटवर्क के माध्यम से कहा, ‘हम लड़ाई शुरू कर रहे हैं और फिलिस्तीनी प्रतिरोध को इस आक्रामकता के खिलाफ एकजुट खड़ा होना होगा.’

इजरायल के रक्षा मंत्री बेनी गैंट्ज ने शुक्रवार को गाजा के पास बस्तियों का दौरा करते हुए कहा कि अधिकारी ऐसी कार्रवाई कर रहे हैं जो इस क्षेत्र से खतरे को दूर कर देंगी.

उन्होंने कहा, ‘हम इजरायल के दक्षिण में नियमित जीवन को बहाल करने के लिए आंतरिक लचीलेपन और बाहरी ताकत के साथ काम करेंगे.’

गैंट्ज ने कहा, ‘हम संघर्ष नहीं चाहते, लेकिन जरूरी हुआ तो हम अपने नागरिकों की रक्षा करने में संकोच नहीं करेंगे.’

इससे पहले, इजरायल के कुछ लोगों ने हमास के कब्जे वाले एक बंदी और दो इजरायली सैनिकों के शव की वापसी की मांग को लेकर शुक्रवार को गाजा पट्टी के पास विरोध प्रदर्शन किया. प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व हैदर गोल्डिन के परिवार ने किया था. गोल्डिन और ओरोन शॉल 2014 के गाजा युद्ध में मारे गए थे.

‘कोई समझौता नहीं’

रिपोर्ट के मुताबिक, ईरानी समर्थक लेबनानी चैनल अल मायदीन टेलीविजन पर एक साक्षात्कार में इस्लामिक जिहाद नेता ज़ियाद अल-नखला ने हमलों के लिए प्रतिशोध लेने की बात कही. उन्होंने कहा, ‘इस लड़ाई में कोई समझौता नहीं है और तेल अवीव के साथ-साथ सभी इज़रायली शहरों को प्रतिरोध का सामना करना होगा.’

हमास की सशस्त्र शाखा ने एक बयान जारी कर कहा, ‘हमारे लोगों और हमारे मुजाहिदीन का खून व्यर्थ नहीं जाएगा.’

इस्लामिक जिहाद, फिलिस्तीनी आतंकवादी समूहों के समूह में से एक, 1980 के दशक में गाजा में स्थापित किया गया था और इजरायल के साथ राजनीतिक बातचीत का विरोध करता रहा है.

इसे ईरान का करीबी माना जाता है, यह हमास से अलग है लेकिन आम तौर पर आंदोलन के साथ मिलकर सहयोग करता है.

इजरायली सैन्य प्रवक्ता ने कहा कि अधिकारियों को उम्मीद है कि इजरायल के केंद्र के खिलाफ रॉकेट हमले होंगे, लेकिन कहा कि आयरन डोम एंटी-मिसाइल बैटरी काम कर रही हैं.

उन्होंने कहा कि गाजा के 80 किलोमीटर के आसपास इजरायली इलाकों में विशेष उपाय किए गए हैं.

फिलिस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने एक बयान जारी कर इजरायली हमलों की निंदा की और उन्हें रोकने की मांग की.

गाजा, भूमि की एक संकरी पट्टी जहां लगभग 2.3 मिलियन लोग 365 वर्ग किलोमीटर (140 वर्ग मील) के एक पैच पर रहते हैं, हमास के नियंत्रण में आने के बाद से लगातार संघर्ष का मुद्दा रहा है.

तब से यह क्षेत्र नाकाबंदी के अधीन है, इज़रायल और मिस्र ने अंदर और बाहर आंदोलन को सख्ती से प्रतिबंधित कर दिया है.

मध्य गाजा के 43 वर्षीय किसान मंसूर मोहम्मद-अहमद ने कहा, ‘हम अभी तक पुनर्निर्माण नहीं कर पाए हैं जो इज़रायल ने एक साल पहले नष्ट कर दिया था. लोगों के पास सांस लेने का मौका नहीं है. यहां इज़रायल बिना किसी कारण के फिर से हमला कर रहा है.’

इज़रायल ने 2009 से गाजा के साथ पांच संघर्ष लड़े हैं, मई 2021 में सबसे हालिया 11-दिवसीय युद्ध, जब हमास ने इज़रायल में हजारों रॉकेट दागे, जिसमें 13 लोग मारे गए और इज़रायल ने हवाई हमलों के साथ पट्टी को बढ़ा दिया जिसमें कम से कम 250 फिलिस्तीनी मारे गए.

गाजा क्रॉसिंग को बंद किया गया

इजरायल ने समूह की ओर से जवाबी हमले के डर से सभी गाजा क्रॉसिंग और आसपास की कुछ सड़कों को बंद कर दिया, जिसका गाजा में गढ़ है. गुरुवार को तीसरे दिन प्रवेश अवरुद्ध की वजह से फिलिस्तीनी श्रमिकों को इजरायल में पार करने से रोक दिया गया.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, इसने गाजा के बाहर स्वास्थ्य देखभाल की जरूरत वाले 50 रोगियों को प्रभावित किया है.

इस्लामिक जिहाद ने एक बयान में कहा, ‘दुश्मन ने हमारे लोगों और हमारे खिलाफ युद्ध छेड़ दिया है और हम अपनी और अपने लोगों की रक्षा करेंगे.’

जब से हमास ने 2007 में गाजा पर शासन करना शुरू किया, इजरायल ने सुरक्षा चिंताओं का हवाला देते हुए पट्टी की भूमि, वायु और समुद्री नाकाबंदी बनाए रखी है.

अधिकारियों ने गुरुवार को चेतावनी दी कि हाल ही में बंद ने गाजा के एकमात्र बिजली संयंत्र की आपूर्ति करने वाले ईंधन ट्रकों की पहुंच में कटौती की है, जिसे 48 घंटों के भीतर बंद करना होगा.

गाजा को पहले से ही कटौती का सामना करना पड़ रहा है जो उन्हें दिन में सिर्फ 10 घंटे बिजली देता है, गाजा के निवासियों को और अधिक ब्लैकआउट का सामना करना पड़ेगा यदि संयंत्र ने संचालन बंद कर दिया. एन्क्लेव की बिजली का एकमात्र बाहरी स्रोत 120 मेगावाट की दैनिक फ़ीड छोड़ रहा है जो इज़रायल से आता है.

गाजा की बिजली वितरण कंपनी के मोहम्मद थबित ने कहा, ‘इसका 20 लाख से अधिक लोगों और महत्वपूर्ण सेवाओं के दैनिक जीवन पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा.’

इजरायली पक्ष के निवासियों ने भी आवाजाही पर प्रतिबंध की शिकायत की है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)