दुनिया

कोरोना वायरस: देश में अब तक 640 लोगों की मौत, संक्रमण के मामले 20 हज़ार के क़रीब

कोरोना वायरस से विश्व में 1.75 लाख लोगों की मौत, संक्रमण के मामले 25 लाख से ज़्यादा हुए. इस महामारी को लेकर सूचनाएं छिपाने के आरोप में अमेरिकी राज्य मिसौरी ने चीन के ख़िलाफ़ मुकदमा दर्ज कराया. चीन में विदेश से आए लोगों के चलते संक्रमण के मामले बढ़े.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्ली/वॉशिंगटन/बीजिंग/मेड्रिड: केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बताया कि बुधवार को कोरोना वायरस यानी कोविड-19 के कारण देश में मरने वाले लोगों की संख्या 640 हो गई और संक्रमण के मामले 19,984 पर पहुंच गए.

मंत्रालय ने आगे बताया कि कोविड-19 के 15,474 मरीजों का इलाज चल रहा है, 3,869 लोगों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है और एक मरीज दूसरे देश चला गया.

संक्रमण के कुल मामलों में से 77 लोग विदेशी हैं.

मंगलवार शाम से अब तक कुल 37 लोगों की मौत हुई है, जिनमें से 19 लोगों की मौत महाराष्ट्र में, 13 की गुजरात में, तीन की पश्चिम बंगाल में तथा तमिलनाडु और झारखंड में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है.

संक्रमण के कारण देश में कुल 640 लोगों की मौत हुई है, जिनमें सर्वाधिक 251 लोगों की मौत महाराष्ट्र में, 90 लोगों की मौत गुजरात में, 76 लोगों की मौत मध्य प्रदेश में, 47 की मौत दिल्ली में, 25 की मौत राजस्थान में, 23 लोगों की मौत तेलंगाना में और 22 लोगों की मौत आंध्र प्रदेश में हुई है. संक्रमण के कारण उत्तर प्रदेश में 20 मौत हुई है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के बुधवार सुबह अपडेट किए गए आंकड़ों के मुताबिक देश में संक्रमण के सर्वाधिक 5,218 मामले महाराष्ट्र में, 2,178 मामले गुजरात में, 2,156 मामले दिल्ली में, 1,659 मामले राजस्थान में, 1,596 मामले तमिलनाडु में और 1,552 मामले मध्य प्रदेश में हैं.

विश्व में 1.75 लाख लोगों की मौत, संक्रमण के मामले 25 लाख से ज़्यादा हुए

इस महामारी से विश्व में लोगों के मारे जाने की संख्या बढ़कर 1.75 लाख का आंकड़ा पार कर 177,602 हो चुकी है और संक्रमण के मामले 25 लाख का आंकड़ा पार कर 2,573,143 हो चुके हैं.

इस बीमारी से सबसे बुरी तरह से प्रभावित अमेरिका में मरने वालों की संख्या 45 हजार तक पहुंच गई है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक यहां संक्रमण के मामले बढ़कर 810,000 से ज्यादा हो चुके हैं.

अमेरिका के बाद बुरी तरह से प्रभावित देशों में इटली दूसरे नंबर पर है. जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के अनुसार, यहां बुधवार तक 24,648 लोगों की मौत हो चुकी थी और संक्रमण के मामले बढ़कर 183,957 हो चुके हैं.

स्पेन में कोरोना वायरस से रोजाना होने वाली मौत की संख्या में मंगलवार को मामूली बढ़त सामने आई. स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक पिछले चौबीस घंटे में कोविड-19 के 430 मरीजों की मौत हो गई.

अब तक स्पेन में इस महामारी से 21,282 लोगों की मौत हो चुकी है. कोरोना वायरस से होने वाली मौत की संख्या के मामले में स्पेन, अमेरिका और इटली के बाद तीसरे स्थान पर है.

फ्रांस में इससे अब तक 20,796 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं और संक्रमण के 159,300 मामले सामने आ चुके हैं. ब्रिटेन में इसकी वजह से अब तक 11,337 लोगों की मौत हो चुकी है और 130,184 मामले दर्ज किए जा चुके हैं.

अमेरिकी राज्य ने चीन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया

अमेरिका के एक राज्य ने चीन पर नोवेल कोरोना वायरस को लेकर सूचनाएं दबाने, इसका भंडाफोड़ करने वाले लोगों को गिरफ्तार करने तथा इसकी संक्रामक प्रकृति से इनकार करने का आरोप लगाते हुए उसके खिलाफ मुकदमा दायर किया है.

इसें साथ ही कहा है कि इससे दुनियाभर के देशों को अपूरणीय क्षति हुई है तथा मानवीय क्षति के साथ अर्थव्यवस्था को बड़ा नुकसान हुआ है.

ईस्टर्न डिस्ट्रिक्ट मिसौरी की एक अदालत में मिसौरी के अटॉर्नी जनरल एरिक शिमिट की ओर से चीन की सरकार, वहां की सत्तारूढ़ चीन की कम्युनिस्ट पार्टी और अन्य चीनी अधिकारियों एवं संस्थानों के खिलाफ अपनी तरह का पहला मुकदमा दायर किया गया है.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

इसमें आरोप लगाया गया है कि कोरोना वायरस के फैलने के शुरुआती अहम सप्ताहों में चीन के अधिकारियों ने जनता को धोखा दिया, महत्वपूर्ण सूचनाओं को दबाया, इस बारे में जानकारी सामने लाने वालों को गिरफ्तार किया, पर्याप्त प्रमाण होने के बावजूद मनुष्य से मनुष्य में संक्रमण की बात से इनकार किया, महत्वपूर्ण चिकित्सकीय अनुसंधानों को नष्ट किया, दसियों लाख लोगों को संक्रमण की जद में आने दिया और यहां तक कि निजी सुरक्षा उपकरणों (पीपीई) की जमाखोरी की जिससे महामारी वैश्विक हो गई.

शिमिट ने कहा, ‘कोविड-19 ने पूरी दुनिया के देशों को अपूरणीय क्षति पहुंचाई है जिससे बीमारी बढ़ी है, लोगों की मौत हुई है, आर्थिक नुकसान के साथ मानवीय क्षति हुई है. मिसौरी में वायरस का असर बहुत भारी है जहां हजारों लोग प्रभावित हुए हैं और कई मर चुके हैं. परिवार अपने प्रियजनों से बिछड़ गए हैं. छोटे कारोबार बंद हो रहे हैं तथा रोजाना कमाकर खाने वाले पेट भरने के लिए संघर्ष कर रहे हैं.’

उन्होंने आरोप लगाया, ‘चीनी सरकार ने कोविड-19 के खतरे और संक्रामक प्रकृति के बारे में दुनिया से झूठ बोला, जो इसके खिलाफ आवाज उठा रहे थे, उनकी आवाज दबा दी और बीमारी को रोकने के लिए कुछ नहीं किया.’

मुकदमे के अनुसार दिसंबर के अंतिम सप्ताह तक चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों के पास मनुष्यों के बीच संक्रमण के पर्याप्त प्रमाण थे.

चीन में विदेशों से आए संक्रमितों के मामले 1,600 के पार

चीन में कोविड-19 के 30 नए मामले सामने आए हैं, जिनमें से ज्यादातर चीन के वे नागरिक हैं जो विदेशों से लौटे हैं. इसके साथ देश में विदेशों से आए संक्रमितों के मामले बढ़कर 1,610 हो गए.

स्वास्थ्य अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी. अधिकारियों ने सभी सीमावर्ती क्षेत्रों में जांच और इलाज की सुविधाएं बढ़ा दी हैं.

मंगलवार को संक्रमण के कारण किसी की मौत नहीं हुई और मृतकों का आंकड़ा 4,632 बना हुआ है.

हालांकि पुष्ट मामलों की संख्या बढ़कर 82,788 हो गई, जिनमें से 1,005 मरीजों की मौत हो गई, जबकि 77,151 लोगों को छुट्टी दे दी गई. चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने यह जानकारी दी.

चीन में संक्रमितों के 30 नए मामले सामने आए, जिनमें 23 लोग विदेशों से आए संक्रमित हैं और ऐसे मामले बढ़कर 1,610 हो गए. विदेशों से आए संक्रमितों के कुल मामलों में से 811 का इलाज चल रहा है और 41 लोगों की हालत गंभीर है.

मंगलवार को ऐसे 42 मामले आए, जिनमें मरीज में रोग के कोई लक्षण नहीं हैं और ऐसे कुल 991 मामले हैं.

सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ की खबर के मुताबिक देश में विदेशों से आए संक्रमितों का जोखिम बढ़ रहा है, इसलिए सीमावर्ती क्षेत्रों में कोविड-19 की जांच और इलाज तेज कर दिए गए हैं.

चीन की 22,000 किमी लंबी सीमा के रास्ते कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के देश में आने का बहुत जोखिम है. इस जोखिम को देखते हुए चिकित्सा पेशेवरों और महामारी नियंत्रण विशेषज्ञों को कुछ सीमायी इलाकों में भेजा गया है.

न्यूजीलैंड का लक्ष्य कोरोना वायरस को जड़ से खत्म करना

वेलिंगटन: जहां ज्यादातर देश कोरोना वायरस पर लगाम लगाने के तरीकों पर काम कर रहे हैं, न्यूजीलैंड ने इस संक्रामक रोग को जड़ से खत्म करने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य तय किया है और विशेषज्ञों का मानना है कि यह देश इसका खात्मा कर सकता है.

(फोटो: पीटीआई)

(फोटो: पीटीआई)

ऑकलैंड विश्वविद्यालय में टीका विशेषज्ञ हेलन पेटोसिस हैरिस ने कहा, ‘इस विषाणु के पास महाशक्तियां नहीं हैं. एक बार समुदायों के बीच इसका प्रसार रुक गया तो यह गया.’

कहा गया है कि अगर किसी स्थान को सामाजिक रूप से दूर बताया जा सकता है तो यह न्यूजीलैंड होगा जो दक्षिण में अंटार्कटिका के साथ ही तूफानी समुद्रों से घिरा है. इसकी भोगौलिक स्थिति उसे इस लक्ष्य को पूरा करने में मदद कर सकती है. ब्रिटेन के इतने ही क्षेत्रफल और 50 लाख लोगों की आबादी वाले इस देश में शहरों में भी भीड़भाड़ नहीं है.

प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न ने साहसिक कदम उठाते हुए देश में मार्च के अंत से सख्त लॉकडाउन लागू किया. उस समय देश में करीब 100 लोग संक्रमित पाए गए थे.

न्यूजीलैंड इस वायरस के प्रसार को रोकने में कामयाब रहा है. अप्रैल के शुरुआत में हर दिन 90 संक्रमणों से लेकर मंगलवार को यह संख्या महज पांच तक रह गई. इस वैश्विक महामारी से केवल 13 लोगों की मौत हुई और अर्डर्न ने हर मौत पर व्यक्तिगत रूप से शोक जताया.

अर्डर्न ने सोमवार को ऐलान किया कि देश में एक और हफ्ते के लिए लॉकडाउन रहेगा और उसके बाद अर्थव्यवस्था को फिर से शुरू करने में मदद के लिए कामकाज में पाबंदियों से ढील दी जाएगी. ज्यादातर सामाजिक पाबंदियां बरकरार रहेंगी.

पाकिस्तान में और 16 लोगों की मौत, 9000 से अधिक लोग संक्रमित

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण से 16 और लोगों की मौत हो गई जिसके बाद देश में संक्रमण से मरने वालों की संख्या 209 पहुंच गई, जबकि इस संक्रमण से ग्रस्त लोगों की संख्या भी बढ़कर 9,749 से अधिक हो गई है.

प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि उनकी सरकार लोगों की समस्याओं का पूरी तरह से संज्ञान ले रही है और प्रांतीय सरकारों के सहयोग से उनके मुद्दों को हल करने के प्रयास कर रही है.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्री ने बताया कि मंगलवार को 796 नए मामले सामने आने के बाद कुल संक्रमित लोगों की संख्या 9,749 तक पहुंच गई. वहीं 2,066 मरीज संक्रमणमुक्त हो चुके हैं.

नेपाल में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 40 पहुंची

काठमांडू: नेपाल के पूर्वी उदयपुर जिले में नौ लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद देश में कुल संक्रमित लोगों की संख्या 40 तक पहुंच गई है.

द हिमालयन टाइम्स की खबर के मुताबिक, सभी नौ मामले उदयपुर से हैं जहां हाल ही में 11 भारतीयों और नेपाल के दो नागरिकों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी.

भारतीय नागरिक उदयपुर जिले के त्रियुग क्षेत्र में एक मस्जिद में रह रहे थे. एक दिन में नौ मामले सामने आने के बाद देश में कुल संक्रमित लोगों की संख्या 40 हो गई है.

जिला प्रशासन कार्यालय ने बुधवार से जिले को पूरी तरह सील करने का निर्णय लिया है. नेपाल में 27 अप्रैल तक बंद लागू है. देश में अब तक 8, 763 लोगों की जांच हुई है. स्वास्थ्य एवं जनसंख्या मंत्रालय के अनुसार, चार मरीज स्वस्थ हो चुके हैं.

द हिमालयन टाइम्स की खबर में यह भी बताया गया है कि नेपाल की सेना ने चीन से 342 टन चिकित्सीय आपूर्ति हासिल करने संबंधी समझौते पर हस्ताक्षर किया है, जिसकी कीमत 2.25 अरब रुपये से अधिक है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)