अलीगढ़

WhatsApp Image 2021-06-14 at 12.04.28

उत्तर प्रदेश: अलीगढ़ ज़िले के नूरपुर गांव से हिंदू पलायन का पूरा सच

वीडियो: नूरपुर गांव उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ ज़िले में स्थित है. टप्पल थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले इस गांव में मुस्लिम समुदाय की बड़ी आबादी है. एक रिपोर्ट के मुताबिक कस्बे में करीब 800 मुस्लिम परिवार और 125 हिंदू परिवार रहते हैं. अधिकांश हिंदू परिवार जाटव समुदाय (अनुसूचित जाति) से संबंधित हैं. कुछ दलित परिवारों द्वारा अपने घरों पर ‘बिक्री के लिए घर है’ लिखे जाने के बाद से यह गांव चर्चा में है.

जयपाल के घर में बनीं मज़ारें. (साभार: वीडियोग्रैब/टाइम्स ऑफ इंडिया)

उत्तर प्रदेश: बजरंग दल के विरोध के बाद हिंदू परिवार ने घर में बनी मज़ारें हटाईं

मामला अलीगढ़ का है, जहां एक हिंदू परिवार ने जलेसर के पीर बाबा में आस्था के चलते अपने घर में दो छोटी मज़ार बनाई हुई थीं. बजरंग दल के कार्यकर्ताओं द्वारा ‘हिंदुओं के धर्मांतरण की साज़िश रचने’ का आरोप लगाने के बाद इन्हें हटा दिया गया.

अलीगढ़ जहरीली शराब कांड में मारे गए लोगों के परिजन. (फाइल फोटो: पीटीआई)

एक के बाद एक घटनाएं दे रही हैं शराब माफिया और सरकार के गठजोड़ की गवाही: कांग्रेस

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ ज़िले में बीते कुछ दिनों से ज़हरीली शराब पीने की वजह से दो अलग-अलग घटनाओं में 45 से अधिक लोगों की मौत होने का मामला सामने आया है. हालांकि कांग्रेस ने 100 से अधिक लोगों की मौत होने का दावा किया है. पुलिस ने शराब कांड के मुख्य आरोपी भाजपा सदस्य ऋषि शर्मा को गिरफ़्तार कर लिया है. गिरफ़्तारी के बाद उसे पार्टी से निकाल दिया गया है.

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

यूपी: अलीगढ़ में नहर में मिली ज़हरीली शराब से तीन और की मौत, मृतक संख्या बढ़कर नौ हुई

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ ज़िले में बीते कुछ दिनों से शराब से मौत के मामले लगातार सामने आ रहे हैं. इससे पहले हुई एक अन्य घटना में 36 लोगों की मौत हो चुकी है. इस संबंध में ज़िले के विभिन्न थानों में दर्ज 16 अलग-अलग मामलों में कुल 38 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है. साथ ही दो साल से अधिक समय से एक ही थाने में तैनात 548 से अधिक पुलिसकर्मियों का तबादला कर दिया गया है.

(फाइल फोटो: पीटीआई)

उत्तर प्रदेश: अलीगढ़ में नहर में फेंकी गई शराब पीने से छह श्रमिकों की मौत और 22 अन्य बीमार

उत्तर प्रदेश का अलीगढ़ ज़िले बीते कुछ दिनों से शराब से मौत के मामले लगातार सामने आ रहे हैं. ज़िले में बीते 28 मई से टप्पल तथा अकराबाद थाना क्षेत्रों के कई गांवों में ज़हरीली शराब पीने से 36 लोगों की मौत की प्रशासन ने पुष्टी की है. इसे लेकर छापेमारी जारी है. पुलिस ने बताया है कि ऐसा लगता है कि मिलावटी शराब के कारोबारियों ने कार्रवाई से डरकर अपना स्टॉक नहर में बहा दिया होगा.

(फाइल फोटो: पीटीआई)

अलीगढ़ शराब कांड: अब तक 36 लोगों की मौत, पुलिस उपाधीक्षक, संयुक्त और उप-आबकारी आयुक्त निलंबित

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ ज़िले में बीते 28 मई से ज़हरीली शराब मौत मामले सामने आने का घटनाक्रम लगातार जारी है. मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. भानु प्रताप कल्याणी ने बताया कि ज़हरीली शराब से मौतों का मामला सामने आने के बाद से सोमवार दोपहर तक कुल 71 शव पोस्टमॉर्टम के लिए लाए गए, जिनमें से 36 लोगों की मौत की वजह ज़हरीली शराब पीना है, जबकि 35 लोगों की मौत का कारण अभी संदिग्‍ध है.

अलीगढ़ जहरीली शराब कांड में मारे गए लोगों के परिजन. (फाइल फोटो: पीटीआई)

यूपी: अलीगढ़ में ज़हरीली शराब से 25 लोगों की मौत, भाजपा सांसद ने 35 के मरने का दावा किया

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ ज़िले में ज़हरीली शराब से मरने वालों के मामले लोधा ब्लॉक से बढ़कर अन्‍य ब्लॉकों तक फैल गए हैं. पुलिस ने इससे संबंधित मुक़दमों में वांछित 12 में से अब तक 11 लोगों को गिरफ़्तार कर लिया है. इसके अलावा शराब के अवैध कारोबार में लिप्त छह अन्य लोग भी गिरफ़्तार किए गए हैं. पुलिस सरगना अनिल चौधरी के क़रीबी ऋषि शर्मा की तलाश कर रही है, जिसके राजनीतिक लोगों से संबंध हैं.

अलीगढ़ जिले एक अनुबंधित दुकान से खरीदी गई जहरीली शराब की बोतल दिखाता एक ग्रामीण. (फोटो: पीटीआई)

उत्तर प्रदेश: अलीगढ़ में ज़हरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या 22 हुई

घटना से प्रभावित लोगों में अधिकतर लोग अलीगढ़ के तीन थाना क्षेत्रों- लोढ़ा, खैर और जांवा के हैं. अधिकारियों ने बताया कि विभिन्न अस्पतालों में शुक्रवार रात भर्ती किए गए कम से कम 28 मरीज़ों की स्थिति अब भी गंभीर बनी हुई है. पुलिस ने मामले के सरगना समेत कुल पांच लोगों को गिरफ़्तार किया है और तीन अलग-अलग मामलों में 12 लोगों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया है.

(प्रतीकात्मक फोटो साभार: एएनआई)

उत्तर प्रदेश: अलीगढ़ में कथित नकली शराब पीने से 11 लोगों की मौत, पांच की हालत गंभीर

उत्तर प्रदेश में अलीगढ़ के लोधा थाना क्षेत्र का मामला. गंभीर हालात में कुछ ग्रामीणों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. मरने वालों की संख्या बढ़ने की आशंका है. अलीगढ़ के ज़िलाधिकारी ने बताया ​कि घटना की समयबद्ध मजिस्ट्रेटी जांच का आदेश दे दिया गया है. यह जांच अपर जिलाधिकारी स्तर के एक अधिकारी द्वारा की जाएगी.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

उत्तर प्रदेश: अस्पताल में पांच कोविड मरीज़ों की मौत, ऑक्सीजन की कमी का आरोप

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ स्थिति एक निजी अस्पताल का मामला. मरीज़ों की मौत से नाराज़ उनके परिजन ने अस्पताल में खूब हंगामा किया. अस्पताल प्रशासन कहना है कि किसी भी मरीज़ की ऑक्सीजन की कमी के कारण मौत नहीं हुई है.

aligarh-map

उत्तर प्रदेश: खेत में मिला दलित किशोरी का शव, बलात्कार की आशंका

मामला अलीगढ़ ज़िले के अकराबाद का है, जहां रविवार को पशुओं के लिए चारा लेने गई सोलह साल की किशोरी का शव देर शाम एक खेत में अर्द्धनग्नावस्था में पड़ा मिला. अंदेशा है कि उसके साथ दुष्कर्म हुआ है. पुलिस ने परिजनों की शिकायत पर हत्या व बलात्कार का मामला दर्ज किया है.

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्र शरजील उस्मानी. (फोटो: स्पेशल अरेंजमेंट)

एल्गार परिषद: शरजील उस्मानी के ख़िलाफ़ राजद्रोह की धाराओं के तहत दूसरी एफ़आईआर दर्ज

पिछले हफ़्ते में महाराष्ट्र के पुणे में एल्गार परिषद के कार्यक्रम में एक भाषण के संबंध में पुणे में केस दर्ज होने के बाद अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र शरजील उस्मानी के ख़िलाफ़ यूपी पुलिस ने लखनऊ में केस दर्ज किया है. उन पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ख़िलाफ़ नफ़रत फैलाने का भी आरोप लगा है.

दिल्ली-नोएडा सीमा पर तैनात पुलिस. (फोटो: पीटीआई)

हाथरस गैंगरेप: अलीगढ़ के अस्पताल की एमएलसी रिपोर्ट पुलिस के रेप न होने के दावे के उलट है

एक्सक्लूसिव: यूपी पुलिस ने दावा किया है कि हाथरस पीड़िता की एफएसएल रिपोर्ट के अनुसार उनसे बलात्कार नहीं हुआ. हालांकि दिल्ली लाए जाने से पहले उन्हें अलीगढ़ के जिस अस्पताल में भर्ती किया गया था, वहां की मेडिको लीगल एग्जामिनेशन रिपोर्ट ‘वजाइनल पेनेट्रेशन’ और ज़बरदस्ती किए जाने की बात कहती है.

(प्रतीकात्म​क फोटो: रॉयटर्स)

उत्तर प्रदेश में इस साल 139 लोगों पर एनएसए लगा, आधे से ज़्यादा मामले गोहत्या से जुड़े: रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) के मुताबिक, इस साल 19 अगस्त तक यूपी पुलिस ने राज्य में 139 लोगों के खिलाफ एनएसए लगाया है, जिनमें से 76 मामले गोहत्या से जुड़े हैं. 31 अगस्त तक अकेले बरेली पुलिस जोन में ही 44 लोगों पर एनएसए के तहत मामला दर्ज किया गया.

KT Ajai Rai IV 11 July 2020.00_42_17_19.Still005

एएमयू छात्र शरजील उस्मानी की गिरफ़्तारी, क्या है यूपी पुलिस की एफ़आईआर का सच?

वीडियो: अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्र शरजील उस्मानी को पिछले साल दिसंबर में हुए सीएए विरोधी प्रदर्शनों को संबंध में बीते आठ जुलाई को आज़मगढ़ स्थित उनके घर से गिरफ़्तार किया गया.