Benaras

यूपी चुनाव: गुलाबी पत्थरों के कारण धीरे-धीरे मौत के नज़दीक पहुंचता मिर्ज़ापुर का एक गांव

वीडियो: पिछले कई सालों से उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर ज़िले के एक गांव के लोग तिल- तिलकर मरने को मजबूर हैं. इस गांव का नाम सोनपुर है. ये गांव कई पहाड़ियों से घिरा हुआ है और इन पहाड़ियों से निकलता है गुलाबी पत्थर. बीते तीन दशक से यहां जारी खनन के कारण ग्रामीण दमा, फेफड़े और सांस संबंधी कई गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं.

यूपी चुनाव: योगी आदित्यनाथ का नया पैंतरा ‘बुलडोज़र बाबा’

वीडियो: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ‘बुलडोज़र ब्रांडिंग’, उनके चुनावी अभियान और राजनीति पर चर्चा कर रहे हैं वरिष्ठ पत्रकार शरत प्रधान.

भाजपा की आईटी सेल के पूर्व प्रमुख ने खोली पार्टी की पोल; ‘सिर्फ़ दंगे-ग़ुंडे पर चुनाव’

वीडियो: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा आईटी सेट के पूर्व प्रमुख ऋषि से द वायर की आरफ़ा ख़ानम शेरवानी की बातचीत.

उत्तर प्रदेश चुनाव: अखिलेश यादव का इतना हव्वा क्यों बना रही है भाजपा

वीडियो: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर सपा प्रमुख अखिलेश यादव को निशाना बनाने वाली भाजपा और योगी सरकार के प्रचार अभियान पर चर्चा कर रहे हैं वरिष्ठ पत्रकार शरत प्रधान.

विधानसभा चुनाव: क्या बनारस में मोदी और योगी अपना क़िला बचा पाएंगे

वीडियो: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण के मतदान 7 मार्च को होने हैं. सातवें चरण के चुनाव में बनारस में भी मतदान है, जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है. यहां के चुनावी माहौल को समझने के लिए द वायर की सीनियर एडिटर आरफ़ा ख़ानम शेरवानी ने कुछ लोगों से बातचीत की.

काशी विश्वनाथ कॉरिडोर: मोदी-योगी का चुनावी दांव

वीडियो: बीते 13 दिसंबर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर में काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर के पहले चरण का उद्घाटन कर दिया. इस मुद्दे पर प्रो. अपूर्वानंद, प्रो. आदित्य मुखर्जी और वरिष्ठ पत्रकार शरत प्रधान के साथ द वायर की वरिष्ठ संपादक आरफ़ा ख़ानम शेरवानी की बातचीत.

पंडित राजन मिश्र: सादगी, सरलता और सुरों का संगम…

स्मृति शेष: पंडित राजन मिश्र का असमय चले जाना सभी संगीत-प्रेमियों के लिए भारी आघात है. ख़ासकर, उनके अज़ीज़ों के लिए, जिन्होंने एक अद्भुत गायक के साथ-साथ एक अद्भुत इंसान भी खो दिया.

उस्ताद बिस्मिल्लाह ख़ान: भारतीय संगीत का संत कबीर

पुण्यतिथि विशेष: उस्ताद ऐसे बनारसी थे जो गंगा में वज़ू करके नमाज़ पढ़ते थे और सरस्वती को याद कर शहनाई की तान छेड़ते थे. इस्लाम में संगीत के हराम होने के सवाल पर हंसकर कहते थे, ‘क्या हुआ इस्लाम में संगीत की मनाही है, क़ुरान की शुरुआत तो ‘बिस्मिल्लाह’ से ही होती है.’