भारत

जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

बिहार की बेगूसराय लोकसभा सीट पर भाकपा के टिकट पर चुनाव लड़ने वाले कन्हैया कुमार राजद, कांग्रेस, हम पार्टी, रांकपा, शरद यादव की लोकतांत्रिक जनता दल और अन्य वामदलों के महागठबंधन के उम्मीदवार होंगे.

कन्हैया कुमार (फोटो: पीटीआई )

कन्हैया कुमार (फोटो: पीटीआई )

पटना: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार बेगूसराय से 2019 लोकसभा चुनाव लड़ेंगे.

युवा छात्र नेता को महागठबंधन का उम्मीदवार घोषित किया जाएगा. इस महागठबंधन में राजद, कांग्रेस, सीपीआई, जीतनराम मांझी की हम पार्टी, रांकपा, शरद यादव की लोकतांत्रिक जनता दल और बाकी वामदल शामिल रहेंगे.

टाइम्स ऑफ इंडिया की ख़बर के अनुसार लालू प्रसाद यादव परिवार के एक क़रीबी ने शनिवार को बताया कि कन्हैया भाकपा (सीपीआई) के औपचारिक उम्मीदवार होंगे, बेगूसराय लोकसभा सीट से महागठबंधन के उम्मीदवारी घोषित कर राजग को संदेश देने का एक प्रयास बताया जा रहा है.

भाकपा के राज्य सचिव सत्यनारायण सिंह ने बताया कि उनकी पार्टी सहित सभी वामदल चाहते हैं कि कन्हैया कुमार बेगूसराय से 2019 में लोकसभा चुनाव लड़ें. उन्होंने कहा कि राजद और कांग्रेस जैसे अन्य दल भी चाहते हैं कि वह चुनाव लड़ें.

यह पूछने पर कि क्या कन्हैया कुमार ने बेगूसराय से चुनाव लड़ने को लेकर अपनी सहमति दी है, सत्यनारायण ने कहा कि वे इसके लिए वह राजी हैं.

सिंह ने यह भी बताया कि सीटों के बंटवारे को लेकर कोई औपचारिक बातचीत नहीं हुई है, लेकिन बेगूसराय सीट पर कन्हैया कुमार चुनाव लड़ेंगे.

राजद प्रमुख लालू प्रसाद के भी इस संबंध में अपनी सहमति दिए जाने की चर्चा के बारे में सत्यनारायण ने कहा कि पूर्व में उनसे हुई वार्ता के दौरान वह एक सीट कन्हैया कुमार के लिए छोड़ देने को लेकर राजी थे.

उन्होंने बताया, ‘लालू जी ने एक अनौपचारिक बातचीत में बेगूसराय सीट को कन्हैया कुमार को देने को कहा था.’

उन्होंने बताया कि उनकी पार्टी ने अगले आम चुनाव में बिहार में छह लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है लेकिन इस बारे में अंतिम निर्णय हमख्याल दलों के साथ वार्ता के बाद लिया जाएगा.

जिन छह सीटों पर भाकपा अपना उम्मीदवार उतारना चाहती है, उनमें बेगूसराय, मधुबनी, मोतिहारी, खगड़िया, गया और बांका शामिल हैं.

कन्हैया मूल रूप से बेगूसराय जिले के बरौनी ब्लॉक की बीहट पंचायत के रहने वाले हैं. उनकी मां मीना देवी गांव के आंगनवाड़ी में काम करती हैं और पिता जयशंकर सिंह किसान थे.

मालूम हो कि बेगूसराय से वर्तमान में भाजपा के भोला सिंह सांसद हैं. भाजपा ने यह सीट 2014 चुनाव में राजद उम्मीदवार तनवीर हसन को 58000 वोटों से हराकर पहली बात जीती थी. तीसरे स्थान पर भाकपा के राजेंद्र प्रसाद सिंह थे.

राजद के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि सीट बंटवारे के फार्मूला के अनुसार ये सीट राजद के खाते में आनी चाहिए, लेकिन लालू यादव चाहते हैं कि इस सीट से कन्हैया को महागठबंधन का उम्मीदवार बनाया जाना चाहिए. हम इस सीट को छोड़ने को तैयार हैं.

ग़ौरतलब है कि दिल्ली के जेएनयू में नौ फरवरी 2016 को हुए प्रदर्शन और विवाद के बाद छात्रसंघ के तत्कालीन अध्यक्ष कन्हैया कुमार चर्चा में आये थे.

तब कुमार को पुलिस ने गिरफ़्तार कर 15 दिन जेल में भेज दिया था, जिसके बाद उन्हें ज़मानत मिली थी. कथित देश विरोधी नारेबाज़ी करने के मामले में पुलिस को कुमार के ख़िलाफ़ कोई सबूत नहीं मिला और उन्हें क्लीनचिट भी दे दी गई थी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments