भारत

मैं ‘राहुल सावरकर’ नहीं राहुल गांधी हूं, सच्चाई के लिए कभी माफी नहीं मांगूंगा: राहुल गांधी

दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित कांग्रेस की ‘भारत बचाओ रैली’ में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि आज देश में अंधेर नगरी, चौपट राजा जैसा माहौल है और पूरा देश पूछ रहा है कि सबका साथ, सबका विकास कहां है?

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी. (फोटो: ट्विटर/@INCIndia)

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी. (फोटो: ट्विटर/@INCIndia)

नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ‘रेप इन इंडिया’ वाली टिप्पणी पर भाजपा की ओर माफी की मांग किए जाने पर पलटवार करते हुए शनिवार को कहा कि उनका नाम ‘राहुल सावरकर’ नहीं है और वह कभी माफी नहीं मांगने वाले हैं.

उन्होंने यहां कांग्रेस की ओर से यहां आयोजित ‘भारत बचाओ रैली’ में कहा, ‘कांग्रेस का कार्यकर्ता किसी से नहीं डरता और देश के लिए जान देने के लिए तैयार रहता है.’

उल्लेखनीय है कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी शनिवार को दिल्ली के रामलीला मैदान में ‘भारत बचाओ’ रैली आयोजित कर रही है. इस रैली का उद्देश्य भाजपा सरकार की ‘विभाजनकारी’ नीतियों को उजागर करना है.

इस रैली में मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी, राहुल गांधी के अलावा राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कांग्रेस के अन्य वरिष्ठ नेता मौजूद हैं.

राहुल गांधी ने कहा, ‘संसद में भाजपा के लोगों ने कहा कि मैं अपने भाषण के लिए माफी मांगू. मुझे एक ऐसी चीज के लिए माफी मांगने के लिए कहा गया जो कि सही है. मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं, राहुल गांधी है. मैं सच्चाई के लिए माफी नहीं मांगूंगा. मर जाऊंगा लेकिन माफी नहीं मांगूंगा.’

उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस का कोई सदस्य माफी नहीं मांगेगा. माफी नरेंद्र मोदी को मांगनी चाहिए. उन्हें देश से माफी मांगनी चाहिए. उनके सहयोगी अमित शाह को देश से माफी मांगनी चाहिए. मैं आपको बताता हूं कि उन्हें माफी क्यों मांगनी चाहिए.’

गांधी ने कहा, ‘आज जीडीपी वृद्धि दर चार फीसदी हो गई है. यह भी तब है जब भाजपा ने जीडीपी मापने के तरीके को बदल दिया. अगर पुराने तरीके से जीडीपी को मापा जाए तो यह केवल 2.5 फीसदी रह जाएगी.’

गांधी ने कहा, ‘मोदी और अमित शाह को माफी मांगनी है. पूरी दुनिया हमारी तरफ देख रही थी. हमारी शक्ति अर्थव्यवस्था थी. लोग दुनिया का भविष्य चीन और भारत को बोलते थे.’ उन्होंने आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी ने भारत की अर्थव्यवस्था खुद नष्ट कर दी.

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘हिंदुस्तान के सभी दुश्मन चाहते थे कि भारत की अर्थव्यवस्था नष्ट हो जाए. यह काम हमारे प्रधानमंत्री ने कर दिया.’ उन्होंने आरोप लगाया कि नोटबन्दी करके लाखों करोड़ रुपये कुछ उद्योगपतियों को दे दिए.

उन्होंने कहा, ‘आज देश को हालात के बारे में पता है. वे बांटने का काम करते हैं. उन्होंने जम्मू कश्मीर और पूर्वोत्तर में लोगों को धर्म के आधार पर बांटा. आप असम, मिजोरम, मणिपुर, नगालैंड, अरुणाचल प्रदेश जाइए और देखिए नरेंद्र मोदी ने क्या किया है, उन्होंने इन क्षेत्रों में आग लगा दी है.’

उन्होंने कहा, ‘टीवी पर कोई 30 सेकेंड का विज्ञापन आता है, वो लाखों का होता है. नरेंद्र मोदी रोज टीवी पर दिनभर दिखते हैं. इसका पैसा कौन दे रहा है? इसका पैसा वो लोग दे रहे हैं जिनको नरेंद्र मोदी आपका पैसा छीनकर दे रहे हैं.’

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इस रैली में कहा, ‘तकरीबन छह साल पहले जनता को बड़े बड़े सब्जबाग दिखाए गए थे. किसानों की आमदनी दुगुनी करने और नौजवानों को हर साल दो करोड़ रोजगार मुहैया कराने का वादा किया था. अब तो साबित हो गया कि ये वादे झूठे थे.’ उन्होंने कहा कि हमारा फर्ज है कि हम कांग्रेस को मजबूत करें ताकि हम देश को सही दिशा की तरफ ले जा सके.

रैली में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा, किसी भी व्यक्ति समाज और देश की जिंदगी में कभी कभी ऐसा वक्त आता है कि उसे इस पार या उस पार का फैसला लेना पड़ता है. आज भी वही वक्त आ गया है, देश को बचाना है तो हमें कठोर संघर्ष करना होगा.

उन्होंने कहा, ‘आज देश में अंधेर नगरी, चौपट राजा जैसा माहौल है और पूरा देश पूछ रहा है कि सबका साथ, सबका विकास कहां है?’

सोनिया गांधी ने कहा, ‘आज ऐसा माहौल हो गया है कि वे जब चाहते हैं कि कोई अनुच्छेद लागू कर देते हैं और कोई अनुच्छेद हटा देते हैं या किसी राज्य का दर्जा बदल देते हैं. उन्हें जब लगता है वे राष्ट्रपति शासन लागू कर देते हैं और बिना बहस के विधेयक पास कर देते हैं. वे हर दिन संविधान का उल्लंघन करते हैं और फिर संविधान दिवस का जश्न भी मनाते हैं.’

उन्होंने कहा, ‘मोदी-शाह को इससे फर्क नहीं पड़ता है कि नागरिकता संशोधन कानून उसी तरह से भारत की आत्मा को तार-तार कर देगा जिस तरह से इसने असम और अन्य पूर्वोत्तर राज्यों में किया है. भाजपा जिस नागरिकता संशोधन कानून को लेकर आई है वह देश को बर्बाद कर देगा. लेकिन मैं भरोसा दिलाती हूं जिसके साथ भी अन्याय होगा कांग्रेस उसके साथ खड़ी होगी.’

उन्होंने कहा, ‘मोदी सरकार की गलत नीतियों के कारण छोटे कारेबार बर्बाद हो गए. ऐसे कारोबारियों को आत्महत्या करनी पड़ी. क्या इसकी जांच नहीं होनी चाहिए कि वादे के अनुसार कालाधन को वापस क्यों नहीं लाया गया?’

प्रियंका ने कहा, ‘पहले पूरी दुनिया हमारी तरफ देख रही थी. विकास हो रहा था. आज भाजपा की सरकार में रोजगार बढ़ने की बजाय घट रहा है. महंगाई बढ़ रही है. छोटे और मझोले व्यापारी परेशान हैं.’ उन्होंने कहा, ‘असलियत यह है कि यदि भाजपा है तो 45 साल में सबसे ज्यादा महंगाई मुमकिन है.’

नागरिकता संशोधन कानून का हवाला देते हुए कांग्रेस महासचिव ने कहा, ‘इस सरकार में ऐसे कानून बन रहे हैं जिससे देश का संविधान खतरे में है. यह विभाजनकारी है.’ उन्होंने कहा, ‘मैं कश्मीर से अरुणाचल तक सबसे कहना चाहती हूँ कि आप अपनी आवाज उठाइये. अगर हम चुप रहेंगे तो आम्बेडकर द्वारा लिखा गया संविधान खत्म हो जाएगा और देश का बंटवारा जो जाएगा.’

प्रियंका ने कहा, ‘आज चारों तरफ अन्याय है. महिलाएं असुरक्षित हैं. सभी को मिलकर भारत को बचाना है.’

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि किसान बर्बाद हो रहा है. उसके लिए सभी कार्यकर्ता जमीन पर लड़ें.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)