राममनोहर लोहिया

उत्तर प्रदेशः कथित तौर पर बलात्कार के बाद नाबालिग को जलाने का आरोप, अस्पताल में दम तोड़ा

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर का मामला. नाबालिग लड़की से बलात्कार का आरोपी युवक जेल है. लड़की को ज़िंदा जलाने के आरोप में सात लोगों के ख़िलाफ़ केस दर्ज कर तीन को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

देश में कोरोना वायरस से तीसरी मौत, संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 126 हुई

देश में कोरोना वायरस से संक्रमित तीसरे मृतक महाराष्ट्र से थे. महाराष्ट्र में सर्वाधिक 39 लोग संक्रमित हैं. महाराष्ट्र में तेजी से फैल रहे कोराना वायरस के संक्रमण के मद्देनज़र राज्य सरकार ने संदिग्ध मरीज़ों के हाथ पर मुहर लगाना शुरू कर दिया है.

कोरोना वायरस: दिल्ली में 31 मार्च तक 50 से अधिक लोगों वाले कार्यक्रम और प्रदर्शन पर रोक

देश में कोरोना वायरस से संक्रमितों की कुल संख्या 114 पहुंच गई है. सभी राष्ट्रीय स्मारक और संग्रहालय 31 मार्च तक के लिए बंद. ओडिशा में पहला मामला सामने आया. पश्चिम बंगाल में निकाय चुनाव स्थगित. असम में संरक्षित क्षेत्रों को बंद किया गया. महाराष्ट्र में प्रमुख पर्यटन और धार्मिक स्थल बंद.

कोरोना वायरस: ट्रेनों में नहीं मिलेंगे कंबल, पर्दे भी हटाए जाएंगे

कोरोना वायरस से बचाव के मद्देनज़र दक्षिण रेलवे ने एसी डिब्बों से कंबल हटवाए. भारत-बांग्लादेश यात्री रेल सेवा स्थगित. मुंबई पुलिस ने समूह यात्रा पर रोक लगाने के लिए धारा 144 लागू की.

देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 110 हुई

ओडिशा में कोरोना वायरस के पहले मामले की पुष्टि हुई है. देश में कोरोना वायरस से सर्वाधिक संक्रमित 33 लोग महाराष्ट्र में हैं.

कोरोना वायरस: बेंगलुरु में आरएसएस की वार्षिक बैठक रद्द

उत्तराखंड में भाजपा सरकार के तीन साल पूरे होने के उपलक्ष्य में होने वाला कार्यक्रम टाला गया. सहारनपुर में कांग्रेस की जनसभा और जगन्नाथ रथयात्रा कार्यक्रम स्थगित. देश में अब तक दो लोगों की मौत कोराना वायरस के संक्रमण से हो चुकी है.

दिल्ली में कोरोना वायरस से पहली मौत, भारत में संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 83 हुई

भारत में कोरोना वायरस से मौत का यह दूसरा मामला है. इससे पहले इस संक्रमण से कर्नाटक के कलबुर्गी में 76 वर्षीय शख्स की मौत हुई थी.

आंबेडकर को जितना अस्वीकार वर्तमान राजनीति ने किया है, उतना किसी और ने नहीं किया

जब कोई फल पक जाता है, तब उसे तोड़ने के लिए सभी लपक पड़ते हैं. उसी तरह आज राजनीति में आंबेडकर चहेते हो गए हैं, लेकिन आंबेडकर दिखने में चाहे जितने आकर्षक हों, अपनाने में उतने ही कठिन हैं. वर्तमान राजनीतिक दल इस बात को जानते हैं इसीलिए वे 14 अप्रैल और 6 दिसंबर पर उनका नाम तो लेते हैं लेकिन उनकी वैचारिक तेजस्विता से डरते हैं.

जब बिना करोड़ों के ख़र्च और वोट मांगे बग़ैर भी चुनाव जीत जाते थे नेता

चुनावी बातें: मौजूदा दौर में जब चुनाव का वास्तविक ख़र्च करोड़ों में होता है, इस बात की कल्पना भी मुमकिन नहीं कि कोई निर्धन प्रत्याशी ख़ाली हाथ चुनाव के मैदान में उतरेगा और जीत जाएगा, पर 1967 में ऐसा हुआ था.

क्या नीतीश ने मोदी के 2019 के चुनावी सपने में रंग भरने की शुरुआत कर दी है?

नीतीश मुख्यमंत्री पद के तथाकथित ‘बलिदान’ के कुछ ही घंटों के भीतर भाजपा के समर्थन से फिर उसी कुर्सी पर काबिज़ हो गए, जो प्रदेश की जनता द्वारा दिए गए जनादेश से धोखा करने जैसा है.

तमिलनाडु में विरोध हिंदी का नहीं ‘एक देश, एक संस्कृति’ थोपने का है

हिंदी थोपने की कोशिशों को ख़ारिज करना उत्तर की सांस्कृतिक प्रभुता को ख़ारिज करना भी है और अंग्रेज़ी के सहारे आर्थिक गतिशीलता की ख़्वाहिश का इज़हार भी है.

विपक्षी एकता: कोई सूरत नज़र नहीं आती

भाजपा को मात देने के लिए विपक्षी दलों की गोलबंदी भले शुरू हो गई हो, लेकिन फ़िलहाल ऐसा कोई मुद्दा सामने नहीं आया है जो भाजपा के विरोध में हलचल पैदा कर सके.