भारत

स्वयंभू संत दाती महाराज पर शिष्या ने लगाया बलात्कार का आरोप, केस दर्ज

शिष्या ने दाती महाराज पर दो साल पहले बलात्कार करने का आरोप लगाया. अपनी शिकायत में शिष्या ने कहा है कि दाती महाराज ने उन्हें चुप रहने की धमकी दी थी.

दाती महाराज (फोटो: फेसबुक)

दाती महाराज (फोटो: फेसबुक)

आसाराम और गुरमीत राम रहीम के बाद एक और स्वयंभू संत दाती महाराज पर बलात्कार का मामला दर्ज हुआ है. स्वयंभू संत दाती महाराज पर उनकी शिष्या ने ही बलात्कार का आरोप लगाया है. पुलिस ने बलात्कार और शोषण से जुड़ी धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज़ कर लिया है.

दक्षिण दिल्ली के फतेहपुर बेरी में स्थित शनिधाम मंदिर के साथ उनका आश्रम है.

अपनी शिकायत में शिष्या ने आरोप लगाया गया था कि शनि धाम मंदिर के अंदर दाती महाराज ने दो साल पहले उसके साथ बलात्कार किया था और इसके बारे में किसी को भी न बताने की धमकी दी थी. दाती महाराज के विरुद्ध भारतीय दंड विधान की धारा 376, 377, 354 और 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

दक्षिणी दिल्ली के फतेहपुर बेरी थाने में पच्चीस वर्षीय युवती ने बीते 10 जून को दाती महाराज के ख़िलाफ़ शिकायत दी है.

युवती ने पुलिस को बताया कि वह करीब एक दशक से महाराज की अनुयायी थी. लेकिन महाराज और चेलों द्वारा बार-बार बलात्कार किये जाने के बाद वह अपने घर राजस्थान लौट गई थी.

फिलहाल यह मामला 12 जून को ज़िला पुलिस से अपराध शाखा को हस्तांतरित कर दिया गया. पुलिस के संयुक्त आयुक्त (अपराध) आलोक कुमार ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि मामला अपराध शाखा को हस्तांतरित कर दिया गया है, हालांकि अभी उन्हें आधिकारिक आदेश नहीं मिले हैं.

महिला ने आरोप लगाया कि स्वयंभू बाबा के दिल्ली और राजस्थान स्थित आश्रमों में उसका शारीरिक शोषण किया गया.

युवती ने आरोप लगाया है कि बाबा की एक अन्य महिला अनुयायी उसे महाराज के कमरे में जबरन भेजती थी. मना करने पर धमकाती थी कि वह सभी से कहेगी कि पीड़िता अन्य चेलों के साथ भी यौन संबंध बनाती है.

वह करीब दो साल पहले आश्रम से भाग गई थी और लंबे समय से अवसाद में थी. अवसाद से उबर कर उसने अपने माता-पिता को पूरी बात बतायी और उनके साथ पुलिस को शिकायत दी है.

महिला ने अपनी शिकायत में दावा किया है कि दाती महाराज के आश्रम में अन्य कई महिलाओं का भी यौन शोषण हुआ है. महिला का कहना है कि दाती महाराज की प्रसिद्धि से वह डरी हुई थी, इस वजह से उसने दो साल तक शिकायत दर्ज नहीं करवाई.

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने पीड़िता से भेंट कर कहा कि उसे पुलिस सुरक्षा मिलनी चाहिए.

मालीवाल ने ट्वीट किया, ‘दाती महाराज द्वारा कथित रूप से बलात्कार की शिकार हुई युवती से मिली. लड़की की कहानी बेहद डरावनी है. ऐसा लगता है कि वह भीषण प्रताड़ना से गुज़री है. उसकी जान को ख़तरा है. दिल्ली पुलिस को उसे तुरंत सुरक्षा प्रदान करने के लिए कहा है. दाती महाराज को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए.’

दाती महाराज ‘शनि शत्रु नहीं मित्र है’ कार्यक्रम करके चर्चा में आए थे. मालूम हो कि दाती महाराज देशभर में हिंदू देवता शनिदेव के दुष्प्रभाव से जुड़े उपाय सुझाने और कर्मकांडों के लिए जाने जाते हैं. इसके अलावा अक्सर वह विभिन्न चैनलों पर ज्योतिष से संबंधित कार्यक्रम पेश करते हुए नज़र आते हैं.

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, दाती महाराज का जन्म 10 जुलाई, 1950 में राजस्थान के अलवर में हुआ था और वे सात साल की उम्र में संत बन गए थे. इससे पहले स्वयंभू संत आसाराम, गुरमीत राम रहीम, नारायण साईं, आध्यात्मिक विश्वविद्यालय चलाने वाल वीरेंद्र देव दीक्षित, नित्यानंद आदि पर बलात्कार का आरोप लग चुका है.

पत्रिका वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, दाती महाराज विभिन्न सामाजिक कार्यों में शामिल होते रहे हैं. बेटियों की शिक्षा के लिए भी वे काम करते रहे हैं. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान में भी वे शामिल रहे हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments