अशोका यूनिवर्सिटी

(फोटो साभार: फेसबुक)

अशोका यूनिवर्सिटी के कामकाज, फैकल्टी की स्वतंत्रता में हस्तक्षेप नहीं करेंगे: ट्रस्टी

हरियाणा के सोनीपत में स्थित अशोका यूनिवर्सिटी के छात्रों ने हाल ही में संस्थान से इस्तीफ़ा देने वाले प्रतिष्ठित राजनीतिक विश्लेषक और टिप्पणीकार प्रताप भानु मेहता और पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम के समर्थन में दो दिन के लिए कक्षाओं के बहिष्कार का ऐलान किया था. जिसके बाद बोर्ड ऑफ ट्रस्टी का बयान आया है.

(फोटो साभार: फेसबुक)

मेहता और सुब्रह्मण्यम के इस्तीफ़े के बाद अशोका विश्वविद्यालय ने ख़ामियों की बात मानी

प्रतिष्ठित राजनीतिक विश्लेषक प्रताप भानु मेहता ने बीते मंगलवार को हरियाणा के सोनीपत स्थित अशोका यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके दो दिन बाद पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ने अर्थशास्त्र विभाग के प्रोफेसर पद से इस्तीफ़ा दे दिया था. मेहता ने इस्तीफा देते हुए कहा था कि विश्वविद्यालय से उनके जुड़ाव को राजनीतिक जवाबदेही के तौर पर देखा गया.

प्रताप भानु मेहता. (फोटो साभार: यूट्यूब/वीडियोग्रैब)

प्रताप भानु मेहता ने कहा- अशोका के साथ जुड़ाव को ‘राजनीतिक जवाबदेही’ के तौर पर देखा गया

इस हफ्ते की शुरुआत में प्रतिष्ठित राजनीतिक विश्लेषक प्रताप भानु मेहता ने अशोका यूनिवर्सिटी इस्तीफ़ा देते हुए कहा कि स्वतंत्रता के संवैधानिक मूल्यों और सभी को समान समझने की राजनीति के पक्ष में उनका सार्वजनिक लेखन विश्वविद्यालय के लिए जोखिम माना जाता है.

पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम (फाइल फोटो: रॉयटर्स)

प्रताप भानु मेहता के बाद अरविंद सुब्रमण्यम ने अशोका यूनिवर्सिटी से इस्तीफ़ा दिया

प्रतिष्ठित राजनीतिक विश्लेषक प्रताप भानु मेहता द्वारा सोनीपत की अशोका यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर पद छोड़ने के दो दिन बाद पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ने अर्थशास्त्र विभाग के प्रोफेसर पद से इस्तीफ़ा देते हुए कहा कि विश्वविद्यालय अब अकादमिक स्वतंत्रता नहीं दे सकता.