राजनीति

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए 8 फरवरी को मतदान, 11 फरवरी को होगी मतगणना

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन पत्र दाख़िल करने की अंतिम तिथि 21 जनवरी है, नामांकन पत्र की जांच 22 जनवरी को होगी और नामांकन पत्र वापस लेने की अंतिम तारीख़ 24 जनवरी है.

New Delhi: Chief Election Commissioner Sunil Arora along with Election Commissioner Ashok Lavasa (L) addresses a press conference to announce the poll schedule for the forthcoming Delhi Assembly elections, in New Delhi, Monday, Jan. 6, 2020. (PTI Photo/Subhav Shukla)  (PTI1_6_2020_000082B)

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा के साथ चुनाव आयुक्त अशोक लवासा. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: चुनाव आयोग ने सोमवार को देश की राजधानी दिल्ली में विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान कर दिया है. इसी के साथ राजधानी में आचार संहिता लागू हो गई है.

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी जानकारी देते हुए कहा कि दिल्ली की सभी 70 विधानसभा सीटों पर सिर्फ एक चरण में आठ फरवरी को वोट डाले जाएंगे. नतीजों का ऐलान 11 फरवरी को होगा.

अरोड़ा ने बताया, ‘दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि 21 जनवरी है, जबकि नामांकन पत्र की जांच 22 जनवरी को होगी.’ उन्होंने बताया कि नामांकन पत्र वापस लेने की अंतिम तिथि 24 जनवरी है.

दिल्ली में विधानसभा की 70 सीटें हैं, जिसमें से 58 सामान्य श्रेणी की हैं, जबकि 12 सीटें अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं.

अरोड़ा ने बताया कि दिल्ली विधानसभा चुनाव की तैयारियों के सिलसिले में विभिन्न कानून अनुपालन एजेंसियों के साथ व्यापक चर्चा की गई है, जिसमें सुरक्षा से जुड़े आयाम भी शामिल हैं.

उन्होंने कहा कि चुनाव तारीख की घोषणा के बाद ही आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है. अरोड़ा ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में कुल 1.46 करोड़ मतदाता और 13,750 मतदान केंद्र है.

चुनाव आयुक्त ने कहा कि दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए नोटिफिकेशन 14 जनवरी से लागू होगी.

अरोड़ा ने दिल्ली की स्थिति पर कहा, ‘हमें उम्मीद है कि स्थिति नियंत्रण में और चुनावों के अनुकूल होगी. अगर किसी तरह की असाधारण स्थिति होती है तो चुनाव स्थगित करने का एक विकल्प हमेशा है. संविधान चुनाव आयोग को ऐसा करने की शक्ति देता है.’

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए मतदाताओं की अंतिम सूची के मुताबिक, दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी रणबीर सिंह ने कहा कि मतदाताओं की अंतिम सूची के अनुरूप 80.55 लाख पुरुषों और 66.35 लाख महिलाओं के साथ दिल्ली में 1.46 करोड़ मतदाता हैं.

चुनाव आयुक्त का कहना है कि बजट में किसी भी तरह की राज्य विशेष योजना का ऐलान नहीं किया जा सकता. दिल्ली चुनाव में भी यह लागू रहेगा. चुनाव आयुक्त ने कहा कि चुनाव पर्यवेक्षकों के कॉन्टैक्ट नंबर सार्वजनिक किए जाएंगे.

दिल्ली में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति पर चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा, ‘हमने दिल्ली पुलिस से बातचीत की है, उन्होंने हमें लिखित में आश्वासन दिया है. हमारी मुख्य सचिव के साथ भी बात हुई है. मैं यह नहीं कहूंगा कि हम आशावादी हैं लेकिन हमें उम्मीद हैं कि स्थिति नियंत्रण में रहेगी.’

उन्होंने कहा कि दिल्ली में चुनाव प्रक्रिया के संचालन के लिए 90,000 चुनाव अधिकारी की जरूरत होगी.

मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल 22 फरवरी 2020 को समाप्त हो रहा है.

राजधानी में सत्ताधारी आम आदमी पार्टी का मुकाबला एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस से है.

चुनाव की तारीख के ऐलान के बाद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘आम आदमी पार्टी अपने काम के आधार पर दिल्ली विधानसभा चुनाव लड़ेगी.’

2015 के चुनाव में आम आदमी पार्टी ने 70 में से 67 सीटों पर जीत दर्ज की थी जबकि भाजपा को सिर्फ तीन सीटें मिली थीं. वहीं, कांग्रेस एक भी सीट नहीं जीत पाई थी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)