भारत

उत्तर प्रदेश: शादी के दो दिन पहले युवती और उसके पिता की हत्या करने वाला गिरफ़्तार

उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर की घटना. पुलिस ने इस संबंध में मृतक युवती का पीछा करने वाले आरोपी, उसकी मां सहित पांच लोगों को गिरफ़्तार किया है. एक आरोपी की तलाश जारी है.

(फोटो: पीटीआई)

(फोटो: पीटीआई)

मेरठः उत्तर प्रदेश के मेरठ के शिवपुरम में युवती का पीछा करने वाले शख्स ने अपने साथियों के साथ मिलकर 19 वर्षीय युवती और उसके पिता की गोली मारकर हत्या कर दी. मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, यह घटना 27 जून की रात को हुई, जबकि 29 जून को युवती आंचल की शादी होने वाली थी.

आरोप है कि आरोपी युवक आंचल से शादी करना चाहता था और उसने 27 जून को आंचल की शादी से दो दिन पहले अपने साथियों के साथ मिलकर इस घटना को अंजाम दिया.

एक संबंधी अमन (21) की शिकायत के आधार पर एफआईआर दर्ज की गई, जिसमें कहा गया कि कथित तौर पर आंचल का पीछा करने वाले शख्स ने 27 जून की रात आंचल और उसके पिता (48) की गोली मारकर हत्या कर दी.

मामले में मुख्य आरोपी सागर ठाकुर को बीते तीन जुलाई को गिरफ्तार कर लिया गया. वह युवती के पड़ोस में ही रहता था.

मेरठ में ब्रह्मपुरी सर्किल ऑफिसर चंद्रकात त्रिपाठी का कहना है, ‘सागर ने स्वीकार किया है कि उसने हत्या करने की योजना बनाई थी. हमने सागर की मां सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया है. एक अभी भी फरार है.’

एफआईआर के मुताबिक, ‘हमारा पड़ोसी सागर ठाकुर मेरी बहन आंचल से एकतरफा प्यार करता था. वह इस बात से खुश नहीं था कि मेरी बहन की शादी किसी और से होने जा रही थी. उसने चार अन्य लोगों के साथ मिलकर हमें मारने के इरादे से गोलियां चलाईं. गोली मेरी बहन, मेरे पिता और मेरे भाई को लगी. मेरी बहन और पिता की मौत हो गई.’

आंचल की मां उषा (40) का कहना है कि पीड़ित और आरोपी परिवार के बीच पिछले साल दिवाली पर हुए विवाद की वजह से यह हत्याएं की गईं जबकि सीओ त्रिपाठी ने हत्या के इस मकसद को खारिज किया है.

इस मामले में 27 जून की रात का वीडियो सामने आया है, 27 जून को आंचल की संगीत सेरेमनी थी और इस दौरान उसके भाई-बहन ड्राइंग रूम में नाच रहे थे. वीडियो में आंचल को भी देखा जा सकता है. कुछ देर बाद गोलियां चलने की आवाज सुनाई देती है और भगदड़ मच जाती है.

परिवार के सदस्यों के मुताबिक, ‘सागर और उसके चार साथी दरवाजे पर बंदूकों के साथ आते हैं और बाहर बेड पर लेटे राजकुमार पर गोलियां चला देते हैं. जैसे ही बच्चे बाहर भागते हैं. आरोपी आंचल को तीन गोलियां मारता है, जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो जाती है.’

उषा कहती हैं, ‘उन्हें (आरोपी) पता था कि किसे और कैसे मारना है. उन्होंने किसी और पर ध्यान ही नहीं दिया. वे उसे (आंचल) घायल करना नहीं मारना चाहते थे.’