दिल्ली चुनाव 2020

दिल्ली ने बेदाग छवि वालों के मुक़ाबले आपराधिक मामलों के 26 आरोपियों को विधायक चुना: एडीआर

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स और दिल्ली इलेक्शन वॉच की रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली में केवल आठ विधायक हैं, जिनके ख़िलाफ़ कोई केस दर्ज नहीं है और उन्होंने उन प्रत्याशियों को हराया, जिनके ख़िलाफ़ आपराधिक मामले दर्ज हैं.

केंद्र सरकार के साथ मिलकर दिल्ली को आगे ले जाना चाहता हूं: अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के रामलीला मैदान में हुए समारोह में अरविंद केजरीवाल ने लगातार तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की ज़िम्मेदारी संभाली. उनके साथ कैबिनेट के छह मंत्रियों ने भी शपथ ली है.

दिल्ली विधानसभा चुनाव: आप को लगातार दूसरी बार पचास फ़ीसदी से ज़्यादा मत मिले

देश के चुनावी इतिहास में किसी क्षेत्रीय दल के लगातार दो बार पचास फ़ीसदी से अधिक मत प्रतिशत के साथ सत्ता में वापसी का उदाहरण नहीं है. जहां 2015 के विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को 67 सीटें और 54.3 प्रतिशत वोट मिले थे, वहीं इस बार पार्टी ने 53.54 मत प्रतिशत के साथ 62 सीटें जीती है.

कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने चिदंबरम से पूछा- हार पर मंथन के बजाय आप की जीत पर गर्व क्यों?

दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी की बुरी हार के बाद पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम सहित कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं ने भाजपा पर निशाना साधने के साथ ही आम आदमी पार्टी की जमकर तारीफ़ की थी. चिदंबरम ने कहा था कि आप की जीत बेवक़ूफ़ बनाने तथा फेंकने वालों की हार है.

दिल्ली विधानसभा चुनाव: 44 निर्वतमान विधायक दोबारा चुनाव जीते

दिल्ली विधानसभा चुनाव के मंगलवार को आए परिणामों के मुताबिक भाजपा के दो निवर्तमान विधायकों सहित कुल 44 निवर्तमान विधायक अपनी सीटें बचाने में कामयाब रहे.

दिल्ली में आप विधायक के काफिले पर गोलीबारी, एक आप वालंटियर की मौत: पुलिस

पुलिस ने बताया कि नवनिर्वाचित विधायक नरेश यादव और उनके समर्थक विधायक के निर्वाचन क्षेत्र महरौली में एक मंदिर में पूजा-अर्चना कर लौट रहे थे. सूत्रों के अनुसार महरौली के विधायक के काफिले पर सात गोलियां चलाई गईं.

‘गोली मारो…’ का नारा देने वाले भाजपा उम्मीदवारों की दिल्ली चुनाव में करारी हार

दिल्ली की जनता ने उन नेताओं तथा उम्मीदवारों को खारिज कर दिया जिन्होंने इस चुनाव के दौरान अथवा इससे पहले विवादित बयान दिए थे.

दिल्ली ने भाजपा को ख़ारिज नहीं किया, हमारा मत प्रतिशत बढ़ा है: मनोज तिवारी

दिल्ली में आम आदमी पार्टी की वापसी के बाद भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि पार्टी जनादेश का सम्मान करती है और इस बात की समीक्षा की जाएगी कि वह अपनी उम्मीदों को हासिल करने में क्यों विफल रही.

दिल्ली में एक बार फिर आम आदमी पार्टी की सरकार

2015 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में 67 सीटें जीतने वाली आम आदमी पार्टी को इस बार 62 सीटें हासिल हुई हैं. वहीं, भाजपा को इस बार आठ सीटें मिली हैं. पिछले चुनाव में शून्य पर रही कांग्रेस इस बार भी खाता नहीं खोल सकी और उसके 63 प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गई.

आप की जीत को कांग्रेस नेताओं ने विकास की जीत और विभाजनकारी एजेंडे की हार कहा

पूर्व वित्त मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने कहा कि आप की जीत बेवक़ूफ़ बनाने तथा फेंकने वालों की हार है. दिल्ली के लोगों ने भाजपा के ध्रुवीकरण, विभाजनकारी और ख़तरनाक एजेंडे को हराया है.

आप की जीत पर विपक्ष ने केजरीवाल को दी बधाई, कहा- दिल्ली में सांप्रदायिक राजनीति की हार हुई

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि भाजपा ने दिल्ली में छात्रों और महिलाओं का शोषण किया. पार्टी को दिल्ली विधानसभा चुनाव में करारा जवाब मिला है. बंगाल में 2021 में होने वाले विधानसभा चुनाव में भी भाजपा को इसी तरह के परिणामों का सामना करना होगा. केवल विकास के कदम ही लोगों पर छाप छोड़ेंगे.

दिल्ली के जनादेश ने कहा, केजरीवाल आतंकवादी नहीं, पक्का देशभक्त है: संजय सिंह

भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा ने चुनाव प्रचार के दौरान एक रैली में केजरीवाल को शाहीनबाग में सीएए के विरोध में चल रहे आंदोलन का कथित तौर पर समर्थन करने का आरोप लगाते हुए उन्हें ‘आतंकवादी’ बता दिया था.

दिल्ली का जनादेश स्वीकार, नवनिर्माण का संकल्प लिया: कांग्रेस

दिल्ली विधानसभा चुनाव के आधिकारिक रुझानों में कांग्रेस का एक बार फिर से खराब प्रदर्शन जारी रहा और उसे एक भी सीटें मिलती नहीं दिख रही हैं. वह सभी सीटों पर तीसरे स्थान पर चल रही है.

New Delhi: Delhi Deputy Chief Minister Manish Sisodia addresses a press conference, in New Delhi on Wednesday, July11, 2018. (PTI Photo/Atul Yadav) (PTI7_11_2018_000126B)

दिल्ली चुनाव: हाई प्रोफाइल सीटों का हाल, मनीष सिसोदिया आगे, कपिल मिश्रा और अल्का लाम्बा पीछे

दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी, भाजपा और कांग्रेस के कई कद्दावर नेता जहां बड़े अंतर से अपनी सीटों पर बढ़त बनाते हुए दिखाई दे रहे हैं वहीं कई प्रमुख चेहरे पिछड़ते नजर आ रहे हैं.