भारत

राजनीतिक विरोधी दुश्मन नहीं होते: उमर अब्दुल्ला

नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला का बयान ट्विटर पर साझा किए एक वीडियो की प्रतिक्रिया में आया है जिसमें उमर और भाजपा के बीच कोई गुप्त समझौता होने का इशारा किया गया था. अब्दुल्ला ने इस पर कहा कि नेता राजनीतिक रूप से असहमति रखते हैं लेकिन व्यक्तिगत तौर पर एक-दूसरे से नफ़रत नहीं करते.

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला. (फोटो: पीटीआई)

श्रीनगर: नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने शुक्रवार को कहा कि राजनीतिक विरोधी दुश्मन नहीं होते हैं और सियासत में विभाजन और नफरत नहीं होती.

उनका बयान ट्विटर पर साझा किए गए एक वीडियो पर प्रतिक्रिया में आया है जिसमें नेशनल कॉन्फ्रेंस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बीच कोई गुप्त समझौता होने की ओर इशारा किया गया था.

इस वीडियो में जम्मू कश्मीर भाजपा के अध्यक्ष रवींद्र रैना कहते सुने जा सकते हैं कि अब्दुल्ला केंद्रशासित प्रदेश के शीर्ष नेताओं में ‘रत्न’ की तरह हैं.

रैना ने कहा, ‘जब मैं विधानसभा सदस्य बना तो उमर भी वहां थे. हमने देखा कि एक व्यक्ति के रूप में उमर अब्दुल्ला जम्मू कश्मीर के शीर्ष नेताओं में रत्न की तरह हैं, वो एक बेहतरीन इंसान हैं और इसलिए हमारी उनसे दोस्ती भी है.’

उन्होंने कहा कि जब वह कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे और अस्पताल में भर्ती थे, तब सबसे पहले अब्दुल्ला ने उन्हें फोन कर हालचाल पूछा था.

इस वीडियो को साझा करते हुए एक यूजर ने तंज़ में लिखा था कि ‘बहुत याराना लगता है.’

इसके जवाब में नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता ने कहा कि क्या सियासत सिर्फ बांटने और नफरत के बारे में ही होती है?

उन्होंने ट्वीट किया, ‘राजनीति में विभाजन और नफरत ही होती है, ऐसा क्यों माना जाता है? यह बात कहां लिखी है कि राजनीतिक असहमति के लिए हमें एक दूसरे से व्यक्तिगत रूप से घृणा करनी होगी? मेरे राजनीतिक विरोधी हैं, मेरे दुश्मन नहीं हैं.’

उन्होंने यह भी जोड़ा कि वे रवींद्र के अच्छे शब्दों के लिए आभारी हैं.