भारत

कोरोना वायरस: 24 घंटे के भीतर तीन नए मामले सामने आने के बाद राजस्थान में धारा 144 लागू

राजस्थान के झुंझुनू में एक ही परिवार के तीन लोगों में कोरोना वायरस का संक्रमण पाया गया. तीनों बीते आठ मार्च को इटली से लौटे थे. मुख्यमंत्री ने मरीज़ों के घर के एक किलोमीटर के दायरे में दो दिन तक कर्फ्यू लगाने का निर्देश दिया.

Chennai: Workers wear masks to protect themselves in the wake of deadly coronavirus, at Chennai airport, Tuesday, March 17, 2020. (PTI Photo/R Senthil Kumar)(PTI17-03-2020_000203B)

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

जयपुर: 24 घंटे के अंदर कोरोना वायरस के संक्रमण के तीन नए मामले सामने आने के बाद राजस्थान में धारा 144 लागू कर दी गई है.

कोरोना वायरस को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई बैठक में जिलाअधिकारियों और उप-संभागीय अधिकारियों को सीआरपीसी की धारा 144 के तहत एक साथ कई लोगों को न जुटने देने के निर्देश दिए गए हैं.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, मुख्यमंत्री ने अपील की है कि सभी मंदिर-मस्जिद और अन्य धार्मिक और सार्वजनिक स्थलों पर लोग एक साथ न जुटें.

इस बीच राज्य के झुंझुनू में कोरोना वायरस के संक्रमण के तीन नए मामलों की पुष्टि हुई है. इसके साथ ही राज्य में ऐसे मामलों की संख्या बढ़कर सात हो गई है. हालांकि इलाज के बाद इनमें से तीन लोगों ठीक हो गए हैं.

रिपोर्ट के अनुसार, मुख्यमंत्री ने संक्रमित मरीजों से के घर के एक किलोमीटर के दायरे में अगले दो दिनों तक कर्फ्यू लगाने का भी निर्देश दिया है.

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमित तीनों नए मरीज एक ही परिवार से हैं और बीते आठ मार्च का इटली से लौटे हैं. उन्होंने बताया कि तीनों को इलाज के लिए जयपुर लाया गया है.

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, इटली से लौटे झुंझुनूं के दंपति और उनकी दो साल की बच्ची में संक्रमण पाया गया है. पति की उम्र 33 वर्ष, पत्नी की 31 साल है.

राजस्थान में 31 मार्च तक सभी सरकारी और निजी स्कूलों में पैंरेंट-टीचर्स मीटिंग पर रोक लगा दी गई और साथ ही पुस्तकालय भी बंद रहेंगे.

रिपोर्ट के अनुसार, 25 मार्च से होने वाले जीणमाता मेला और शिला देवी मेले को भी निरस्त कर दिया गया है. पुष्कर ब्रह्मा मंदिर और यहीं के नए रंगजी मंदिर में भी दर्शनार्थियों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई.