नमाज

बॉम्बे हाईकोर्ट (फोटो: पीटीआई)

मुंबई: रमज़ान में मस्जिद में सामूहिक नमाज़ की अनुमति देने से अदालत का इनकार

दक्षिण मुंबई की जुमा मस्जिद ट्रस्ट द्वारा दायर याचिका में ट्रस्ट की एक मस्जिद में पांच वक़्त की नमाज़ अदा करने की इजाज़त मांगी गई थी. बॉम्बे हाईकोर्ट ने इससे इनकार करते हुए कहा कि धार्मिक रीति-रिवाज़ों को मनाना या उनका पालन करना महत्वपूर्ण है, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण लोक व्यवस्था और लोगों की सुरक्षा है.

इलाहाबाद हाईकोर्ट. (फोटो: पीटीआई)

मंदिर में नमाज़: आरोपी को ज़मानत देते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा- गिरफ़्तारी आख़िरी विकल्प

उत्तर प्रदेश में मथुरा के नंदमहल मंदिर में कथित तौर पर बिना अनुमति नमाज़ पढ़ने के लिए सामाजिक संगठन ख़ुदाई ख़िदमतगार के चार सदस्यों के ख़िलाफ़ दो नवंबर 2020 को केस दर्ज किया गया था.

मथुरा के नंदबाबा मंदिर में नमाज़ पढ़ते फैजल और उनके साथी. (फोटो: वीडियोग्रैब/सोशल मीडिया)

मंदिर में नमाज़: क्या पवित्रता की साझेदारी संभव नहीं है

यह वही मुल्क़ है जहां ताजिये पीपल की डाल से न टकराए, इसका ख़ास ध्यान रखा जाता है, हिंदू मांएं भी ताजिये का इंतज़ार करती हैं कि उसके नीचे से बच्चे को गुजारकर आशीर्वाद ले सकें. हज़रत निज़ामुद्दीन दरगाह में चादर चढ़ाते हिंदुओं को क्या अलग कर सकते हैं? लेकिन अब साझा पवित्रता का विचार अपराध है.

(प्रतीकात्मक फोटो: mathura.nic.in)

उत्तर प्रदेशः मंदिर में नमाज़ अदा करने के आरोप चार के ख़िलाफ़ केस दर्ज, एक गिरफ़्तार

उत्तर प्रदेश के मथुरा का मामला. मथुरा के नंदमहल मंदिर में कथित तौर पर बिना अनुमति नमाज़ पढ़ने के लिए सामाजिक संगठन ख़ुदाई ख़िदमतगार के चार सदस्यों के ख़िलाफ़ केस दर्ज किया गया है.

(प्रतीकात्मक फोटो साभार: India Rail Info)

उत्तर प्रदेश: अलीगढ़ में सड़क पर होने वाले धार्मिक आयोजनों पर लगी रोक

कुछ हिंदुत्ववादी समूहों द्वारा सड़कों पर नमाज़ पढ़ने के ख़िलाफ़ हनुमान चालीसा पाठ करने को कहा गया था. इस पर अलीगढ़ जिला प्रशासन यह रोक लगाई है. हिंदू जागरण मंच इस फैसले को लेकर अलीगढ़ जिलाधिकारी को चेतावनी दी.

New Delhi: A view of the Supreme Court, in New Delhi, on Thursday. (PTI Photo / Vijay Verma)(PTI5_17_2018_000040B)

नमाज़ के लिए मस्जिदों में मुस्लिम महिलाओं के प्रवेश की याचिका पर केंद्र सरकार को नोटिस

पुणे के एक दंपति द्वारा शीर्ष अदालत में दायर याचिका में महिलाओं को मस्जिद में नमाज़ पढ़ने की इजाज़त देने और उनके प्रवेश पर पाबंदी को ग़ैर-क़ानूनी और असंवैधानिक घोषित करने का अनुरोध किया गया है.

Media Bol 80.00_31_32_04.Still006

मीडिया बोल, एपिसोड 80: अमरोहा के ‘आतंकी’, नोएडा के नमाज़ी और मेघालय के खान-मज़दूर

मीडिया बोल की 80वीं कड़ी में उर्मिलेश नोएडा में पुलिस ने पार्क में नमाज़ पढ़ने पर रोक, अमरोहा में पकड़े गए कथित आतंकी और मेघालय की खदान में फंसे मज़दूरों पर इंडियन एक्सप्रेस के सीनियर असिस्टेंट एडिटर दीप्तिमान तिवारी और मानवाधिकार कार्यकर्ता मोहम्‍मद आमिर से चर्चा कर रहें हैं.

Hyderabad: AIMIM chief Asaduddin Owaisi addressing the media in Hyderabad on Thursday, Sept 27, 2018. (PTI Photo) (PTI9_27_2018_000211B)

यूपी पुलिस कांवड़ियों पर फूल बरसाती है और मुस्लिमों का नमाज़ पढ़ना शांति में बाधा है: ओवैसी

भाजपा ने कहा कि ओवैसी मानसिक दिवालियेपन का शिकार हैं. उन्हें तथ्यों की जानकारी नहीं है. प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार क़ानून व्यवस्था को सर्वोपरि मानती है और नोएडा पुलिस ने जो कुछ भी किया, ठीक किया.

EP 239 RAW

जन गण मन की बात, एपिसोड 239: सांप्रदायिक तनाव बढ़ाने की कोशिशें और राहुल गांधी

जन गण मन की बात की 239वीं कड़ी में विनोद दुआ देश के विभिन्न हिस्सों में सांप्रदायिक तनाव बढ़ाने की कोशिशों और राहुल गांधी के प्रधानमंत्री बनने के बयान पर चर्चा कर रहे हैं.

(फाइल फोटो: पीटीआई)

गुड़गांव में हिंदूवादी संगठनों ने कई जगहों पर लोगों को नमाज़ पढ़ने से रोका

संयुक्त हिंदू संघर्ष समिति नाम के संगठन ने खुले में नमाज़ पढ़ने से लोगों को रोका. समिति में बजरंग दल, विश्व हिंदू परिषद, शिवसेना, हिंदू जागरण मंत्र जैसे 12 संगठन शामिल हैं.

Allahabad: Uttar Pradesh Chief minister Yogi Adityanath  along with Deputy chief minister Keshaw Prasad Maurya and Akhara Parishad President Narendra Giri and other BJP leader perform ritual Aarti at Sangam in Allahabad on Saturday. PTI Photo (PTI6_3_2017_000215B)

अगर सड़क पर नमाज़ नहीं रोक सकता तो थानों में जन्माष्टमी रोकने का अधिकार नहीं: योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कांवड़ यात्रा में डमरू और माइक नहीं बजेगा, लोग नाचेंगे-गाएंगे नहीं तो यात्रा कांवड़ यात्रा कैसे होगी? शव यात्रा हो जाएगी.

PTI7_18_2015_000023B

क्या यह दावा कमज़ोर हुआ है कि हिंदू बहुसंख्यक हैं इसलिए देश धर्मनिरपेक्ष है?

2017 की ढलती जून की इस सुबह ईद मुबारक कहना झूठी तसल्ली जान पड़ती है, एक झूठा आश्वासन, सच्चाई से आंख चुराना! सच यह है कि यह ईद मुबारक नहीं है.