भारत

कासगंज हिंसा: भड़काऊ मैसेज फैलाने पर वॉट्सऐप ग्रुप एडमिन गिरफ़्तार

गणतंत्र दिवस पर कासगंज में हुई सांप्रदायिक हिंसा के बाद से ‘नक्षत्र कम्प्यूटर’ नाम के वॉट्सएप ग्रुप में भड़काऊ वीडियो और तस्वीरें पोस्ट की जा रही थीं. ग्रुप के एक सदस्य अजय गुप्ता की तलाश जारी.

Kasganj (UP): More than 80 persons were arrested while Rapid Action Force (RAF) and Provincial Armed Constabulary (PAC) personnel intensified vigil in Kasganj on Sunday. PTI Photo (PTI1_28_2018_000205B)

कासगंज हिंसा के बाद शहर में तैनात पुलिस. (फाइल फोटो: पीटीआई)

कासगंज: उत्तर प्रदेश के कासगंज सांप्रदायिक हिंसा मामले में कार्रवाई करते हुए एक वॉट्सऐप ग्रुप चलाने वाले एडमिन को गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तार शख्स पर आरोप है कि वह सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक वीडियो और तस्वीरें डालकर लोगों को भड़का रहा था.

जिलाधिकारी आरपी सिंह ने बताया कि जिले में सांप्रदायिक हिंसा के बारे में वॉट्सऐप ग्रुप में आपत्तिजनक और भड़काऊ मैसेज तथा चित्र डालने के आरोप में पुलिस ने ग्रुप एडमिन राम सिंह और ग्रुप सदस्य अजय गुप्ता के खिलाफ दो वर्गों के बीच शत्रुता फैलाने संबंधी भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत गंजडुंडवारा थाने में मामला दर्ज किया है.

ग्रुप एडमिन राम सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि अजय गुप्ता फरार है.

पुलिस प्रशासन को जानकारी मिली थी कि साम्प्रदायिक हिंसा के बारे में वॉट्सऐप ग्रुप ‘नक्षत्र कम्प्यूटर’ पर कुछ लोग भड़काऊ वीडियो और तस्वीरें पोस्ट कर रहे हैं. पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए ग्रुप के एडमिन राम सिंह को गिरफ्तार कर लिया.

ग्रुप के एक सदस्य अजय गुप्ता की तलाश की जा रही है. दोनों आरोपी कासगंज के गंजडुंडवारा इलाके के रहने वाले बताए जा रहे हैं.

सोमवार को गंजडुडवारा इलाके में कुछ अराजक तत्वों ने एक धार्मिक स्थल के गेट पर आग लगा दी. आग को समय रहते बुझा दिया गया और लापरवाही बरतने के आरोप में दो सिपाहियों के खिलाफ कार्रवाई भी की गई थी. इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी.

गौरतलब है कि 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के दिन कासगंज में तिरंगा यात्रा निकालने के दौरान दो पक्षों के बीच हिंसा हुई थी, जिसमें चंदन गुप्ता (22) नाम के एक युवक की गोली लगने से मौत हो गई थी. युवक की हत्या के बाद से कासगंज में हिंसा और आगजनी शुरू हो गई थी.

Comments