राजनीति

करोड़ों की तादाद में घुसपैठिये घुस गए हैं और देश को दीमक की तरह चाट गए हैं: अमित शाह

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के दीमक वाले बयान पर बांग्लादेश ने जताई आपत्ति. बांग्लादेश के सूचना मंत्री ने कहा कि अमित शाह भारत-बांग्लादेश संबंधों पर बात करने के लिए योग्य नहीं हैं.

New Delhi: Bharatiya Janata Party President Amit Shah addresses a press conference, in New Delhi, on Monday. (PTI Photo/Kamal Singh) (PTI5_21_2018_000094B)

अमित शाह (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को दिल्ली में हुई एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि अगर 2019 लोकसभा चुनाव जीतते हैं, तो अवैध घुसपैठियों की पहचान कर उन्हें देश से बाहर निकाला जाएगा. शाह ने अवैध घुसपैठियों की तुलना दीमक से करते हुए कहा कि वे लोग देश का संसाधन ख़त्म कर रहे हैं.

दिल्ली के रामलीला मैदान में पूर्वांचल महाकुंभ को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि राजधानी दिल्ली भी अवैध घुसपैठियों की समस्या से जूझ रही है. शाह ने रैली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर हमला बोलते हुए कहा कि वे लोग वोटों की राजनीति करते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि विपक्ष का मुद्दा सिर्फ नरेंद्र मोदी हटाओ है, जबकि भाजपा का एजेंडा केवल विकास है.

अमित शाह ने कहा, ‘अवैध घुसपैठिये दीमक की तरह होते हैं. वे खाना खा रहे हैं जो कि हमारे गरीबों को जाना चाहिए और वे हमारी नौकरियां भी ने रहे हैं. ये हमारे देश में विस्फोट कराते हैं जिसमें बहुत सारे लोग मारे जाते हैं.’

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार शाह ने कहा, ‘दिल्ली के अंदर अवैध घुसपैठियों से परेशानी है या नहीं? इन्हें देश से निकालना चाहिए या नहीं? करोड़ों की तादाद में घुसपैठिये घुस गए हैं और दीमक की तरह चाट गए हैं देश को. उखाड़ फेंकना चाहिए या नहीं?

शाह ने आगे कहा, ‘साल 2019 में सत्ता में आने के बाद भाजपा राष्ट्रव्यापी स्तर पर देश में रहने वाले अवैध घुसपैठियों की पहचान कराएगी.’ केजरीवाल और राहुल पर आरोप लगाया कि जब इन पर कार्रवाई होती है, तो दोनों नेता शिकायत करते हैं.

राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) पर शाह ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष और आम आदमी पार्टी को घुसपैठियों पर अपना रुख़ साफ़ करना चाहिए. उन्होंने जोर देकर कहा, ‘हम वोट बैंक की राजनीति नहीं करते. हम हमारे दल से देश को बहुत ऊंचा मानते हैं.’

शाह ने कहा, आज देश भर में विकास की जो गंगा बह रही है, इसमें सबसे ज्यादा पसीना पूर्वांचली भाइयों ने बहाया है.’ विपक्ष के प्रस्तावित महागठबंधन पर निशाना साधते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि महागठबंधन की एक मात्र नीति है ‘नरेंद्र मोदी हटाओ’ है जबकि प्रधानमंत्री मोदी की नीति देश से ग़रीबी हटाओ, भूख की समस्या दूर करना और असुरक्षा दूर करना है.

केजरीवाल पर निशाना साधते हुए शाह ने सवाल पूछा कि केजरीवाल ने इन चार वर्षों में दिल्ली के लोगों के लिए कितने काम किए हैं? उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री का एक ही मंत्र है, ‘झूठ बोलना और बार-बार झूठ बोलना.’

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि उत्तर प्रदेश के पूर्वी हिस्से, बिहार और झारखंड के लिए कांग्रेस सरकार ने 13वें वित्त आयोग के अंतर्गत मात्र 4 लाख करोड़ रुपये दिए थे, लेकिन जबसे मोदी सरकार आई है तबसे पूर्वांचल के विकास के लिए 13.80 लाख करोड़ रुपये मुहैया कराया गया है.

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने पिछले साढ़े चार वर्षों में दिल्ली सरकार को 50,000 करोड़ रुपये दिए हैं.

उन्होंने कहा कि आज पूर्वांचलियों ने साबित कर दिया कि महाकुंभ किसे कहते हैं. शाह ने अपनी राष्ट्रवादी रचनाओं से हर वर्ग में अद्भुत ऊर्जा का संचार करने वाले राष्ट्रकवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’ के योगदान को भी याद किया.

शाह द्वारा बांग्लादेशियों को दीमक बताना उचित नहीं: बांग्लादेश के सूचना मंत्री

शाह के दीमक वाले बयान पर बांग्लादेश के सूचना मंत्री हसनुल हक इनू ने एनडीटीवी को बताया, ‘अमित शाह ने बांग्लादेशियों को दीमक के रूप में वर्णित करके एक अनचाही टिप्पणी की है. टिप्पणी उचित नहीं है.’

हसनुल ने कहा, ‘यह एक जानकारी की ग़लतफहमी है. मुझे उम्मीद है कि वह जानते हैं कि कोई बांग्लादेशी भारत में नहीं रह रहा है. भारत में रहने वाले सभी बांग्ला भाषी लोग बांग्लादेशी नहीं हैं. हम उनके बयान को कोई महत्व नहीं देते क्योंकि यह भारतीय सरकार का आधिकारिक बयान नहीं है.’

उन्होंने अमित शाह पर टिप्पणी करते हुए कहा, ‘अमित शाह भारत-बांग्लादेश संबंधों पर बात करने के लिए योग्य नहीं हैं.’

हक ने आगे कहा, ‘बांग्लादेश-भारत संबंध उत्कृष्ट हैं. हमारा विदेश मंत्रालय इस बयान को लेकर भारत के विदेश मंत्रालय से बात नहीं करेगा.’

मोदी जी ने चार साल में जितने काम किए उससे 10 गुना काम हमने किया: केजरीवाल

अमित शाह के आरोपों पर केजरीवाल ने पलटवार करते हुए जनता के पटल पर बहस की चुनौती दे दी. मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर कहा, ‘अमित शाह जी, जितने काम मोदी जी ने 4 साल में किए, उस से 10 गुना ज़्यादा काम हमने किए. मोदी जी ने जितने जनविरोधी और ग़लत काम किए, हमने एक भी ऐसा काम नहीं किया. मैं आपको चुनौती देता हूं. आइए इसी रामलीला मैदान में इस पर एक खुली बहस हो जाए-दिल्ली की सारी जनता के सामने.’

14वें वित्त आयोग को लेकर केजरीवाल ने शाह पर निशाना साधते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने सिर्फ 325 करोड़ रुपये दिए हैं और पूर्वांचल के लोग दिल्ली में भी रहते हैं. उन्होंने कहा, ‘आपकी सरकार ने उनके विकास के लिए पैसा क्यों नहीं दिया? दिल्ली में रहने वाले पूर्वांचलियों के खिलाफ यह भेदभाव क्यों?’

चार सालों में कोई काम नहीं किया शाह के इस आरोप पर केजरीवाल ने कहा, ‘आपको दिल्ली के लोगों ने दो ही काम दिए थे, सफ़ाई और पुलिस. आपने दोनों का बेड़ा गर्क कर दिया. न आपसे दिल्ली की सफ़ाई होती है और न पुलिस संभलती है. हमें दिल्लीवालों ने बिजली, पानी, शिक्षा और अस्पतालों की ज़िम्मेदारी दी थी. इनमें हुए अच्छे कामों का डंका आज पूरी दुनिया में बज रहा है.’

नोट: इस ख़बर में इससे पहले 100 करोड़ घुसपैठियों की बात भूलवश प्रकाशित हो गई थी, जिसे बाद में करोड़ों किया गया. इस भूल का हमें खेद है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments