भारत

राजस्थान: ज़िंदा जलाई गई बलात्कार पीड़िता की मौत, रेप के आरोपी सहित दो लोग हिरासत में

राजस्थान के हनुमानगढ़ ज़िले का मामला. पीड़ित की नानी का आरोप है कि उनकी नातिन के साथ बलात्कार करने वाले प्रदीप विश्नोई ने ही उसे ज़िंदा जलाया है. पुलिस का कहना है कि सीसीटीवी में नज़र आ रहे युवक की पहचान नहीं हो पाई है. विश्नोई की भूमिका की जांच की जा रही है.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

जयपुर: राजस्थान में जिंदा जलाई गई 30 वर्षीय बलात्कार पीड़िता की शनिवार सुबह इलाज के दौरान जयपुर के अस्पताल में मौत हो गई. पुलिस ने इस सिलसिले में पूछताछ के लिए दो संदिग्धों को हिरासत में लिया है, जिनमें एक व्यक्ति वह है, जिसके खिलाफ महिला ने दो साल पहले बलात्कार की प्राथमिकी दर्ज कराई थी.

यह घटना हनुमानगढ़ जिले के गोलूवाला की है. मृतक महिला गोलूवाला में ब्यूटी पार्लर चलाती थीं.

पुलिस ने बताया कि बृहस्पतिवार (चार मार्च) तड़के एक व्यक्ति पीड़िता के मकान में घुसा और बाहर से कमरे में मिट्टी का तेल छिड़क कर दरवाजा खटखटाया. जब पीड़िता ने दरवाजा खोला आरोपी ने जलती हुई एक लकड़ी उसकी ओर फेंक दी, जिससे वहां आग लग गयी और महिला बुरी तरह से झुलस गई.

झुलसी हुई महिला को पहले सीएचसी गोलूवाला ले जाया गया और बाद में जयपुर के एसएमएस अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां शनिवार को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

महिला की नानी का आरोप है कि उनकी नातिन के साथ बलात्कार करने वाले प्रदीप विश्नोई ने उसे जिंदा जलाया है. पुलिस का कहना है कि मामले में जांच चल रही है और विश्नोई की भूमिका की जांच की जा रही है.

प्रदीप बिश्नोई पर आरोप है कि उसने दो साल पहले पीड़िता के साथ बलात्कार किया था. इस मामले में उसे जमानत मिली हुई है और पुलिस उससे इस मामले में भी पूछताछ कर रही है. पुलिस सूत्रों के अनुसार सीसीटीवी फुटेज में एक व्यक्ति घटना के बाद पीड़िता के घर से जाता दिख रहा है, लेकिन उसकी पहचान नहीं हो पाई है.

राज्य के पुलिस महानिदेशक एमएल लाठर ने बताया कि घटना को काफी गंभीरता से लिया गया और मामले की जांच की जा रही है. इस सिलसिले में हिरासत में लिए गए दो संदिग्ध व्यक्तियों से पूछताछ की जा रही है.

उन्होंने बताया कि जिला पुलिस अधीक्षक प्रीति जैन की निगरानी में डीएसपी स्तरीय जांच की जा रही है. अनुसंधान अधिकारी की मदद में साइबर तकनीक में दक्ष पुलिसकर्मियों को भी जांच टीम में शामिल किया गया है.

आधिकारिक बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री सहायता कोष से प्रभावित परिवार को पांच लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी है.

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, ‘एसपी प्रीति जैन ने कहा, मृतक महिला की नानी ने मामला दर्ज करवाया है. प्रदीप बिश्नोई से पूछताछ की जा रही है. सीसीटीवी और तकनीकी सहायता से मामले की तह तक पहुंचने का प्रयास जारी है. सीसीटीवी में और जिस व्यक्ति पर शक जताया गया है, वो दोनों अलग-अलग हैं.’

उन्होंने कहा, ‘पुलिस जघन्य अपराध करने वाले तक पहुंचने में जल्द सफलता हासिल करेगी. वायरल वीडियो पर उन्होंने कहा कि जिसका पीड़िता ने नाम लिया है, वह पहले ही मामले में नामजद है. पुलिस हर एक साक्ष्य को ध्यान में रखकर जांच कर रही हैं.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)