कोविड-19

मध्य प्रदेश: कोविड-19 से परिवार में मौत के ग़म में दो महिलाओं ने कथित तौर पर आत्महत्या की

मध्य प्रदेश के  रायसेन और देवास ज़िले का मामला. रायसेन में एक महिला ने कोरोना वायरस के कारण अपनी मां की मौत से दुखी होकर कथित रूप से चौथी मंज़िल से कूदकर आत्महत्या कर ली. वहीं, देवास में छह दिन के अंदर संक्रमण से एक परिवार के तीन सदस्यों की मौत से दुखी होकर एक महिला ने कथित रूप से फ़ांसी लगाकर आत्महत्या कर ली.

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

रायसेन/देवास: मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण परिवार में हुई मौत के गम में रायसेन एवं देवास जिलों में दो महिलाओं ने कथित रूप से आत्महत्या कर दी.

पहली घटना में प्रदेश के रायसेन जिले में एक महिला ने कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अपनी मां की मौत से दुखी होकर कथित रूप से चौथी मंजिल से कूदकर आत्महत्या कर ली.

यह घटना रायसेन जिला मुख्यालय से करीब 60 किलोमीटर दूर औद्योगिक नगर मंडीदीप में बुधवार रात करीब आठ बजे के आसपास हुई.

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमृत मीणा ने बताया कि मंडीदीप के हिमांशु विंग्स बिल्डिंग की चौथी मंजिल में रहने वाले रंजीत राय की पत्नी का कोरोना वायरस संक्रमण के कारण दो दिन पहले निधन हो गया था, जिससे उनकी 32 वर्षीय पुत्री रितिका राय सदमे में थी.

उन्होंने कहा, ‘बुधवार की रात करीब 8 बजे वह अचानक मां के पास जाने का कहते हुए अपने अपार्टमेंट की चौथी मंजिल से कूदने के लिए लटक गई, उसके पिता रंजीत राय सहित आसपास के रहवासियों ने बचाने के लिए उसका हाथ पकड़कर ऊपर खींचने के प्रयास किए, लेकिन वे सफल नहीं हो सके. इसी जद्दोजहद में रितिका ने उन्हें जोर का झटका देकर अपना हाथ छुड़ा लिया, जिसके कारण वह 50 फुट नीचे आकर गिरीं.’

मीणा ने बताया कि उसको गंभीर अवस्था में तत्काल शासकीय चिकित्सालय ले जाया गया, जहां गंभीर चोट आने के कारण इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

मंडीदीप पुलिस थाना प्रभारी कुंवर सिंह मुकाती ने बताया कि घटना के बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और विस्तृत जांच जारी है.

पीड़िता के पिता रंजीत राय ने बताया, ‘वह अपनी मां के मरने के बाद से सदमे में थी. दो दिन से कुछ खा-पी नहीं रही थी. मां की मौत होने से वह बहुत ज्यादा परेशान थी, जिससे उसने यह कदम उठाया है.’

वहीं, दूसरी घटना में प्रदेश के देवास में छह दिन के अंदर कोरोना वायरस से 75 वर्षीय एक महिला एवं उसके दो बेटों सहित एक परिवार के तीन सदस्यों की मौत हो गई. इससे दुखी होकर इस महिला की छोटी बहू ने बुधवार को कथित रूप से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. पारिवारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी.

पारिवारिक सूत्रों के मुताबिक यह घटना अग्रवाल समाज, देवास के अध्यक्ष बालकिशन गर्ग के घर में हुई जिनकी खुद की तबीयत भी अत्यधिक खराब है.

सूत्रों ने बताया कि सबसे पहले बालकिशन की पत्नी चंद्रकला (75) को संक्रमण हुआ और 14 अप्रैल को उनकी मौत हो गई, इसके ठीक दो दिन बाद उनके बड़े बेटे संजय (51) ने भी कोरोना के कारण दम तोड़ दिया, जबकि 19 अप्रैल को छोटे पुत्र स्वप्नेश (48) की भी कोरोना से मौत हो गई.

सूत्रों के मुताबिक बालकिशन की छोटी बहू रेखा गर्ग (45) सास, पति एवं जेठ की मौत को सहन नहीं कर सकी, अवसाद की वजह से उसने बुधवार सुबह फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. बालकिशन के बड़े बेटे की पत्नी हादसे के चलते सदमे में है.

नगर पुलिस अधीक्षक विवेक सिंह चौहान ने बताया कि रेखा गर्ग द्वारा आत्महत्या करने की सूचना मिलते ही सिविल लाइन थाना पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमॉर्टम के लिए जिला चिकित्सालय भेजा.

उन्होंने कहा कि शव का पोस्टमॉर्टम करने के बाद परिजनों को सौंप दिया गया है. चौहान ने बताया कि इस संबंध में मामला दर्ज कर विस्तृत जांच शुरू कर दी गई है.

परिवार में अब बालकिशन गर्ग के अलावा उनकी बड़ी बहू और चार पोते-पोतियां रह गए हैं.