एनसीपी

राजनीतिक दल आरटीआई के दायरे से बाहर हैं: चुनाव आयोग

आरटीआई के तहत भाजपा, कांग्रेस, भाकपा, माकपा, बसपा और राकांपा के राजनीतिक चंदे की मांगी गई जानकारी के जवाब में आयोग ने ऐसा कहा. जबकि, इन दलों को 2013 में केंद्रीय सूचना आयोग आरटीआई के दायरे में लेकर आया था.

भाजपा सबसे अमीर राष्ट्रीय दल, एक साल में 81.18 प्रतिशत बढ़ी आय: एडीआर

वर्ष 2016-17 में देश के सात राष्ट्रीय दलों ने कुल 1,559.17 करोड़ रुपये की आय घोषित की. भाजपा की आय सबसे ज़्यादा 1,034.27 करोड़ रुपये रही, जो कुल राशि का 66.34 प्रतिशत है.

महाराष्ट्र: शिवसेना नेताओं की हत्या के मामले में भाजपा विधायक गिरफ़्तार

भाजपा विधायक शिवाजी कार्डिले मामले में गिरफ्तार किए गए दूसरे विधायक हैं. इससे पहले उनके दामाद एनसीपी विधायक संग्राम जगताप को भी हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था.

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के ख़िलाफ़ महाभियोग प्रस्ताव लाने की तैयारी में विपक्ष

एनसीपी नेता ने बताया कि महाभियोग प्रस्ताव के लिए विपक्षी दलों के 20 नेता दस्तख़त कर चुके हैं.

जज लोया मामला: मौत की जांच की मांग को लेकर राष्ट्रपति से मिले 15 दलों के 114 सांसद

जज लोया की मौत की स्वतंत्र जांच के लिए एसआईटी गठित करने की मांग करते हुए सांसदों ने राष्ट्रपति से कहा कि उन्हें सीबीआई और एनआईए की जांच पर यक़ीन नहीं है.

पुणे विश्वविद्यालय: विरोध के बाद निरस्त हुआ केवल शाकाहारियों को पदक देने का आदेश

कुलपति ने कहा, जांचे जाएंगे दीक्षांत समारोह में विभिन्न लोगों और संगठनों द्वारा प्रायोजित पुरस्कारों के पात्रता मानदंड.

पहली बार कोई सरकार मौत का जश्न मना रही है: नोटबंदी पर विपक्ष

प्रधानमंत्री ने कहा, नोटबंदी देश की जनता द्वारा कालेधन के ख़िलाफ़ लड़ी गई निर्णायक लड़ाई. कांग्रेस ने कहा, पीएम माफ़ी मांगें.

भ्रष्टाचार से अनोखी लड़ाई, बिना पैन-पते के कॉरपोरेट चंदे का 99 फीसदी भाजपा को

पार्टियों को चार साल में कॉरपोरेट से 957 करोड़ रुपये का चंदा, इसमें से सबसे ज़्यादा 705.81 करोड़ भाजपा को मिला है.

विपक्षी एकता: कोई सूरत नज़र नहीं आती

भाजपा को मात देने के लिए विपक्षी दलों की गोलबंदी भले शुरू हो गई हो, लेकिन फ़िलहाल ऐसा कोई मुद्दा सामने नहीं आया है जो भाजपा के विरोध में हलचल पैदा कर सके.

राष्ट्रपति चुनाव से पहले विपक्ष के एकजुट होने की नाकाम कोशिश

समाजवादी नेता मधु लिमये के जयंती समारोह में मुलायम सिंह यादव, लालू प्रसाद, नीतीश कुमार और मायावती में से कोई भी नज़र नहीं आया.