भारत

ब्रिटेन से भारत लौटे छह लोगों में कोरोना वायरस का नया स्वरूप पाया गया

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि राज्य सरकारों ने इन सभी लोगों को चिह्नित स्वास्थ्य सेवा केंद्रों में क्वारंटीन कर दिया है और उनके संपर्क में आए लोगों को भी क्वारंटीन किया गया है.

Hyderabad: Airport staff waits for the arrival of US nationals to board a special relief flight, on their way to their country, at Rajiv Gandhi International Airport in Hyderabad, Tuesday, April 7, 2020. These passengers were stranded at various places due to the coronavirus lockdown. (PTI Photo) (PTI07-04-2020_000191B)

(प्रतीकात्मक तस्वीर: पीटीआई)

नई दिल्ली: ब्रिटेन से भारत लौटे छह लोगों के नमूनों में कोरोना वायरस का नया स्वरूप (स्ट्रेन) पाया गया है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि बेंगलुरु स्थित निमहांस, हैदराबाद स्थित सीसीएमबी और पुणे स्थित एनआईवी में जांच के लिए आए नमूनों में वायरस का नया स्वरूप पाया गया.

मंत्रालय ने बताया कि राज्य सरकारों ने इन सभी लोगों को चिह्नित स्वास्थ्य सेवा केंद्रों में अलग पृथकवास (क्वारंटीन) कक्षों में रखा है और उनके संपर्क में आए लोगों को भी क्वारंटीन किया गया है.

उन्होंने बताया कि इन लोगों के साथ यात्रा करने वाले लोगों, उनके परिवार के सदस्यों और उनके संपर्क में आए लोगों का पता लगाया जा रहा है. अन्य नमूनों का जीनोम अनुक्रमण (सीक्वेंसिंग) किया जा रहा है.

मंत्रालय ने कहा, ‘हालात पर निकटता से नजर रखी जा रही है और सतर्कता बढ़ाने, संक्रमण को रोकने, जांच बढ़ाने और नमूनों को आईएनएसएसीओजी प्रयोगशालाओं में भेजने के लिए राज्यों को नियमित सलाह दी जा रही है.’

उसने कहा कि यह गौर करने वाली बात है कि सबसे पहले ब्रिटेन में मिला वायरस का नया स्वरूप डेनमार्क, हॉलैंड, ऑस्ट्रेलिया, इटली, स्वीडन, फ्रांस, स्पेन, स्विट्जरलैंड, जर्मनी, कनाडा, जापान, लेबनान और सिंगापुर में भी पाया गया है.

मंत्रालय ने बताया कि 25 नवंबर से 23 दिसंबर के बीच यूके से करीब 33,000 यात्री भारत के विभिन्न एयपोर्ट्स पर उतरे हैं. सभी यात्रियों का पता लगाया जा रहा है और राज्यों द्वारा उनका आरटी-पीसीआर टेस्ट कराया जा रहा है. इसमें से अभी तक 114 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.

मालूम हो कि भारत ने ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए प्रकार के तेजी से फैलने के मद्देनजर 22 से 31 दिसंबर के बीच ब्रिटेन से भारत आने वाली सभी उड़ानों पर रोक लगा रखी है. वायरस का यह नया स्वरूप 70 प्रतिशत ज्यादा संक्रामक बताया जा रहा है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)