एईएल

डीआरआई ने अदालत को बताया, अडानी समूह जांच में बाधा पहुंचाने की कोशिश कर रहा

डीआरआई इंडोनेशिया से 2011 से 2015 के बीच कोयला आयात के दौरान 29,000 करोड़ रुपये के कथित ओवर-वैल्यूएशन की जांच कर रहा है.