जदयू

Varanasi: BJP worker celebrate the NDAs lead in Bihar Assembly elections and partys lead in UP Assembly bypolls, in Varanasi, Tuesday, Nov. 10, 2020. (PTI Photo) (PTI10-11-2020 000061B)

बिहार विधानसभा चुनाव: राजग को 125 सीटों के साथ मिला बहुमत, राजद बनी सबसे बड़ी पार्टी

बिहार विधानसभा की 243 सीटों में से राजद के नेतृत्व वाली महागठबंधन को कुल 110 सीटों पर जीत मिली है. राजद ने 75, भाजपा ने 74, जदयू ने 43, कांग्रेस ने 19, भाकपा माले ने 12 और एआईएमआईएम ने 5 सीटों पर जीत दर्ज की है. लोजपा को सिर्फ़ एक सीट ही मिल सकी.

Patna: BJP supporters react during counting day of Bihar Assembly polls, in Patna, Tuesday, Nov. 10, 2020. (PTI Photo)(PTI10-11-2020 000068B)

बिहार चुनाव परिणाम: एनडीए को 125 और महागठबंधन को 110 सीटों पर जीत मिली

बिहार में सत्ताधारी राजग में शामिल भाजपा ने 74 सीटों पर, जदयू ने 43 सीटों पर, विकासशील इंसान पार्टी ने 4 सीटों पर और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा ने 4 सीटों पर जीत दर्ज की है. वहीं, विपक्षी महागठबंधन में शामिल राजद ने 75 सीटों पर, कांग्रेस ने 19 सीटों पर, भाकपा माले ने 12 सीटों पर, भाकपा एवं माकपा ने दो-दो सीटों पर जीत दर्ज की है.

भाकपा-माले के महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य और पोलितब्यूरो सदस्य कविता कृष्णन. (फोटो: पीटीआई)

बिहार चुनाव परिणाम: वाम दलों का बेहतर प्रदर्शन, 29 में से 18 सीटों पर आगे

243 सीटों वाले बिहार विधानसभा चुनाव की मतगणना जारी है. ताज़ा आंकड़ों के अनुसार, महागठबंधन के तहत चुनाव लड़ने वाली माकपा और भाकपा तीन-तीन सीटों और भाकपा-माले 12 सीटों पर आगे चल रही है.

जदयू नेता केसी त्यागी. (फोटो द वायर)

बिहार: मतगणना पूरी होने से पहले बोले जदयू प्रवक्ता- तेजस्‍वी ने नहीं, प्राकृतिक आपदा ने हराया

मतगणना के रुझानों में महागठबंधन को बढ़त मिलने के बाद जदयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने एक टीवी चैनल से बात करते हुए कहा कि न तो ब्रांड नीतीश गायब हुआ है और न ही तेजस्‍वी यादव स्‍थापित हुए हैं.

राजद नेता तेजस्वी यादव और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार. (फोटो: पीटीआई)

बिहार चुनाव का नतीजा जो हो, एनडीए गठबंधन का बिखराव किसी से छिपा नहीं है

मतदान का तीसरा और आखिरी चरण आते-आते नीतीश कुमार, नरेंद्र मोदी और अन्य भाजपा नेताओं के बीच सामंजस्य और तालमेल की कमी बेहद स्पष्ट तौर पर दिखने लगी थी, इसके उलट राजद की अगुवाई वाला गठबंधन कहीं ज़्यादा एकजुट दिखा.

Bulandshahr: An elderly Muslim along with other voters shows his ink-marked finger after casting vote at a polling station at Siyana, during the 2nd phase of Lok Sabha elections, Bulandshahr, Thursday, April 18, 2019. (PTI Photo/Vijay Verma) (PTI4_18_2019_000093B)

बिहार: क्या इस बार के विधानसभा चुनाव में मुस्लिम मतों का विभाजन हुआ है?

इस बार के बिहार विधानसभा चुनाव में मुस्लिम मतदाताओं में नीतीश सरकार द्वारा उनके कल्याण के लिए की गई पहल की बातें थीं, लेकिन महागठबंधन से अलग होने और बीजेपी के साथ सरकार बनाने को अल्पसंख्यक समुदाय में उनके जनादेश के तौहीन की तरह देखा जा रहा था.

Screen Shot 2020-11-08 at 4.29.00 PM

हमारी सरकार ने बिहार के लोगों का गौरव बढ़ाया है: भाजपा प्रवक्ता

वीडियो: बिहार चुनाव के मद्देनज़र मौजूदा एनडीए सरकार में हिस्सेदार भाजपा के प्रवक्ता विनोद शर्मा से द वायर की सीनियर एडिटर आरफ़ा ख़ानम शेरवानी की बातचीत.

बिहार की राजधानी पटना में राजद और भाजपा की ओर से लगाए गए पोस्टर. (फोटो: पावनजोत कौर/द वायर)

बिहार: अंतिम चरण का मतदान पूरा, एग्जिट पोल में दिखी महागठबंधन को बढ़त की संभावना

विधानसभा चुनाव राउंडअप: अंतिम चरण के लिए 78 सीटों पर हो रहा मतदान में शनिवार शाम पांच बजे तक 55.22 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. नतीजे 10 नवंबर को आएंगे.

एक जनसभा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार. (फोटो साभार: फेसबुक/जदयू)

नीतीश कुमार के बिहार विधानसभा चुनाव को अपना ‘अंतिम चुनाव’ बताने के क्या मायने हैं

नीतीश कुमार ने तीसरे चरण के चुनाव प्रचार के आख़िरी दिन कहा कि यह उनका अंतिम चुनाव है. क्या यह मतदान से पहले सीमांचल के अल्पसंख्यकों समेत उनके पारंपरिक मतदाताओं की सहानुभूति लेने का कोई चुनावी हथकंडा है या इसका कोई गहरा सियासी अर्थ है?

Jamui: Bihar Chief Minister Nitish Kumar greets a gathering during an election meeting, in Jamui, Thursday, Oct. 15, 2020. (PTI Photo) (PTI15-10-2020 000109B)

बिहार: अंतिम चरण के लिए चुनाव प्रचार समाप्त, नीतीश कुमार ने कहा- यह मेरा आख़िरी चुनाव

बिहार विधानसभा चुनाव राउंडअप: नीतीश कुमार के बयान पर राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि हम शुरू से कहते आ रहे है कि वो पूर्णत: थक चुके है और आज आखिरकार उन्होंने हमारी बात पर मुहर लगा दी. भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि ‘जंगलराज के युवराज’ को बिहार की जनता से माफ़ी मांगनी चाहिए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार की जनता को संबोधित एक पत्र लिखकर एनडीए को वोट करने की अपील की.

मोतीपुर जमींदारी कंपनी प्राइवेट लिमिटेड ने मोतीपुर चीनी मिल को 1932 में स्थापित किया था. (सभी फोटो: मनोज सिंह)

बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में बंद पड़ी चीनी मिल क्या कभी शुरू हो पाएगी?

ग्राउंड रिपोर्ट: बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर स्थित मोतीपुर चीनी मिल 1932 स्थापित की गई थी. 1980 में राज्य सरकार ने इसका संचालन अपने हाथ में लिया और वर्ष 1997 में यह बंद हो गई. आज हालात ये हैं कि बिहार में 28 में से सिर्फ 11 चीनी मिलें ही चल रही हैं. ये सभी चीनी मिलें सिर्फ़ छह ज़िलों में स्थित हैं.

Patna: Prime Minister Narendra Modi and Bihar Chief Minister Nitish Kumar during an election rally, at the veterinary ground in Patna, Wednesday, Oct. 28, 2020. (PTI Photo)(PTI28-10-2020 000098B)

बिहार: क्या सीएए को लेकर आमने-सामने आ गए हैं नीतीश कुमार और भाजपा?

बिहार विधानसभा चुनाव के आख़िरी चरण के मतदान से पहले एक चुनावी सभा में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा था कि घुसपैठियों को देश से बाहर किया जाएगा. इसके बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि देश से बाहर करने की फालतू बातों का दुष्प्रचार किया जा रहा है.

2307 Gondi.00_32_14_23.Still139

बिहार चुनाव: कितनी रिपोर्टिंग-कितना प्रोपगेंडा!

मीडिया बोल: बिहार में मतदान का दूसरा चरण मंगलवार को संपन्न हो गया. मीडिया में राज्य के मुद्दों और लोगों के सरोकारों की अभिव्यक्ति किस तरह हो रही है? मीडिया बोल की इस कड़ी में टाइम्स ऑफ इंडिया पटना के पूर्व रेज़िडेंट एडिटर और वरिष्ठ पत्रकार एवं सामाजिक कार्यकर्ता निवेदिता झा के साथ वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश की बातचीत.

Synced Sequence.00_29_01_06.Still005

बिहार चुनाव फेज़-2: क्या तेजस्वी तय है?

वीडियो: बिहार विधानसभा चुनाव पर द वायर के पोलिटिकल अफ़ेयर्स एडिटर अजय आशीर्वाद, वरिष्ठ पत्रकार मनोज सिंह और पत्रकार एवं लेखक नलिन वर्मा के साथ द वायर की सीनियर एडिटर आरफ़ा ख़ानम शेरवानी की बातचीत.

कुबौल गांव. (सभी फोटो: रोहित उपाध्याय)

कुबौल: नीतीश कुमार के ‘सुशासन’ पर सवाल खड़े करता बिहार का एक गांव

ग्राउंड रिपोर्ट: बिहार के दरभंगा ज़िले के किरतपुर प्रखंड का कुबौल गांव कोसी नदी के बाढ़ क्षेत्र में आता है. बाढ़ के कई महीनों बाद तक पानी में डूबा रहने वाला यह गांव उन बुनियादी सुविधाओं से भी महरूम है, जिन्हें नीतीश सरकार अपनी उपलब्धि के तौर पर गिनवा रही है.