भारत

मध्य प्रदेश: बलात्कार के आरोप में स्वयंभू संत स्वामी वैराग्यानंद गिरि गिरफ़्तार

आरोप है कि स्वामी वैराग्यानंद गिरि उर्फ मिर्ची बाबा ने बीते 17 जुलाई को रायसेन की एक महिला से भोपाल में बलात्कार किया था. पुलिस ने बताया है कि उन्हें ग्वालियर से गिरफ़्तार किया गया, जिसके बाद अदालत ने उन्हें 22 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

स्वयंभू बाबा स्वामी वैराग्यानंद गिरि ऊर्फ मिर्ची बाबा. (फोटो साभार: ट्विटर/@MirchiBaba_)

भोपाल/ग्वालियर: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक महिला से कथित तौर पर बलात्कार करने के मामले में स्वयंभू बाबा स्वामी वैराग्यानंद गिरि को मंगलवार को गिरफ्तार किया गया.

भोपाल की अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (महिला अपराध) रिचा चौबे ने बताया, ‘वैराग्यानंद गिरि उर्फ मिर्ची बाबा को भादंसं की धारा 376 (बलात्कार) के आरोप में आज ग्वालियर से गिरफ्तार किया गया और वहां से भोपाल लाया गया.’

उन्होंने कहा कि मिर्ची बाबा ने इस साल 17 जुलाई को मध्य प्रदेश के रायसेन की एक महिला से कथित रूप से भोपाल में बलात्कार किया था, जिसकी शिकायत इस पीड़िता ने आठ अगस्त को भोपाल में महिला थाने में की थी. उन्होंने कहा कि उसकी शिकायत पर पुलिस ने यह कार्रवाई की है.

चौबे ने बताया कि महिला का कहना है कि लोक-लज्जा के डर से उसने तुरंत पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज नहीं कराई थी.

उन्होंने बताया कि इस महिला की शादी के बाद संतान नहीं हो रही थी, इसलिए वह इस मिर्ची बाबा के संपर्क में आई थी. महिला का आरोप है कि बाबा ने उसे पूजा-पाठ कर संतान होने का झांसा दिया और प्रसाद के तौर पर उसे भभूति खाने को दी.

पुलिस अधिकारी के अनुसार महिला का आरोप है कि वह इस भभूति को खाकर बेहोश हो गई और उसके बाद बाबा ने उसके बलात्कार किया.

ग्वालियर के पुलिस अधीक्षक अमित सांघी ने बताया, ‘मिर्ची बाबा पर भोपाल में एक महिला के साथ बलात्कार का मामला दर्ज था. इसके बाद सूचना मिली कि मिर्ची बाबा ग्वालियर में हैं. मंगलवार को सूचना के आधार पर एक होटल से मिर्ची बाबा को गिरफ्तार कर लिया गया. इसके बाद भोपाल पुलिस अपने साथ मिर्ची बाबा को लेकर चली गई.’

न्यू इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, भोपाल के पुलिस आयुक्त मकरंद देवस्कर ने बताया कि उसे पुलिस द्वारा भोपाल लाया गया और मंगलवार को एक अदालत में पेश किया गया. अदालत ने उन्हें 22 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

मिर्ची बाबा वर्ष 2018 में मध्य प्रदेश में हुए विधानसभा में कांग्रेस के समर्थन में राजनीति में सक्रिय हुए थे. हालांकि, वर्ष 2019 में हुए लोकसभा चुनाव के बाद तब वे सुर्खियों में आए, जब उन्होंने भोपाल संसदीय सीट से कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह को जिताने के लिए बड़ी तादाद में लाल मिर्ची का हवन कर यज्ञ किया था.

बाबा ने तब ऐलान किया था कि अगर दिग्विजय सिंह चुनाव नहीं जीते तो वह जल समाधि ले लेंगे. हालांकि, दिग्विजय के हारने के बाद बाबा ने जल समाधि नहीं ली.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)