Jayaprakash Narayan

साभार: competitionzenith.blogspot.in

जब जेपी के जीवित रहते हुए संसद ने उन्हें श्रद्धांजलि दे दी थी…

गैरकांग्रेसवाद का सिद्धांत भले ही डाॅ. राममनोहर लोहिया ने दिया था लेकिन उसकी बिना पर कांग्रेस की केंद्र की सत्ता से पहली बेदखली 1977 में लोकनायक जयप्रकाश नारायण के तत्वावधान में ही संभव हुई.

तेज प्रताप यादव. (फोटो साभार: फेसबुक/तेजप्रताप यादव)

‘लालू-राबड़ी मोर्चा’ बनाकर तेज प्रताप ने अपनी मां से की सारण से चुनाव लड़ने की मांग

तेज प्रताप यादव ने ‘लालू-राबड़ी मोर्चा’ के गठन का ऐलान करते हुए कहा, ‘सारण मेरे पिता लालू जी और मां राबड़ी जी की सीट है. अगर मेरी मां वहां से मैदान में नहीं उतरतीं हैं तो मैं एक निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ूंगा और इसे जीतने की पूरी कोशिश करूंगा.’

लोकनायक जयप्रकाश नारायण. (जन्म: 11 अक्टूबर 1902 - अवसान: 08 अक्टूबर 1979)

क्या स्मार्ट सिटी का सपना देख रहे भारत में लोकनायक के गांव की सुध लेना वाला कोई नहीं?

लोकनायक जयप्रकाश नारायण का पैतृक गांव सिताब दियारा देश के विभिन्न गांवों की बदहाली और सरकारों के उपेक्षापूर्ण रवैये की बड़ी मिसाल है. आदर्श ग्राम योजना के तहत भाजपा सांसद राजीव प्रताप रूडी द्वारा इसे गोद लेने के बावजूद इसकी स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ है.

Patna: Bihar opposition leader Tejashwi Yadav with RJD leader Tej Pratap and Congress MLAs march towards Raj Bhawan for stake claim to form the government in the state, being the single largest party in the Legislative Assembly, in Patna on Friday. (PTI Photo)(PTI5_18_2018_000097B)

‘कृष्ण’ और ‘बलराम’ को लड़ाने की कोशिश हो रही है: तेज प्रताप यादव

राजद उपाध्यक्ष और अपनी मां राबड़ी देवी के पटना स्थित आवास पर पार्टी नेताओं की बैठक से तेज प्रताप के अनुपस्थित रहने पर सत्ताधारी जदयू और भाजपा ने दावा किया था कि लालू परिवार के भीतर अंतर्कलह चल रही है.

636-400-CROP-FB-PM-pays-tributes-to-Dr.-Ram-Manohar-Lohia-on-his-birth-anniversary

आज अगर लोहिया होते तो गैर-भाजपावाद का आह्वान करते

लोहिया ने नेहरू जैसे प्रधानमंत्री को यह कहकर निरुत्तर कर दिया था कि आम आदमी तीन आने रोज़ पर गुज़र करता है, जबकि प्रधानमंत्री पर रोज़ाना 25 हज़ार रुपये ख़र्च होते हैं.

जयप्रकाश नारायण. (जन्म: 11 अक्टूबर 1902  मृत्यु: 08 October 1979)

कहते हैं उनको जयप्रकाश जो नहीं मरण से डरता है…

आपातकाल की चर्चा तब तक पूरी नहीं होती जब तक स्वाधीनता संग्राम सेनानी और प्रसिद्ध समाजवादी नेता जयप्रकाश नारायण की चर्चा न की जाए.